श्री गणेश द्वादश नाम स्तोत्र

आइये जाने भगवान श्री गणेश की कृपा दिलाने वाले श्री गणेश द्वादश नाम स्तोत्र के बारे में | इसका नित्य पाठ विध्नो को दूर सुख शांति बरसाता है | यहा यह स्त्रोत हिंदी और संस्कृत दोनों ही भाषा में दिए जा रहे है | आप साथ में भावार्थ भी देख सकते है | भगवान गणेश को जैसे दूर्वा अति प्रिय है वैसे ही यह पाठ भी उन्हें खूब भाता है |

श्री गणेश द्वादश नाम स्तोत्र

श्री गणेश द्वादश नाम स्तोत्र

सुमुखश्चैकदन्तश्च कपिलो गजकर्णकः।
लम्बोदरश्च विकटो विघ्ननाशो विनायकः॥
धूम्रकेतुर्गणाध्यक्षो भालचन्द्रो गजाननः।
द्वादशैतानि नामानि यः पठेच्छृणुयादपि॥
विद्यारम्भे विवाहे च प्रवेशे निर्गमे तथा।
संग्रामे संकटे चैव विघ्नस्तस्य न जायते॥

भावार्थ​:- १.सुमुख २.एकदन्त ३.कपिल ४.गजकर्ण ५.लम्बोदर ६.विकट ७.विघ्ननाश ८.विनायक ९.धूम्रकेतु १०.गणाध्यक्ष ११.भालचन्द्र १२.गजानन  ; इन बारह नामों के पाठ करने व सुनने से छः स्थानों १.विद्यारम्भ २.विवाह ३.प्रवेश(प्रवेश करना) ४.निर्गम​(निकलना) ५.संग्राम और ६.संकट में सभी विघ्नों का नाश होता है।
विशेष​:- सिद्धों के अनुसार, यात्रा में सुरक्षा के लिए, घर से निकलते समय उपरोक्त स्तोत्र का पाठ पूर्ण श्रद्धाभाव से करने पर श्रीगणपति यात्रा को अवश्य ही निर्विघ्न संपन्न कराते हैं।

॥हरिः ॐ तत्सत्॥

Other Similar Posts
कैसे करे गणेश विसर्जन जाने विधि

क्यों गणेश जी को तुलसी नही चढ़ाई जाती ?

गणेश जी को प्रसन्न करने वाले उपाय बुधवार को

भगवान गणेश से जुडी 8 कहानियाँ

भगवान श्री गणेश के 10 प्रसिद्ध मंदिर भारत में

भगवान गणेश लिए गये सभी अवतार कौनसे है

 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.