कैसे करे पितृ दोष दूर , पितृ शांति के उपाय

क्या होता है पितृ दोष और इसके लक्षण : Pitra Dosh Ke lakshan Or Niwaran Upay हमारे कूल के किसी पितृ देवी देवता  की जब हम अनदेखी करते है या उन्हें सम्मान नही देते , किसी शुभ कार्यो पर उन्हें याद नही करते तो वे हमसे नाराज हो जाते है और हमें पितृ दोष का सामना करना पड़ता है | […]

Read more

श्रीफल नारियल

नारियल का हिन्दू धर्म में पूजन

श्रीफल नारियल का हिन्दू धर्म की पूजा  में महत्व : हिन्दू धर्म में पूजा पाठ आराधना में आपने नारियल का प्रयोग अवश्य किया होगा | कोई शुभ कार्य शुरू करना होता है तो नारियल को फोड़ कर वो कार्य शुरू किया जाता है | नारियल को फोड़ना एक बलि की तरह होता है जो अपने आराध्य देव को चढ़ाई जाती […]

Read more

भगवान नरसिंह जी की आरती

आरती नरसिंह भगवान की

Aarti  (हिन्दी) !! ॐ जय नरसिंह हरे,प्रभु जय नरसिंह हरे स्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे,स्तंभ फाड़ प्रभु प्रकटे जनका ताप हरे ॐ जय नरसिंह हरे !! !! तुम हो दिन दयाला, भक्तन हितकारी, प्रभु भक्तन हितकारी अद्भुत रूप बनाकर, अद्भुत रूप बनाकर, प्रकटे भय हारी ॐ जय नरसिंह हरे !! !! सबके ह्रदय विदारण, दुस्यु जियो मारी, प्रभु दुस्यु जियो मारी […]

Read more

होलिका दहन की पूजा कैसे करे

होलिका दहन प्रहलाद की भक्ति की शक्ति और भगवान विष्णु की कीर्ति की याद में मनाई जाती है | इस दिन सभी होलिका की पूजा करते है | होलिका की पूजा में काम आने वाली सामग्री : पवित्र जल का लोटा , कुमकुम , चावल , कच्चा सूत , मूँग , हल्दी गाठ , बताशे , नारियल पुष्प , गंध […]

Read more

विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह की कहानी

भगवान नरसिंह जी की महिमा Narsingh Avatar Story in Hindi नरसिंह भगवान अपने नाम के अनुसार आधे सिंह और आधे नर थे | शरीर मनुष्य का था पर चेहरा और हाथो के पंजे शेर के थे |  यह विष्णु के अवतार थे और उन्होंने यह रूप इसलिए धारण किया था की सिर्फ इसी रूप से वो हिरण्यकश्यप को मार सकते थे […]

Read more

भगवान विष्णु का कल्कि अवतार कलियुग में

कलियुग में कल्कि अवतार विष्णु

कलियुग और कल्कि अवतार ब्रह्मवैवर्त पुराण में बताया गया है की कलियुग में एक समय ऐसा आएगा जब मनुष्य कु उम्र औसत 40 वर्ष ही रह जाएगी | 16 वर्ष की उम्र में आते आते बाल सफ़ेद हो जायेंगे | तब भगवान विष्णु का फिर एक अवतार कल्कि अवतार होगा | यह तो हम भी देख रहे है की जैसे […]

Read more

बिहार में गया तीर्थ की महिमा

गया तीर्थ का धर्म में महत्व

बिहार की राजधानी पटना से करीब 104 किलोमीटर की दूरी पर बसा है गया जिला। धार्मिक दृष्टि से गया न सिर्फ हिन्दूओं के लिए बल्कि बौद्ध धर्म मानने वालों के लिए भी आदरणीय है। बौद्ध धर्म के अनुयायी इसे महात्मा बुद्ध का ज्ञान क्षेत्र मानते हैं जबकि हिन्दू गया को मुक्तिक्षेत्र और मोक्ष प्राप्ति का स्थान मानते हैं। – इसलिए […]

Read more

विष्णु लक्ष्मी की तपोस्थली – बद्रीनाथ धाम कथा

बद्रीनाथ धाम कथा

बद्रीनारायण धाम का महत्व और  विशेषता : बद्रीनाथ धाम को बद्रीनारायण बद्री विशाल आदि नामो से पहचाना जाता है | यह हिन्दुओ के मुख्यत चार  धामों में से एक है जो भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को समर्प्रित है | विष्णु भगवान के परम धामों में से एक बद्रीनाथ तीर्थ के दर्शन करना हर धार्मिक व्यक्ति का स्वपन होता है […]

Read more
1 8 9 10