वृन्दावन धाम में दर्शनीय स्थल और मंदिर

कृष्ण और राधे के परम का प्रतीक स्थल वृन्दावन धाम | ब्रज का ह्रदय ताज है वृन्दावन जहा राधे कृष्ण की रास लीला कण कण में समाई हुई है | यहा के राजा रानी कृष्ण और राधिका जी है | यहा राधा जी हर क्षण अपने भक्तो की रक्षा करती है |  “वृन्दस्य अवनं रक्षणं यत्र तत वृन्दावनं” |


vrindavan dham

यहा की एक प्रचलित कहावत है : जहाँ के कण कण में बसे हो श्याम वो श्री वृन्दावन धाम  , जहा पल पल भक्तो की रक्षा राधे करे वो है श्री वृन्दावन धाम |


गोवर्धन परिक्रमा का महत्व और महिमा

बृज क्षेत्र या बृज भूमि में आने वाले शहर :

जिस ब्रज के बारे में द्वापर युग में बताया गया है उसमे राजस्थान और उत्तर प्रदेश के ये शहर और नगर आते है |

मथुरा, वृन्दावन, गोकुल, गोवर्धन, आगरा , धोलपुर, जलेसर, भरतपुर, हाथरस, अलीगढ, इटावा, मैनपुरी, एटा, कासगंज और फ़िरोज़ाबाद आदि जिले आते है|

वृन्दावन मथुरा गोवर्धन की दुरी

वृन्दावन दिल्ली से 125 किमी ,  आगरा से 75 km और मथुरा से  18 km की दुरी पर है | वही इस स्थान से गोवर्धन की दुरी है 27 km |

वृन्दावन में दर्शनीय  मंदिर

यह तीर्थ स्थल राधे कृष्ण की दिव्य लीलाओ का केंद्र होने के कारण यहा अनेको मंदिर राधे श्याम के बने हुए है | आइये

जानते है यहा के मुख्य विश्व  प्रसिद्ध कृष्ण राधे के मंदिरों के बारे में |

बाँके बिहारी मन्दिर :

baanke bihari temple यह वृन्दावन का सबसे प्रमुख मन्दिर है। श्री बाँके बिहारी जी के दर्शन करे बिना तो वृन्दावन की यात्रा भी अधूरी रह जाती है। श्री बाँके बिहारी जी को स्वामी श्री हरिदास जी महारज ने वृन्दावन के निधिवन में प्रकट किया था। पहले बिहारी जी की सेवा निधिवन में ही होती थी। वर्तमान मन्दिर का निर्माण सन् 1864 में सभी गोस्वमियों के सहयोग से कराया गया। तब से श्री बाँके बिहारी जी महाराज इसी मन्दिर में विराजमान हैं। यहाँ पर मंगला आरती साल में सिर्फ़ एक बार जन्माष्टमी के अवसर पर होती है। अक्षय तृतीया पर चरण दर्शन, ग्रीष्म ऋतु में फ़ूल बंगले, हरियाली तीज पर स्वर्ण-रजत हिण्डोला, कृष्ण जन्माष्टमी, शरद पूर्णिमा पर बंशी एवं मुकुट धारण, बिहार पंचमी, होली आदि उत्सवों पर विशेष दर्शन होते हैं।

प्रेम मंदिर :


prem mandirयह राधे कृष्ण के प्रेम पर आधारित मंदिर वृन्दावन के मुख्य प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है | इस मंदिर का निर्माण जगद्गुरु कृपालु महाराज जी ने करवाया था | मंदिर इटैलियन करारा संगमरमर के प्रयोग से बढ़िया नक्काशी से बना है जिसे 11 साल में सौ करोड़ से ज्यादा रूपये लगाकर बनवाया गया है | मंदिर परिसर में एक विशाल हाल बना हुआ है जिसमें एक साथ 25000 लोगों के बैठने की व्यवस्था है | मंदिर के बहार बहुत ही सुन्दर बगीचा है जिसमे तरह तरह की लीलाए कृष्ण से जुडी हुई दिखाई देती है | संध्या को मंदिर तरह तरह की रौशनी से चकाचौंध रहता है |

राधा वल्लभ मन्दिर :

यह वृन्दावन का प्राचीन एवं प्रसिद्ध मन्दिर है। इसमें श्री हित हरिवंश द्वारा सेवित श्री राधावल्लभ जी के दर्शन हैं। श्री हितहरिवंश ने विवाह के समय दहेज के रूप में श्री राधावल्लभ विग्रह को प्राप्त किया था। “राधावल्लभ दर्शन दुर्लभ” यह उक्ति ही पर्याप्त है श्री राधावल्लभ जी की प्रेम तथा लाड़ से भरी जानकारी के लिए। जिस प्रेम भाव तथा कोमलता से इनकी सेवा पूजा होती है वह देखते ही बनती है। ये ठाकुर अपनी बाँकी छवि से सबको मोहित कर रहे हैं। यहाँ पर सात आरती एवं पाँच भोग वाली सेवा पद्धति का प्रचलन है। यहाँ के भोग, सेवा-पूजा श्री हरिवंश गोस्वामी जी के वंशजों द्वारा सुचारू रूप से की जाती है। यहाँ पर समाज गायन, व्याहुला उत्सव एवं खिचड़ी महोत्सव विशेष हैं।

श्रीनृसिंह मन्दिर :

श्री राधावल्लभ घेरे के प्रवेश द्वार के पास ही प्राचीन श्री नृसिंह जी भगवान् का मन्दिर है। नृसिंह चतुर्दशी के दिन शाम को यहाँ हिरण्यकशिपु वध की लीला का आयोजन होता है।iskon temple vrindavan

सेवा कुँज :

गोस्वामी हित हरिवंश द्वारा प्रकट किये गये लीला स्थलों में सेवा कुंज का विशेष स्थान है। यहाँ एक छोटे से मन्दिर में श्रीराधिका के चित्रपट की पूजा होती है, चित्र में श्री कृष्ण राधाजू के चरणों की सेवा कर रहे हैं। साथ में ही ललिता और विशाखा सखी के भी दर्शन हैं। आज भी श्री राधा-माधव यहाँ विहार करते हैं अतः रात्रि काल में कोई भी भक्त अन्दर प्रवेश नहीं करता यहाँ तक कि बन्दर, पक्षी भी स्वतः ही बाहर निकल जाते हैं। रसखान ने अपने पद में यहाँ की झाँकी का वर्णन इस प्रकार किया है-“देख्यो दुरयो वह कुंज कुटीर में, बैठयो पलोटत राधिका पायन”। यहाँ ललिता कुण्ड है जिसे रासलीला के समय ललिता जी को प्यास लगने पर श्रीकृष्ण जी ने अपनी मुरली से प्रकट किया।

पढ़े : कोकिलावन शनिदेव मंदिर – कृष्ण ने कोयल बनकर शनि को दिए दर्शन

पढ़े : रहस्यमयी वृंदावन का निधिवन – आज भी राधे संग रास रचाते है कृष्ण

राधा दामोदर मन्दिर:

इस मन्दिर में श्री राधा दमोदर जी महाराज के दर्शन है। इनके साथ सिंहासन में श्री वृन्दावन चन्द, श्री छैलचिकनिया, श्री राधाविनोद और श्री राधामाधव के विग्रह विराजमान हैं। सनातन गोस्वामी जी गोवर्धन की नित्य परिक्रमा करते थे। वृद्धावस्था में जब वे परिक्रमा करने में असमर्थ हो गये तब श्री कृष्ण ने बालक रूप में उनको दर्शन दिये तथा उन्हें गोवर्धन शिला प्रदान कर उसी की चार परिक्रमा करने का आदेश दिया। उस शिला में श्री कृष्ण जी का चरण चिह्न, गाय के खुर का चिह्न एवं बंशी का चिह्न अंकित है। सनातन गोस्वामी जी के तिरोभाव के पश्चात् श्री जीव गोस्वामी ने इस शिला को श्री राधा-दामोदर मन्दिर में प्रतिष्ठित किया। इस मन्दिर की चार परिक्रमा देने पर गोवर्धन की परिक्रमा का फ़ल मिलता है।

राधा रमण मन्दिर :

श्री राधा रमण जी का मन्दिर श्री गौड़ीय वैष्णव सम्प्रदाय के सुप्रसिद्ध मन्दिरों में से एक है। श्री गोपाल भट्ट जी शालिग्राम शिला की पूजा करते थे। एक बार उनकी यह अभिलाषा हूई की शालिग्राम जी के हस्त-पद होते तो मैं इनको विविध प्रकार से सजाता एवं विभिन्न प्रकार की पोशाक धारण कराता। भक्त वत्सल श्री कृष्ण जी ने उनकी इस मनोकामना को पूर्ण किया एवं शालिग्राम से श्री राधारमण जी प्रकट हुए। श्री राधा रमण जी के वामांग में गोमती चक्र सेवित है। इनकी पीठ पर शालिग्राम जी विद्यमान हैं।

श्रीराधा श्याम सुन्दर मन्दिर : सन् 1578 की बसंत पंचमी को श्रीराधा रानी जी ने अपने हृदय-कमल से श्री श्याम सुन्दर जी को प्रकट करके अपने परम भक्त श्री श्यामा नन्द प्रभु को प्रदान किया था। सम्पूर्ण विश्व में श्री श्याम सुन्दर जी ही एक मात्र ऐसे श्री विग्रह हैं जो श्री राधा रानी जी के हृदय से प्रकट हुए हैं। कार्तिक मास में प्रतिदिन यहाँ भव्य झाँकियों के दर्शन होते हैं।

श्री गोविन्द देव जी मन्दिर : यह वृन्दावन का ईंट-पत्थरों का बना प्रथम मन्दिर है। श्री गोविन्द देव जी का विग्रह श्री रूप गोस्वामी जी को गोमा टीला से मिला था। इस मन्दिर का निर्माण गौड़ीय गोस्वामी श्री रघुनाथ भट्ट के शिष्य जयपुर नरेश श्री मानसिंह ने संवत 1647 में कराया था। औरंगजेब के शासन काल में इस मन्दिर की ऊपरी मंजिलों को तोड़ दिया गया था। इसी कारण गोविन्द देव जी के विग्रह को जयपुर में राजा मानसिंह के राजभवन में ले जाया गया जहाँ वह आज भी दर्शनीय हैं। सन् 1748 ई० में पुनः श्री गोविन्द देव जी के प्रतिभू विग्रह की यहाँ स्थापना हूई एवं संवत 1877 में बंगाल के भक्त श्री नंदकुमार वसु ने वर्तमान मन्दिर का निर्माण कराया। यहाँ पर गोविन्द देव जी और उनके वाम भाग में श्री राधा जी विराजमान हैं। गोविन्द देव जी मन्दिर के पास ही श्री सिंहपौर हनुमान जी का मन्दिर है।

श्री मदन मोहन जी: यह मन्दिर आदित्य टीला पर स्थित है। प्राचीन मन्दिर का निर्माण राम दास कपूर द्वारा श्री सनातन गोस्वामी जी की प्रेरणा से कराया गया। मुगल शासकों के मन्दिरों पर हमलों के कारण श्री मदन मोहन जी को करौली में विराजमान कर दिया गया। आज भी वे करौली में ही सेवित हैं। पुनः इस मन्दिर का निर्माण नन्दकुमार वसु ने कराया। पुरी के राजा प्रताप रुद्र के पुत्र श्री पुरुषोत्तम ने अति सुन्दर श्री राधा एवं श्री ललिता जी के विग्रह वृन्दावन भेजे। श्री राधा जी को श्रीमदन मोहन जी के वामांग में एवं श्री ललिता जी को दाहिने भाग में प्रतिष्ठित कर दिया गया। ये सभी आज भी इस मन्दिर में सेवित हैं।

कृष्ण-बलराम मन्दिर (इस्कॉन) : यह मन्दिर वृन्दावन-छटीकरा मार्ग पर स्थित है। इसका निर्माण श्री ए०सी० भक्तिवेदान्त स्वामी द्वारा गठित अन्तर्राष्ट्रीय श्री कृष्णभावनामृत संघ के तत्वावधान में सन् 1975 में हुआ। प्रभुपाद के अनेक विदेशी शिष्यों की देखभाल में सेवापूजा की समस्त व्यवस्था रहने से यह अंग्रेज मन्दिर नाम से प्रसिद्ध हो गया। गर्भ-मन्दिर में तीन कक्ष हैं। मध्य कक्ष में श्री कृष्ण-बलराम के बहुत ही सुन्दर विग्रह हैं। बायीं ओर श्रीनिताई-गौरांग महाप्रभु सेवित हैं। दायें कक्ष में श्री राधा-श्यामसुन्दर युगल किशोर अपनी प्रियतमा सखी ललिता-विशाखा के साथ सुशोभित हैं।

श्री रंगनाथ जी मन्दिर : श्री वृन्दावन का यह सबसे विशाल मन्दिर है। दक्षिण शैली के इस वैभवशाली मन्दिर का निर्माण सेठ श्री राधाकृष्ण, उनके बड़े भाई सेठ लक्ष्मीचन्द्र तथा उनके छोटे भाई सेठ गोविन्द दास जी ने अपने गुरु की प्रेरणा से कराया था। मूल मन्दिर में श्री रंगनाथ जी विराजमान हैं, लक्ष्मी जी उनके चरणों की सेवा कर रही हैं। सोने का साठ फुट ऊँचा खम्भा, सोने की मूर्तियाँ, विशाल रथ दर्शनीय है। चैत्र मास में यहाँ पर भव्य मेले का आयोजन होता है जिसमें एक दिन रंगनाथ जी रथ में सवार होते हैं।

शाह जी का मन्दिर: यह टेड़े खम्भे वाले मन्दिर के नाम से प्रसिद्ध है। मन्दिर का निर्माण लखनऊ के कुन्दनलाल शाह जी ने कराया। इस मन्दिर में श्री राधा-रमण के विग्रह सेवित हैं। इस मन्दिर में संगमरमर के टेड़े खम्भे आकर्षित करते हैं। बसंत पंचमी पर भव्य बसंती कमरा दर्शनीय है।

गोपेश्‍वर महादेव : जब श्री कृष्ण महारास कर रहे थे, तो महादेव जी को इस दिव्यलीला को देखने की इच्छा हुई। लेकिन महारास में किसी भी पुरुष का प्रवेश वर्जित था। उल्लेखनीय है कि ब्रज की रसिक उपासना में श्री कृष्ण जी ही एक मात्र पुरुष हैं अन्य सभी सखियाँ। अतः शंकर जी ने अष्ट सखियों में प्रधान श्री ललिता सखी जी से गोपी बनने की दीक्षा ली। शंकर जी यहाँ गोपी रूप में विराजमान हैं। श्री गणेश जी, पार्वती जी, श्री नन्दीश्वर जी आदि साथ में विराजमान हैं।

कालीदह : यमुना जी में कालियानाग ने अपने विष से जीव जन्तुओ का रहना कठिन बना रखा था | बाल क्रीडा में कृष्ण यमुना जी में प्रवेश कर गये और कालिया नाग की शक्ति क्षीण कर उन्हें समुद्र में जाने का आदेश दिया। इसी प्रसंग की याद में यमुना तट पर कालीदह नामक स्थान प्रसिद्ध है |

केशीघाट : श्री कृष्ण ने यहाँ केशीदैत्य का वध किया था। यहाँ पर यमुना जी का मन्दिर भी स्थित है। नित्य सायं यहाँ यमुना जी की आरती होती है।

अक्रूर घाट : अक्रूर जी जब  कृष्ण और बलरामजी को वृन्दावन से मथुरा ले जा रहे थे। तो उन्होंने रास्ते में रथ को रोककर  यमुना स्नान की इच्छा जताई । जब अक्रूर जी ने यमुना जी में डुबकी लगाई उन्हें कृष्ण और बलराम के यमुना में ही दिव्य दर्शन हुए | तभी से ब्रह्महृद नामक स्थान वृन्दावन और मथुरा के बीच पवित्र तीर्थ बन गया |

Other Similar Posts

मुस्लिम भक्त कृष्ण के रसखान की कहानी जीवनी

भगवान कृष्ण के चमत्कारी धन प्राप्ति मंत्र

भगवान श्री कृष्ण की 16108 पत्नियाँ का रहस्य

भगवान को भोग लगाने की विधि और मंत्र

शिवपुराण : ये 12 संकेत बताते है की मृत्यु निकट है

 

 

 

 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.