सुहागिन औरतो के लिए मंगलसूत्र का महत्व

हिन्दू धर्म में सुहागिन महिलाओं के लिए सबसे अहम आभूषण उसका मंगलसूत्र ही होता है |  प्राचीन काल से मंगलसूत्र की बड़ी महिमा बताई गई है। मंगलसूत्र को शादी का प्रतीक चिन्ह और सुहाग की निशानी माना जाता है। हर विवाहित महिला के लिए यह बहुत खास जगह रखता है | पढ़े  करवा चौथ व्रत की पूजन विधि  पढ़े : […]

Read more

महिलाओं के सोलह श्रृंगार कौनसे है

स्त्रियों के 16 श्रृंगार सजने के लिए हिन्दू महिलाओं के लिए 16 श्रृंगार का विशेष महत्व है। विवाह के बाद स्त्री इन सभी चीजों को अनिवार्य रूप से धारण करती है। हर एक चीज का अलग महत्व है। हर स्त्री चाहती थी की वे सज धज कर सुन्दर लगे |  यह उनके रूप को ओर भी अधिक सौन्दर्यवान बना देता […]

Read more

56 भोग कौनसे होते है – जाने उनके नाम

भगवान की भोग प्रसादी में 56 भोग चढ़ाया जाता है | 56 भोग का महत्व और कथा भगवान श्री कृष्ण के बाल समय से जुडी हुई है |   भक्तो के मन में यह उत्सुकता रहती है की वे 56 प्रकार के भोग कौनसे कौनसे होते है | यह मीठे रसगुल्ले से लेकर इलायची तक होती है | ज्यादातर यह […]

Read more

क्यों लगता है भगवान के 56 भोग और महत्व

क्यों भगवान के 56 भोग चढ़ाया जाता है – महत्व और कहानी 56 भोग प्रसादी का कारण सबसे ज्यादा भगवान कृष्ण से जुड़ा हुआ है | यह प्रसंग उनके बालसमय का है जब उन्होंने ब्रज की रक्षा के लिए गोवर्धन पर्वत को धारण किया था | भगवान को लगाए जाने वाले भोग की बड़ी महिमा है। इनके लिए 56 प्रकार […]

Read more

सूर्य देव की पूजा में रखें इन बातों का विशेष ध्यान

हिन्दू धर्म के 5 मुख्य देवता में से एक है साक्षात् दिखाई देने वाला सूर्य देव | इनकी पूजा में सूर्य को जल चढ़ाना विशेष रहता है | सप्ताह में आने वाले रविवार का दिन इनकी पूजा के लिए मुख्य माना गया है | सूर्य उपासना विधि से हिन्दू भक्त सुबह उनकी पूजा करते है | ये ज्ञान, सुख, स्वास्थ्य, […]

Read more

देवी देवताओ की पूजा के मुख्य नियम

पूजा के नियम और ध्यान रखे ये बाते भगवान की पूजा आप सभी करते होंगे पर कुछ नियम और ध्यान रखे कुछ मुख्य बाते जिससे पूजा ज्यादा सार्थक हो | आइये जाने वे सभी मुख्य बाते और नियम | पढ़े :- पूजा आराधना : क्यों की जाती है भगवान की पूजा 1 भगवान शिव और सूर्य की पूजा कभी भी […]

Read more

भारत के महान 9 गुरु और उनकी महिमा

सनातन धर्म में प्रारंभ से ही गुरुओं के सम्मान की परंपरा रही है। हमारे धर्म ग्रंथों में ऐसे अनेक गुरुओं का वर्णन मिलता है, जिन्होंने गुरु शिष्य की महिमा और  परंपरा को नई ऊंचाइयां प्रदान की है। गुरु का अर्थ है अंधकार से प्रकाश की ओर ले जाने वाला यानी गुरु ही शिष्य को जीवन में सफलता के लिए उचित […]

Read more

पितरों का तर्पण विधि

कैसे करे पितरो का तर्पण पितरो का तर्पण श्राद्ध पक्ष के दिनों में किया जाता है | इनसे यदि किसी तरह का पितृ दोष हो तो वो दूर होता है | हमें पूर्वज आत्मो का आशीष प्राप्त होता है | घर में शांति रहती है और कलेश दूर होता है | तर्पण का अर्थ यही है की हमने उन्हें भुलाया […]

Read more

श्राद्ध पक्ष में क्या ना करे

श्राद्ध पक्ष में क्या ना करे श्राद्ध पक्ष पितरो को प्रसन्न करने का दिन होता है | इस दिन शास्त्र में बताये अनुसार पूजा करनी चाहिए | श्राद्ध पक्ष में ध्यान रखे ये नियम जिनसे हमारे पूर्वजो की आत्मा खुश हो जाये | इन कार्यो को नही करने से पितृ दोष से बचाव होता है | पढ़े पितृ दोष के […]

Read more

भगवान सूर्य देव के 108 नाम

संस्कृत में सूर्य देवता के १०८ नाम आइये जाने सूर्य देवता के वो दिव्य और चमत्कारी 108 नाम हिन्दी में अर्थ सहित | इन नामो को नित्य जो पढता है वो यश कीर्ति की प्राप्ति करता है | सूर्योsर्यमा भगस्त्वष्टा पूषार्क: सविता रवि: । गभस्तिमानज: कालो मृत्युर्धाता प्रभाकर: ।।1।। पृथिव्यापश्च तेजश्च खं वयुश्च परायणम । सोमो बृहस्पति: शुक्रो बुधोsड़्गारक एव […]

Read more
1 2 3 12