ऋषि मार्कण्डेय मुनि की महिमा और जीवनी

मार्कण्डेय ऋषि ने मार्कण्डेय पुराण की रचना की जिसमे उन्होंने इसके प्रसंग क्रौष्ठि को सुनाये थे | इस पुराण में देवी कात्यायनी की विस्तार से महिमा बताई गयी है | इनके पिता मृकंड थे और ये स्वयं देवादिव महादेव के परम भक्त थे | शिव कृपा से इनका जन्म हुआ और इनकी आयु सिर्फ 16 साल की थी | मृत्यु […]

Read more

गांधारी के श्राप के कारण श्री कृष्ण के साथ यदुवंश का अंत

इतिहास का सबसे बड़ा युद्ध कुरुक्षेत्र का माना जाता है जिसमे भाई से भाई भिड़े , गुरु से शिष्य , दादा से पोते , मामा से भांजे और रिश्तो से रिश्ते | यह युद्ध श्री कृष्ण भगवान चाहते थे और वे चाहते तो इसे रोक सकते थे पर उन्होंने ऐसा नही किया | गांधारी अपने पुत्रो के मरने से अत्यंत […]

Read more

महर्षि अगस्त ने क्यों पी लिया समुन्द्र का पूरा जल

अगस्त मुनि द्वारा सागर का सम्पूर्ण जल पीने की कथा महाभारत के सभापर्व में एक प्रसंग आया है जिसमे बताया गया है कि एक बार लोक कल्याणार्थ महर्षि अगस्त ने समुन्द्र का पूरा जल पीकर देवताओ को दैत्यों पर विजय दिलवाई थी | एक बार इंद्र सहित सभी देवता अगस्त मुनि के आश्रम पहुंचे और उनसे कालेह और उसके साथियों […]

Read more

कैसे हुआ दैत्य और राक्षसों का जन्म – जाने उत्पति की कथा

संसार में सकारात्मकता और नकारात्मकता हमेशा उसी तरह विद्यमान रही है जैसे प्रकाश के साथ अँधेरा | सुख के साथ दुःख | परोपकार के साथ कपट | ऐसे ही देवताओ के साथ राक्षस भी उत्पन्न हुए है | यह सब प्रभु की माया का परिणाम है जो हमें इन दोनों के पृथक गुणों अवगुणों के बारे में बताता है | […]

Read more

भारत के महान सप्त ऋषि कौनसे है

भारत संतो की भूमि रहा है और संसार की रचना के साथ साथ ब्रह्मा जी ने अपने कई मानस पुत्रो को उत्पति कर ज्ञान , धर्म और नैतिक मूल्यों को संसार में पनपाया था | सप्त ऋषि सबसे महान ऋषियों को दर्शाते है | यह आकाश में स्तिथ सात तारो का समूह भी है जिनके नाम इन्ही ऋषियों के नाम […]

Read more

गोदावरी नदी का पौराणिक महत्व और अवतरण कथा

भारत की संस्कृति में साधू संतो , देवी देवताओ के साथ प्राकृतिक चीजो का भी बहुत पौराणिक महत्व रहा है | हमारे शास्त्रों में इनके लिए कई धार्मिक प्रसंग आये है | भारत की पवित्र नदियाँ , भारत के धार्मिक पर्वत भी अपने प्रसंगों और कथाओ के कारण पूजनीय रहे है | आज इसी सन्दर्भ में हम आपको गोदावरी नदी […]

Read more

महाशिवरात्रि क्यों मनाई जाती है ? इसके पीछे है बहुत से कारण , जाने इस व्रत का महत्व और कहानी

Kyo Manai Jati Hai MahaShivratri – Know Story and Importance about this fast . शिव पूजन का सबसे पावन दिन और रात महाशिवरात्रि को बताया गया है | यह भोलेनाथ को प्रसन्न करने का सबसे उत्तम दिन है | फाल्गुन कृष्ण पक्ष में आने वाली प्रदोष के अगले दिन शिवरात्रि मनाई जाती है | इस दिन के महत्व को लेकर […]

Read more

इन चीजो को भूलकर भी ना लगाएं पैर, जीवन हो जाएगा बर्बाद

Jeevan Me Kabhi Bhi Enke Pair Nahi Lagana Chahiye : हमारे प्राचीन संस्कार आदर और मानवीय मूल्यों के घोतक है | इनके पीछे वैज्ञानिक कारण और आध्यात्मिकता भी जुड़ी हुई है | भारतीय संस्कृति में बड़ो के चरण स्पर्श का आशीष प्राप्ति का भी महत्व अत्यधिक है | यह छोटो का बड़ो के पीछे सम्मान को दर्शाता है | मान्यता […]

Read more

मलमास में क्यों नही होते मांगलिक कार्य

Malmas Me kyo Nhi Kiye Jate Hai Shubh Kam हिन्दू कैलेंडर में ग्रहों की चाल के आधार पर 12 मास बताये गये है | आपने अपने बड़ो से यह सुन रखा होगा कि अभी मलमास चल रहा है तो कोई मांगलिक कार्य नही हो सकते | इसी मलमास शादी-ब्याह, गृहप्रवेश आदि शुभ कार्य करना वर्जित माना गया है | ऐसा […]

Read more

पौष बड़े का महत्व

क्यों लगता है भगवान को पौष बड़े का भोग पौष माह एक ऐसा माह है जब सामूहिक रूप से मंदिरों में पौष बड़ो को का आयोजन किया जाता है | भगवान की पूजा अर्चना और भोग लगाने के बाद इसे भक्तो में वितरित किया जाता है | सामूहिक रूप से चंदा एकत्रित कर के यह धार्मिक आयोजन क्रियान्वित किया जाता […]

Read more
1 2 3 7