हरिद्वार यात्रा में दर्शनीय स्थल और मंदिर

haridwar temples

भगवान विष्णु के पद चिन्ह जहा पड़े है वो उत्तराखंड के चार धामों के पास बसा माँ गंगा नदी के किनारे बसा हरिद्वार है | हर शाम होने वाली आस्था से पूर्ण माँ गंगा आरती यहा की विशेष महत्व रखती है | देश विदेश से हर दिन इस आरती में शामिल होकर अपने जीवन को पाप रहित करने की चाह में हजारो भक्त माँ गंगा के दर्शन करने आते है | हरिद्वार का हिन्दू धार्मिक विषय में अत्यंत महत्व है | यहा घुमने फिरने और धार्मिक यात्रा के लिए अत्यंत खुबसूरत मंदिर बने हुए है | आइये जानते है हरिद्वार में कौन कौन से दर्शनीय स्थल है | यदि आप का कभी हरिद्वार जाना हो तो इन मंदिरों के दर्शन जरुर करे |

हरिद्वार में दर्शनीय मंदिर :

विष्णु घाट: हरिद्वार में इस जगह भगवान विष्णु ने स्नान किया था तभी से इसका नाम विष्णु घाट पड़ गया | हरिद्वार के घाटो पर आने वाले इस घाट पर आकर भी जरुर स्नान करके खुद की यात्रा को और भी मंगलमय करते है |

0) चंडी देवी मंदिर : यह मंदिर माँ काली को समर्प्रित है जो की हरिद्वार के पास 3.5 km की दुरी पर  नील पर्वत पर स्थापित है | ऐसा कहा जाता है की आदि शंकराचार्य जी ने यहा की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की थी | पहाड़ पर मंदिर होने के कारण भक्त उड़नखटोला द्वारा इस मंदिर तक जाते है |

1) मनसा देवी मंदिर : यह मंदिर हरिद्वार से 4.5 km की दुरी पर बिल्वा पर्वत पर स्तिथ है | यहा  भी जाने के लिए उड़नखटोला काम में लिए जाता है | इस मंदिर का सम्बन्ध ऋषि कश्यप से है | शक्तिपीठ के रूप में माँ मनसा अपने भक्तो के दुःखो को हर लेती है | यह हरिद्वार के  सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है |

2) हर की पौड़ी : हर की पौड़ी सबसे ज्यादा प्रसिद्ध घाट है गंगा के किनारे पर | दुनिया भर में सबसे प्रसिद्ध गंगा आरती यही ब्रहमकुंड में हर संध्या को की जाती है | इसी  जगह पर कुम्भ मेला अर्ध कुम्भ मेला भरता है |

3) शांतिकुंज : हरिद्वार में आने वाले भक्त इस जगह आकर शांति और धर्म के बारे में और भी बारीकी से जानते है | यह गायत्री परिवार द्वारा संचालित है | श्री राम शर्मा के द्वारा 1971 में इसकी स्थापना की गयी थी | पढ़े : गायत्री मंत्र जप विधि और फायदे


4) पतंजलि योगपीठ : यह योग और आयुर्वेद का बहुत बड़ा केंद्र है जो बाबा रामदेव जी द्वारा संचालित है | 2006 में इसकी स्थापना की गयी और आज पतंजलि के प्रोडक्ट घर घर में काम में लिए जा रहे है |

5) दक्ष महादेव मंदिर : भगवान शिव का यह मंदिर हरिद्वार से 5 किमी की दुरी पर कनखल पर स्थित है | दक्ष ब्रह्मा जी के पुत्र और फिर शिवजी के ससुर बने | उनकी पुत्री सती मैय्या थी |

6) भारत माता मंदिर : हरिद्वार के पास मोतीचूर जगह पर यह मंदिर बना हुआ है | यह मंदिर आठ मंजिल का बना हुआ और सफेद रंग का बड़ी ही सुन्दर है | यहा भारत के स्वतंत्रता सेनानियों के बारे में विस्तार से बताया गया है | पहली मंजिल में भारत माता की मूर्ति लगायी गयी है |

7) सप्तऋषि आश्रम : यहा किसी समय  सप्त ऋषि एक साथ तप साधना किया करते थे , इसी से इस आश्रम का नाम सप्तऋषि आश्रम हो गया है | यहा बहुत से दर्शनार्थी आते है | यहा एक रुद्राक्ष का पेड़ भी है जिसके दर्शन करना अति शुभ माना जाता है | यहा एक शिवलिंग 150 किलो का भी है जिसके दर्शन करने महाशिवरात्रि को अपार भीड़ आती है |

8) दूधाधारी महादेव मंदिर : दूध के रंग का सफेद मंदिर भगवान शिव के साथ साथ राम दरबार को भी समर्प्रित है | यहा शिव शंकर बर्फानी बाबा के रूप में दर्शन देते है | इस मंदिर की बनावट बहुत ही सुन्दर और दर्शनीय है |


9) वैष्णोदेवी मंदिर : जम्मू कश्मीर में जिस तरह माँ वैष्णो देवी का मंदिर है उसी बेस पर इस मंदिर का यहा निर्माण किया गया है | गुफा के माध्यम से माँ वैष्णो के दर्शन करना मन को रोमांचित करता है |

अन्य देख जो आपको पसंद आयेंगे :

ऋषिकेश में दर्शनीय मंदिर

भारत के चार धाम

रामायण के सच्चे सबूत मिल रहे है देखे विडियो के माध्यम से

क्या आपकी कुण्डली में है मंगलदोष – करे फिर यह उपाय

सूर्य को जल चढाते समय कौनसा मंत्र ले काम में

अमावस्या पर जरुर करे यह काम – चमक जाएगी सोई किस्मत

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.