क्यों शूर्पणखा चाहती थी रावण का वध हो

शूर्पणखा चाहती थी रावण का सर्वनाश हम सभी जानते है की शूर्पणखा लंकापति रावण की असुर बहिन थी पर रावण और उसके सहयोगियों के पतन का एक बहुत बड़ा कारण भी यही बनी थी | महर्षि वाल्मीकि द्वारा रचित रामायण में एक प्रसंग ऐसा आया है जो बताता है की रावण की हार उसकी सगी बहिन शूर्पणखा भी चाहती थी […]

Read more

राम से पहले रावण को इन वीरो ने किया था परास्त

रावण इन वीरो से भी हारा था हम सभी जानते है की त्रेता युग में सबसे शक्तिशाली राजाओ में से एक था लंकापति रावण | उसकी दुर्गति श्री राम के हाथो होनी थी , इसी कारण उसने माँ सीता का अपहरण कर उसे लंका में कैद रखा | शिव का परम भक्त रावण अत्यंत शक्तिशाली योध्या था पर श्री राम […]

Read more

सोने-चांदी व हीरे से बनी है ये रामायण, वर्ष में केवल 3 बार होते हैं दर्शन

सोने चांदी से बनी है यह सबसे महँगी रामायण रामायण हिन्दू सनातन धर्म का एक प्रसिद्ध महान महाकाव्य है।  यह विष्णु के अवतार श्री राम चन्द्र पर आधारित है जिन्होंने धर्म की रक्षा के लिए रावण सहित कई असुरो का संहार किया | इसे बाद में कई महा ज्ञानियो ने अपने अपने अंदाज में लिखा जिसमे एक थे तुलसी जी […]

Read more

महर्षि वाल्मीकि का जीवन परिचय – कहानी

महर्षि वाल्मीकि की कहानी भारत के प्रसिद्ध महाकाव्यो में से एक है  श्री राम के चरित्र पर लिखी गयी “रामायण ” इन्होने लिखी थी | इस रामायण को वाल्मीकि रामायण के नाम से जाना जाता है | अभी तक कई रचनाकारों ने कई रामायणे लिखी है पर सबसे उत्तम और सटीक रामायण महर्षि वाल्मीकि जी की ही मानी गयी है […]

Read more

गोस्वामी तुलसीदास जी कहानी और जीवन परिचय से जुड़ी बाते

गोस्वामी तुलसीदास जी का परिचय और जीवनी Goswami Tulsidas ji Story and Biography In Hindi हमारे हिन्दू धर्म में रामचरितमानस , सुन्दरकाण्ड , हनुमान चालीसा , बजरंग बाण हर हिन्दू के लिए वन्दनीय पाठ है |  ये चमत्कारी और विलक्षण पाठ हमें महाकवि गोस्वामी तुलसी दास जी ने अपनी रामभक्ति में दिया है | आज हर राम भक्त को हनुमान […]

Read more

सीता नवमी | जानकी जयंती पर जाने माँ सीता से जुडी रोचक बाते

माँ सीता से जुडी कुछ रोचक बाते *जिस दिन माँ सीता का धरती पर प्राकट्य हुआ वो दिन सीता नवमी जानकी जयंती के रूप में मनाया जाता है | यह  वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की नवमी को आता है | * माँ सीता को धरती की पुत्री कहा जाता है क्योकि इन्होने किसी महिला के गर्भ से जन्म ना […]

Read more

क्यों दिया राक्षस विभीषण ने राम का साथ

राक्षस विभीषण ने क्यों दिया राम का साथ रामायण में आपने देखा और पढ़ा होगा की विभीषण असुर कूल के थे फिर भी उन्होंने अपने असुर भाइयो रावण और कुंभकर्ण  का साथ ना देकर विष्णु के अवतार श्री राम का साथ दिया | आखिर कैसे एक असुर अपने भाइयो के प्राण संकट में डाल सकता है | आइये आज जानते […]

Read more

विवाह पंचमी का क्या है खास महत्व

विवाह पंचमी का महत्व मार्गशीर्ष शुक्ल पंचमी को अयोध्या के राम ने माता सीता के साथ विवाह किया था तब से यह तिथि को राम जानकी विवाहोत्सव के रूप में मनाया जाता है . इसे विवाह पंचमी के नाम से कहते हैं. भगवान राम आदर्श पुत्र और मानवता के प्रतिक जबकि लक्ष्मी रूप में शक्ति  सीता थी | यह आदर्श […]

Read more

देश में एक मंदिर ऐसा भी, जहां महिला पंडित कराती हैं पूजा

आपने अक्षर देखा होगा की मंदिरों में पुरषों को प्रधानता दी जाती है | मंदिर के पुजारी भी पुरुष होते है पर देश में एक मंदिर ऐसा है जिसका सम्बन्ध त्रेता युग से है और उसमे पुजारी भी एक स्त्री है | यह मंदिर अहिल्या का है जिन्हें उनके पति ने अपने श्राप से पत्थर में बदल दिया था | […]

Read more

जानकी मंदिर जनकपुर नेपाल

जानकी मंदिर जनकपुर नेपाल राजा जनक के नाम पर नेपाल के इस शहर का नाम जनकपुर रखा गया है |  भगवान श्री राम की जीवनसंगिनी सीता उनकी पुत्री थी , इसी कारण उनका एक नाम जानकी भी था | यह नगरी मिथिला राज्य की राजधानी थी और  श्री राम का ससुराल है और सीता जी ने विवाह से पहले का अधिकतर […]

Read more
1 2 3 4