सीता नवमी | जानकी जयंती पर जाने माँ सीता से जुडी रोचक बाते

माँ सीता से जुडी कुछ रोचक बाते *जिस दिन माँ सीता का धरती पर प्राकट्य हुआ वो दिन सीता नवमी जानकी जयंती के रूप में मनाया जाता है | यह  वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को आता है | * माँ सीता को धरती की पुत्री कहा जाता है क्योकि इन्होने किसी महिला के गर्भ से जन्म ना […]

Read more

क्यों दिया राक्षस विभीषण ने राम का साथ

राक्षस विभीषण ने क्यों दिया राम का साथ रामायण में आपने देखा और पढ़ा होगा की विभीषण असुर कूल के थे फिर भी उन्होंने अपने असुर भाइयो रावण और कुंभकर्ण  का साथ ना देकर विष्णु के अवतार श्री राम का साथ दिया | आखिर कैसे एक असुर अपने भाइयो के प्राण संकट में डाल सकता है | आइये आज जानते […]

Read more

विवाह पंचमी का क्या है खास महत्व

विवाह पंचमी का महत्व मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी को अयोध्या के राम ने माता सीता के साथ विवाह किया था तब से यह तिथि को राम जानकी विवाहोत्सव के रूप में मनाया जाता है . इसे विवाह पंचमी के नाम से कहते हैं. भगवान राम आदर्श पुत्र और मानवता के प्रतिक जबकि लक्ष्मी रूप में शक्ति  सीता थी | यह आदर्श […]

Read more

देश में एक मंदिर ऐसा भी, जहां महिला पंडित कराती हैं पूजा

आपने अक्षर देखा होगा की मंदिरों में पुरषों को प्रधानता दी जाती है | मंदिर के पुजारी भी पुरुष होते है पर देश में एक मंदिर ऐसा है जिसका सम्बन्ध त्रेता युग से है और उसमे पुजारी भी एक स्त्री है | यह मंदिर अहिल्या का है जिन्हें उनके पति ने अपने श्राप से पत्थर में बदल दिया था | […]

Read more

जानकी मंदिर जनकपुर नेपाल

जानकी मंदिर जनकपुर नेपाल राजा जनक के नाम पर नेपाल के इस शहर का नाम जनकपुर रखा गया है |  भगवान श्री राम की जीवनसंगिनी सीता उनकी पुत्री थी , इसी कारण उनका एक नाम जानकी भी था | यह नगरी मिथिला राज्य की राजधानी थी और  श्री राम का ससुराल है और सीता जी ने विवाह से पहले का अधिकतर […]

Read more

रावण राम के युद्ध में किसने दिया श्री राम को अपना रथ

रावण राम के युद्ध में किसने दिया श्री राम को अपना रथ रामायण एक ऐसा महा ग्रंथ है, जिसके हर प्रसंग को राम भक्त जानने के जिज्ञासु होते है । रामायण कई राम भक्तो ने लिखी है जिसमे सबसे पहली रामायण स्वयं हनुमान ने लिखी थी | वाल्मीकि जी की रामायण जन जन तक पहुंचे , इस उद्देस्य से उन्होंने […]

Read more

देवताओ के कहने पर सरस्वती ने दिलवाया राम को वनवास

देवताओं के इस छल की वजह से श्रीराम को जाना पड़ा था वनवास हमने पहले एक लेख में आप सभी भागवत प्रेमियों को यह बताया था की विष्णु के अवतार रूप में श्री राम का जन्म और वनवास नारद मुनि के श्राप के कारण हुआ था | पुराणों और धर्म ग्रंथो में जो भी लीलाए रची गयी है उनके पीछे […]

Read more

राम भक्त हनुमान को क्यों लगा भरत का बाण

भरत ने अपने बाण से हनुमान को क्यों घायल कर दिया था श्रीरामचरितमानस के लंकाकाण्ड से  मेघनाथ के एक दिव्य वार से लक्ष्मण बेहोश होकर धरती पर गिर पड़े और उनके प्राण संकट में आ गये | लंका के ही एक वैद ने लक्ष्मण को प्राण देने वाली संजीवनी बूटी के बारे में बताया । यह कार्य हनुमान को दिया […]

Read more

चार लाइन में समाई है सम्पूर्ण रामायण पाठ का सार – एक श्लोकी रामायण

एक श्लोकी रामायण में सम्पूर्ण रामायण पाठ का सार भगवान राम को समर्पित दो ग्रंथ मुख्यतः प्रसिद्ध है एक तुलसीदास द्वारा रचित ‘श्री रामचरित मानस’ और दूसरा वाल्मीकि कृत ‘रामायण’। इनके अलावा भी कुछ अन्य ग्रन्थ लिखे गए है पर इन सब में वाल्मीकि कृत रामायण को सबसे सटीक और प्रामाणिक माना जाता है। यह भी मान्यता है की सबसे पहली […]

Read more

हनुमान जी के पुत्र मकरध्वज के जन्म की कथा

हनुमान पुत्र मकरधवज की कथा हनुमान जी रामायण के मुख्य पात्रो में से एक है | शास्त्रों में इन्हे अजर अमर के साथ साथ अविवाहित बताया गया है | फिर भी बहुत कम लोगो को यह भी पता है की हनुमान जी का एक विवाह भी हुआ था और उनके एक पुत्र भी था | आइये जाने हनुमान के विवाह […]

Read more
1 2 3