कैसे करे भैरव जयंती पर पूजा पाठ

भैरव की पूजा विधि – कालाष्टमी विशेष

Worship Method of Kaal Bhairava On Bhairav Jayanti 2018


मार्गशीर्ष मास की कृष्णपक्ष अष्टमी  (आठे) (  नवंबर / दिसम्बर  ) को भगवान शिव ने अपने त्रिनेत्र से इन्हे ब्रह्मा  का झूठा अहंकार खत्म  करने के लिए अवतरित किया था | इस साल 2018 में भैरव जयंती 29 November गुरूवार को आ रही है |
bhairv jayanti
यह शिव के पांचवे अवतार ही है | यह दिन भैरव जयंती , भैरव जन्मदिवस , भैरव  अष्टमी  या कालाष्टमी के नाम से पूजा जाता है | इनकी मुख्य सवारी स्वान (कुत्ता ) है |


इस दिन भैरव की पूजा उपासना और व्रत करने से भैरव अति प्रसन्न होकर अपनी कृपा की वर्षा करते है | दिन भर व्रत रखे रात्रि में जागरण करे | किसी नजदीकी भैरव मंदिर में जाकर एक सरसों के तेल का दीपक जलाये और काले तिल और उड़द भेंट करे | रात्रि में  जागरण काल में शिव पार्वती की भैरव कथा जरुर सुननी चाहिए और भैरव के 108 नाम का  जाप करना चाहिए | आस पड़ोस के कुत्तो को भी अच्छे भोज कराये और भैरव को प्रसन्न करे |

भैरव का साप्ताहिक दिन :

kale udad

भैरव का प्रिय दिन मंगलवार और रविवार का बताया गया है | इस दिन भैरव पूजा करने से भूत प्रेत बाधा दूर होती है | शत्रु बाधा दूर करने में भी भैरव पूजा जल्दी फलदायी है | इनका मुख्य शस्त्र दंड है अत: इन्हे दंडपति के नाम से भी जाना जाता है |

भैरव के पसंदीदा  भोग :

काले उड़द , काले गुलाब जामुन , मदिरा , मांस , काले तिल  , लाल अनार , कटहल आदि

भैरव से जुड़े लेख यह भी जरुर पढ़े

ब्रह्मा जी के शीश को क्यों काटा भैरव ने – भैरव जन्म कथा 

जाने भैरव जी के कौन कौन से रूप है

अति शीघ्र प्रसन्न होने वाले भैरव के महा मंत्र

उज्जैन का काल भैरव मंदिर – करते है मदिरा पान

भैरव के साथ पूजन करे भैरवियो की

भैरव की पूजा में रक्षा सूत्र पाठ

हर काम सिद्ध करता है भैरव के 108 नामावली

क्यों बने भैरव काशी के कोतवाल

 

3 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.