श्री राम वनवास के दौरान किन किन स्थानो पर ठहरे थे

पुराने उपलब्ध प्रमाणों और राम अवतार जी के शोध और अनुशंधानों के अनुसार कुल १९५ स्थानों पर राम और सीता जी के पुख्ता प्रमाण मिले हैं जिन्हें ५ भागों में वर्णित कर रहा हूँ सिंगरौर :- यह वनवास का पहला पड़ाव था | यह गंगा घाटी के तल पर प्रयागराज से 35 किमी की दुरी पर है | इसी स्थान […]

Read more

भारत के इन मंदिरों में होती है रावण की पूजा

भारत में इन जगहों पर होती है रावण की पूजा 8 Strange & Weird Temples of Ravana In India  भगवान शिव के परम भक्त और महान ज्ञानी लंकापति रावण को कौन नही जानता | वे वेदों के ज्ञाता और बहुत बड़े पंडित थे | उनके पिता ऋषि विश्रवा थे तो, उनकी माँ राक्षस कुल की थी , अपनी माँ के […]

Read more

दशहरे पर दुर्भाग्य पर विजय पाने के विशेष उपाय

दशहरे पर अपनी विजय प्राप्ति के उपाय What to do on Dussera to gain victory over evil powers त्रेता युग में सबसे कठिन कार्य था दस सिर वाले रावण का अंत करना जो श्री राम ने आश्विन मास की शुक्ल पक्ष की दशमी को पूर्ण किया था | यह दिन दशहरा के नाम से जाना जाने लगा | यह अधर्म […]

Read more

क्यों शूर्पणखा चाहती थी रावण का वध हो

शूर्पणखा चाहती थी रावण का सर्वनाश हम सभी जानते है की शूर्पणखा लंकापति रावण की असुर बहिन थी पर रावण और उसके सहयोगियों के पतन का एक बहुत बड़ा कारण भी यही बनी थी | महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण में एक प्रसंग ऐसा आया है जो बताता है की रावण की हार उसकी सगी बहिन शूर्पणखा भी चाहती थी […]

Read more

राम से पहले रावण को इन वीरो ने किया था परास्त

रावण इन वीरो से भी हारा था Who defeats Ravana except Ram and Bali? हम सभी जानते है की त्रेता युग में सबसे शक्तिशाली राजाओ में से एक था लंकापति रावण | उसकी दुर्गति श्री राम के हाथो होनी थी , इसी कारण उसने माँ सीता का अपहरण कर उसे लंका में कैद रखा | शिव का परम भक्त रावण […]

Read more

सीता नवमी | जानकी जयंती पर जाने माँ सीता से जुडी रोचक बाते

माँ सीता से जुडी कुछ रोचक बाते *जिस दिन माँ सीता का धरती पर प्राकट्य हुआ वो दिन सीता नवमी जानकी जयंती के रूप में मनाया जाता है | यह  वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को आता है | * माँ सीता को धरती की पुत्री कहा जाता है क्योकि इन्होने किसी महिला के गर्भ से जन्म ना […]

Read more

क्यों दिया राक्षस विभीषण ने राम का साथ

राक्षस विभीषण ने क्यों दिया राम का साथ रामायण में आपने देखा और पढ़ा होगा की विभीषण असुर कूल के थे फिर भी उन्होंने अपने असुर भाइयो रावण और कुंभकर्ण  का साथ ना देकर विष्णु के अवतार श्री राम का साथ दिया | आखिर कैसे एक असुर अपने भाइयो के प्राण संकट में डाल सकता है | आइये आज जानते […]

Read more

रावण राम के युद्ध में किसने दिया श्री राम को अपना रथ

रावण राम के युद्ध में किसने दिया श्री राम को अपना रथ रामायण एक ऐसा महा ग्रंथ है, जिसके हर प्रसंग को राम भक्त जानने के जिज्ञासु होते है । रामायण कई राम भक्तो ने लिखी है जिसमे सबसे पहली रामायण स्वयं हनुमान ने लिखी थी | वाल्मीकि जी की रामायण जन जन तक पहुंचे , इस उद्देस्य से उन्होंने […]

Read more

रावण के माता पिता , भाई बहिन और परिवार

कौन था रावण ? और उसका परिवार हम दशहरा (विजयादशमी ) को विजय दिवस के रूप में मनाते है | इसी दिन त्रेता में भगवान विष्णु के अवतार श्री राम ने लंकापति रावण और उसके साथ देने वाले योध्याओ का संहार किया था | ब्रह्मा जी के पुत्र मुनिवर पुलस्त्य हुए और उनका पुत्र था विश्रवाका | विश्रवाका जी की […]

Read more

कमलनाथ महादेव मंदिर , झाडौल -शिव से पहले होती है रावण की पूजा

कमलनाथ महादेव मंदिर – झाडौल – यहां भगवान शिव से पहले की जाती है रावण की पूजा राजस्थान में झीलों की नगरी उदयपुर से लगभग 80 किलोमीटर झाडौल तहसील में आवारगढ़ की पहाड़ियों एक ऐसी धार्मिक जगह है जिसका सम्बन्ध त्रेता युग से जुड़ा हुआ है | इस स्थान पर ही शिव के परम भक्त लंकापति रावण ने घोर तपस्या […]

Read more
1 2