बुद्ध पूर्णिमा का महत्व और पूजा विधि

बुद्ध पूर्णिमा वैशाख पूर्णिमा का महत्व

Importance of Buddha (Vaishakh) Poornima

वैशाख पूर्णिमा को बुद्ध पूर्णिमा भी कहते हैं। यह गौतम बुद्ध की जयंती है और उनका निर्वाण दिवस भी। इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी। यह गौतम बुद्ध की जयंती है और उनका निर्वाण दिवस भी। इसी दिन भगवान बुद्ध को बुद्धत्व की प्राप्ति हुई थी।

पढ़े : वैशाख मास का महत्व और महिमा

buddha purnima mahtav

हिन्दू धर्मावलंबियों के लिए बुद्ध विष्णु के नौवें अवतार हैं। अतः हिन्दुओं के लिए भी यह दिन पवित्र माना जाता है। यही कारण बिहार स्थित बोधगया नामक स्थान हिन्दू व बौद्ध धर्मावलंबियों के पवित्र तीर्थ स्थान हैं।  गृहत्याग के पश्चात सिद्धार्थ सात वर्षों तक वन में भटकते रहे। यहाँ उन्होंने कठोर तप किया और अंततः वैशाख पूर्णिमा के दिन बोधगया में बोधि वृक्ष के नीचे उन्हें बुद्धत्व ज्ञान की प्राप्ति हुई।



बुद्ध पूर्णिमा महत्व

पढ़े : बिहार में गया तीर्थ – यहा मिलता है मरने वालो की आत्मा को मोक्ष

पढ़े : पूर्णिमा के दिन टोटके और उपाय

बुद्ध पूर्णिमा पूजा विधि

इस दिन बौद्ध घरों में दीपक जलाए जाते हैं और फूलों से घरों को सजाया जाता है।

दुनियाभर से बौद्ध धर्म के अनुयायी बोधगया आते हैं और प्रार्थनाएँ करते हैं।

मंदिरों व घरों में अगरबत्ती लगाई जाती है। मूर्ति पर फल-फूल चढ़ाए जाते हैं और दीपक जलाकर पूजा की जाती है।

बोधिवृक्ष की पूजा की जाती है। उसकी शाखाओं पर हार व रंगीन पताकाएँ सजाई जाती हैं। जड़ों में दूध व सुगंधित पानी डाला जाता है। वृक्ष के आसपास दीपक जलाए जाते हैं।

इस दिन किए गए अच्छे कार्यों से पुण्य की प्राप्ति होती है।
पक्षियों को पिंजरे से मुक्त कर खुले आकाश में छोड़ा जाता है।

Other Similar Posts

कार्तिक पूर्णिमा के धन प्राप्ति के उपाय

गुरु पूर्णिमा के ज्योतिष उपाय

अमावस्या के यह उपाय चमका देंगे आपके भाग्य को

सर्व पितृ अमावस्या को जरुर करनी चाहिए अपने पितरो की पूजा

भगवान विष्णु के सभी अवतार

बुद्ध पूर्णिमा पर जलाये यहा दीपक , करे यह उपाय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.