नासिक में देखने लायक धार्मिक दर्शनीय स्थल

नासिक धार्मिक शहर

नासिक शहर भारत के महाराष्ट्र राज्य में गोदावरी नदी के किनारे बसा हुआ अति प्राचीन शहर है | यह मुंबई से १८० किमी की दुरी पर है |  इस शहर का सम्बन्ध त्रेता युग के श्री राम से भी है | वनवास के समय उन्होंने माता सीता और भाई  लक्ष्मण के साथ अधिकांश समय यही व्यतीत किया था |


नासिक में दर्शनीय स्थल

क्यों पड़ा इस शहर का नाम नासिक : नासिक शहर का नाम नासिका से बना है | इसी जगह लक्ष्मण ने रावण की बहिन शूर्पणखा की नासिका को काटा था |

श्री राम के वनवास निवास से घनिष्ट सम्बन्ध :

इस नगर की यात्रा में रामायण में बताई गयी  उनके रहने की जगह पंचवटी ,  सीता के अपरहण की जगह जो पञ्च बरगद के पेड़ के समीप है देखने को मिलती है | राम कुंड नामक स्थान पर श्री राम स्थान करते थे |

नासिक में देखने योग्य धार्मिक स्थल :

त्रयम्बकेश्वर ज्योतिर्लिंग :

नासिक से 38 किमी की दुरी पर यह शिवलिंग शिवजी के द्वादश ज्योतिर्लिंग  में शामिल है | इस शिवलिंग में बह्मा विष्णु और महेश त्रिदेव वास करते है | काले पत्थर से निर्मित यह मंदिर अपनी प्राचीन भारतीय स्थापत्य कला की बेहतरीन नमूना पेश करता है ।

पंचवटी

नासिक के उत्तरी भाग में पंचवटी नाम का पावन स्थान जहा भगवान श्री राम , माता सीता और भाई लक्ष्मण वनवास के समय निवास करते थे | यह जगह नासिक के सबसे पवित्र जगहों में से एक है |

सीता गुम्फा

सीता गुम्फा जिसे सीता गुफा के नाम से जाना जाता है | यह पंचवटी के समीप पाँच बरगद के पेड़ में पास की जगह है | संकरी सीढियों से इस गुफा में प्रवेश किया जाता है | इसी जगह से रावण से सीता का हरण किया था |

सुंदरनारायण मंदिर

नारायण भगवान विष्णु का नाम है अत: इस मंदिर में इनकी पूजा की जाती है | इस मंदिर की स्थापना गंगाधर यशवंत जी ने 1756 में की थी |

मुक्ति धाम मंदिर :

नासिक रोड रेलवे स्टैंड के पास ही यह मोक्ष देने वाला मंदिर स्थापित है | मोक्ष का मतलब जीवन मृत्यु के चक्र  से जीव की मुक्ति | शांति के सन्देश के लिए यह मंदिर मकराना के सफ़ेद मार्बल से बनाया हुआ है | गीता के 18 अध्याय इस मंदिर की दीवारों पर छपे गये है |

कैलाश मठ भक्तिधाम :

कैलाश मठ को भक्तिधाम के नाम से भी जाना जाता है | मंदिर में बहुत सारे देवी देवताओ के रूप दिखते है | सावन के महीने में बहुत सारे धार्मिक कार्यक्रम यहा आयोजित किये जाते है |

मोदाकेश्वर गणेश मंदिर

इस मंदिर के नाम से ही पता चलता है की यह गणेश जी का मंदिर है जिन्हें मोदक बहुत पसंद थे | ऐसा माना जाता है की मंदिर में स्थापित गणेशजी की मूर्ति स्वयं धरती से अवतरित हुई थी | इन्हे यहा शम्भू के नाम से भी जाना जाता है |

रामकुंड

रामकुंड नासिक का मुख्य धार्मिक स्थल है जहा स्नान करना गंगा में स्नान के तुल्य बताया गया है | यह गोदावरी नदी के तट पर है | कहते है श्री राम वनवास के समय यही पर स्नान किया करते थे | हरिद्वार में अस्थि विसर्जन की तरह यहा भी अस्थि विसर्जन पवित्र क्रम बताया गया है |

कालाराम मंदिर

काले पत्थरों से बना यह मंदिर नासिक के मुख्य प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है | मुख्य बस स्टैंड से यह 3 किमी की दुरी पर है | 2000 मजदूरो ने कई साल लगाके इस मंदिर का निर्माण 17 वी शताब्दी में किया |  इसमे लगा राम दरबार काले पत्थरो से बना हुआ बड़ा ही आकर्षक लगता है | राम नवमी का त्यौहार यहा बड़ी धूम धाम से मनाया जाता है |

सोमेश्वर मंदिर

सोमेश्वर मंदिर में भगवान शिव मुख्य आराध्य देव है | यह मंदिर नाशिक के प्राचीनतम मंदिरों में से एक है | शहर से यह 6 किमी की दुरी पर गंगापुर रोड पर है |

कुशवर्त तीर्थ :

यह नहाने का पवित्र कुंड है जिसमे गोदावरी का पानी बह्र्मगिरी पर्वत से आता है | कुम्भ मेले के समय इसमे साधू संत स्नान करते है |

तपोवन :

यह पंचवटी से 1.5 किमी दूर एक हरा भरा पेड़ो से आच्छादित भाग है | वनवास के समय इसी जगह से श्री राम और लखन फल एकत्रित किया करते थे | इसी जगह पर शुर्पंका की लखन ने नाक काटी थी | कुम्भ मेले के दोरान साधू संत इसी जगह अपने पांडाल लगाते है |

कैसे पहुंचे-

नासिक अच्छे से बस ,रेल और हवाई मार्ग द्वारा जुड़ा हुआ शहर है |
यह भी जरुर पढ़े

जाने महाकाल की नगरी उज्जैन के मंदिरों के बारे में

श्री राम जन्मभूमि अयोध्या धाम में मुख्य मंदिर

द्वारकाधीश का द्वारका धाम -सप्तपुरी और धाम में शामिल

जाने चमत्कारी मुख्य मंदिरों के बारे में और उनकी महिमा

शिव निवास की स्थली कैलाश की महिमा

सूर्य नमस्कार से कई है फायदे जाने

कहते है इस शिव खोरी गुफा में शिवजी का है वास – भक्त अन्दर जाने से डरते है

गुरु दत्ता के मुख्य सिद्ध मंत्र

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.