माता छिन्नमस्तिका कौन है और जाने उनके शक्तिपीठ के बारे में

Know About Goddess Chhinnmastika and her Famous shaktipeeth

कौन है माँ छिन्नमस्तिका

माँ का वो रूप जिसमे स्वयं माँ ने अपने शीश को काट दिया है और अपने मस्तक को छिन्न करने के कारण यह माँ छिन्न मस्तिका कहलाई  यह माँ के दस महाविद्याओ में से एक है |  उनकी गर्दन से लहू की  तीन धार निकल रही है जो उनके दोनों और सहचरी और स्वयं पान कर रही है | देवी माँ के पैरो में कामदेव और रति पड़े हुए है |

chhinnmastika maa

माता छिन्नमस्तिका का मुख्य मंदिर – शक्तिपीठ



भारत के झारखण्ड राज्य में रांची से लगभग 75 किमी की दुरी पर भैरवी नदी और दामोदर के संगम पर रामगढ़ जिले में  रजरप्पा जगह है , वही है  मुख्य शक्तिपीठो में से एक माता छिन्नमस्तिका का मंदिर |

यह तांत्रिक पीठ है और माँ कामख्या तारापीठ की तरह तांत्रिको का धाम है | देवी माँ के भक्तो का मुख्य आस्था का केंद्र जहा हर नवरात्रि भक्तो की भारी संख्या माँ के दर्शन पाने आती है | इस मंदिर के अलावा यहा सूर्य , हनुमान शिव आदि भगवानो के दस मंदिर ओर भी है | यह मंदिर बहुत पुराना है और इसकी जानकरी वेदों पुराणों में भी मिलती है | दुर्गा सप्तशती में इस मंदिर की बात की गयी है |छिन्नमस्तिका मंदिर शक्तिपीठ

आज भी बलि लगती है जानवरों की :

इस मंदिर में काली पूजा , मंगलवार और शनिवार को बकरों की बलि चढ़ाई जाती है बलि के बाद सिर पुजारी ले जाते है और धड बलि चढाने वाले को दे दी जाती है | यह चमत्कार है की बलि के दौहरान जो खून निकलता है उस पर मक्खी नही बैठती |

माँ छिन्नमस्तिका की उत्पत्ति की कथा

एक बार भगवती माँ अपनी दो सहचरियों के साथ नदी में स्नान कर रही थी | स्नान करते करते उनकी दोनों सहचरियो को भूख लगने लगी | भूख के कारण उनके चेहरे का रंग उड़ चूका था | उन दोनों ने माँ भगवती से उनकी भूख को शांत करने की विनती की |

माँ भगवती से उनकी यह हालत देखी नही जा रही थी | आस पास खाने पीने की भी कोई व्यवस्था नही थी | बस माँ का कलेजा भर गया | उन्होंने अपने शीश को तलवार से काट दिया और गर्दन के दोनों और खून की धार बहने लगी | माँ ने इन धारो से उन दोनों की भूख को शांत किया | एक तीसरी धार को माँ ने स्वयं पान किया |
अत: माँ अपने भक्तो में अति प्रिय हो गयी | जो दिल से माँ से कुछ मांगते है माँ उनके प्यार के लिए अपना शीश भी काट लेती है और अपना लहू पिला कर भी उनकी विनती पूरी करती है |

कब आती है छिन्नमस्तिका जयंती 

वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी तिथि को माँ छिन्न मस्तिका की जयंती धूम धाम से मनाई जाती है | भक्त इस दिन माँ के जागरण और दुर्गा सप्तशती के पाठ करते है | मां के दरबार को दुल्हन की तरह सजाया जाता है और नाना प्रकार के भोगो से माँ को भोग अर्पित किया जाता है | इस साल 2019 में 18 मई को यह जन्मोत्सव मनाया जायेगा |

यह भी जरुर पढ़े :

देवी माँ करती है यहा अग्नि से स्नान

पानी से दीपक जलने वाला देवी माँ का मंदिर

इस मंदिर में देवी की कोई मूर्ति नही बस होती है यन्त्र की पूजा

मुस्लिम देश में माँ भगवती की सदियों से जल रही है ज्योत

भारत के मुख्य तांत्रिक पीठ स्थान

नाग करता है कई सालो शिवजी की पूजा

देखे विडियो में नाग खुद कर रहा है शिवलिंग पर दूध से अभिषेक

 

माँ सती के मुख्य शक्तिपीठो की जानकारी यहा से ले

 

3 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.