भगवान शनि की पत्नियों के नाम स्मरण से दूर होते है शनि दोष

शनि की पत्नियों के नाम के मंत्र भगवान शनि देव सूर्य और भगवान विश्वकर्मा की पुत्री छाया के पुत्र है | अपने गुरु शंकर भगवान की तपस्या करके इन्हे नवग्रह का राजा का पद प्राप्त हुआ है | इन्हे मनुष्य के कर्मो के आधार पर दंड देने का भी कार्य दिया गया है | पीपल के पेड़ में शनि  निवास […]

Read more

कोई दवाई ना काम करे तो यह धन्वन्तरि मंत्र ले काम में

धन्वन्तरि रोग निवारण चमत्कारी  मंत्र कौन है धन्वन्तरि देवता पुराणों में समुन्द्र मंथन की कथा में बताया गया है की जो अमूल्य चीजे उस मंथन में प्राप्त हुई , उसमे से एक थे धन्वन्तरि देवता | चिकित्सा के भगवान हाथ में औषधियों का कलश लेकर प्रकट हुए और सबसे बड़े चिकित्सक कहलाये |  कार्तिक कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को धन्वन्तरि […]

Read more

कामदेव मंत्र से पाए सुन्दरता और आकर्षक व्यक्तित्व

आज सभी चाहते है की वे सुन्दर दिखे , इनका व्यक्तित्व कुछ ऐसा हो की लोग उनसे आकर्षित हो | वे जहा भी जाये उनका सम्मान हो , लोग उनकी बात सुने और माने | कुछ तो प्राकृतिक रूप से सौन्दर्य और व्यक्तित्व के धनी होते है पर कुछ को अपने शरीर और व्यक्तित्व पर अपने क्रिया कलापों , साधना […]

Read more

कितने मुखी रुद्राक्ष के लिए कौनसा मंत्र , आइये जाने

रुद्राक्ष का अर्थ है रूद्र का अक्ष अर्थात भगवान शिव के नेत्र के आंसू | एक बार महा तप के बाद जब शिवजी ने अपनी आँखे खोली तो उनके नेत्र से आंसू निकल गये और वे जिस स्थान पर गिरे वहा रुद्राक्ष फल के वृक्ष उत्पन्न हो गये | ये रुद्राक्ष अपने मुख से चौदह प्रकार के मिले | सभी […]

Read more

महामृत्युंजय मंत्र की रचना कैसे हुई

किसने की महामृत्युंजय मंत्र की रचना और जाने इसकी शक्ति शिवजी के अनन्य भक्त मृकण्ड ऋषि संतानहीन होने के कारण दुखी थे. विधाता ने उन्हें संतान योग नहीं दिया था. *मृकण्ड ने सोचा कि महादेव संसार के सारे विधान बदल सकते हैं. इसलिए क्यों न भोलेनाथ को प्रसन्नकर यह विधान बदलवाया जाए. *मृकण्ड ने घोर तप किया. भोलेनाथ मृकण्ड के […]

Read more

हनुमान रक्षा मंत्र के जप से बनेगा सुरक्षा कवच

हनुमान रक्षा मंत्र के जप से बनेगा सुरक्षा कवच भक्त हनुमान जी ने श्रीराम परम भक्त है जो की विष्णु भगवान के अवतार थे | वे स्वयं शिवजी के रूद्र अवतार है | उनकी पूजा से शिव और विष्णु दोनों की कृपा प्राप्त होती है | हनुमान जी को आठ चिरंजीवी में से एक माना जाता है | इनके बारे […]

Read more

एक श्लोकी भागवत को पढ़ने से मिलता है संपूर्ण भागवत का फल

एक श्लोकी भागवत आज जीवन अत्यंत व्यस्थ है | पर जीवन में धर्म और कर्म दोनों ही जरुरी है | समय के अभाव के कारण यदि आप सम्पूर्ण भागवत पुराण नही पढ़ पा रहे तो एक श्लोकी रामायण के सार की तरह एक श्लोकी भागवत पढ़कर जीवन को धन्य बना सकते है | यह मंत्र रूप में है जिसके लिए भगवान श्री […]

Read more

भगवान सूर्य देवता के विशेष मंत्र और जप विधि

सूर्य देवता के विशेष मंत्र भगवान सूर्य रोशनी के सबसे बड़े प्रतिक है | सिर्फ हिन्दू धर्म में ही नही सूर्य को देवता का स्थान दुनिया भर के धर्मो ने दिया है | इन्हे हिन्दू धर्म के मुख्य पांच देवता में स्थान प्राप्त है | ज्योतिष विज्ञान के अनुसार भगवान सूर्य की पूजा का सबसे बड़ा दिन रविवार को माना […]

Read more

किसी मंत्र को सिद्ध करके सिद्धि कैसे प्राप्त करे

मंत्र सिद्ध करने की विधि हर मंत्र के साथ उसके जाप के नियम जुड़े हुए होते है | मंत्र कब और कैसे सिद्ध होता यह जानना जपने वाले को आवश्यक है | मंत्र को सिद्ध करने के लिए उसका कितना जाप और किस माला से किस समय पर हो यह जानना अत्यंत जरुरी है | आइये जानते है हम मंत्र […]

Read more

भैरव शाबर मंत्र जो सर्व कार्य सिद्धि सम्पन्न करने वाला है

भैरव सर्व कार्य सिद्धि शाबर मंत्र भरण पोषण करने वाले महादेव शिव के अवतार है भैरव | वैसे तो भैरव के आठ रूप की मान्यता है इनका काल भैरव और बटुक भैरव रूप प्रसिद्ध है | तंत्र शास्त्र में माँ काली और भैरव सबसे बड़ी शक्ति माने गये है जो समस्त ब्रह्माण्ड को रचने वाले शक्ति और शिव की शक्ति […]

Read more
1 2 3 5