तिरुपति बालाजी के मंदिर के इस रहस्यों को जानकर आपके उड़ जाएंगे होश

भारत के सबसे अमीर और धनवान मंदिरों में सबसे ऊपर जिस मंदिर का नाम आता है  वो है तिरुपति में स्थित वेंकटेश्‍वर भगवान का मंदिर | इसे हम तिरुपति बालाजी के नाम से भी जानते है | यह  तिरुमला की पहाड़ियों में बना भगवान विष्णु को समर्प्रित मंदिर है जहा हर साल करोडो भक्त दर्शन लाभ उठाने आते है | इस मंदिर से जुड़ी कई ऐसी रोचक बाते है जो इस मंदिर के प्रति भक्तो की आस्था ओर अधिक बढाती है | आइये जानते है इन रोचक तत्वों को …..


पढ़े : देवी देवताओ के चमत्कारी मंदिर

तिरुपति बालाजी रहस्य

तिरुपति बालाजी के मंदिर के रहस्य

-शायद दुनिया में वेंकटेश्‍वर भगवान की प्रतिमा एकमात्र ऐसी है जिसे पसीना आता है | साथ ही इस मूर्ति का का तापमान सदैव 110 फॉरेनहाइट रहता है |  जिसे पुजारी समय-समय पर बार बार पोंछते रहते हैं।

– बालाजी मंदिर के गर्भगृह में एक अखंड दीपक हमेशा जलता रहता है | इसमे ना कभी तेल ना कभी घी डाला जाता है | यह दीपक सभी के लिए पहेली बना हुआ है |

tirupati temple

– मंदिर से जुड़ा एक और विचित्र नियम यह है की इस मंदिर के गर्भगृह में सिर्फ एक ही गाँव के लोग प्रवेश कर सकते है |  साथ ही इसी गांव से भगवान के लिए फल, फूल, प्रसाद, भोग आदि आता है |


– हर गुरूवार को तिरुपति बालाजी के चन्दन का तिलक किया जाता है , जब ये लेप हटाया जाता है तो मूर्ति पर माँ लक्ष्मी के चिन्ह उभर जाता है |

-यहा बालाजी के मंदिर में पचाई कर्पूरम अर्पित किया जाता है जिसमे कपूर मिला होता है | यह  पचाई कर्पूरम किसी सामान्य पत्थर को चटका सकता है पर यहा स्तिथ मूर्ति पर इसका कोई प्रभाव नही पड़ता |

-इस मंदिर में वेंकटेश्वर स्वामी की मूर्ति पर सिर के बाल अत्यंत मुलायम और वास्तविक है |

tirupati balaji vainkeshwar

– वेंकटेश्वर स्वामी की मूर्ति का पिछला हिस्सा हमेशा नम रहता है ध्यान से सुनने पर इसमें से सागर की आवाज सुनाई देती है और यह आवाज कहां से आती है इसका अभी तक कोई पता नहीं लगा है।
-ऐसा माना जाता है कि 18 वी शताब्दी में यहां के राजा ने 12 व्यक्तियों को मारकर मंदिर की दीवार पर लटका दिया था उस समय भगवान स्वयं ही यहां पर प्रकट हो गए थे और यह मंदिर 12 सालों तकबंद रहा था |

अनोखा रिवाज

*इस मंदिर में एक ऐसी प्रथा है जो दुसरे मंदिरों से बिलकुल विपरीत है | यहा मंदिर में चढ़ाये गये पुष्प और तुलसी पत्ते मंदिर के पीछे बने कुएं में  डाले जाते है | इन्हे भक्तो में भी बांटा जाता है |

* इस मंदिर में आने वाले पुरुष और महिला अपने केश का दान करते है | ऐसी मान्यता है की उन केशो के साथ ही वे अपने बुरे कर्म और पाप यहा छोड़ जाते है |

* सबसे अमीर मंदिर होकर भी तिरुपति बालाजी को सबसे गरीब देवता के रूप में जाना जाता है जो धन के देवता कुबेर के ऋणी है | भक्त अपने भगवान को ऋण से उतारने के लिए दिल खोल कर सोने चांदी और रुपयों का दान करते है |

Other Similar Posts

भगवान श्री कृष्ण के प्रिय भोग कौनसे है

तिरुपति में केश (बालो) का दान क्यों किया जाता है

मदुरै का मीनाक्षी मंदिर – इन बातो के कारण है प्रसिद्ध

कन्या कुमारी यात्रा में जाने योग्य बाते

जगन्नाथ पुरी मंदिर के 10 मुख्य चमत्कार

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.