कैसे किया जाता है घर में तुलसी जी का विवाह

तुलसी जी का विवाह उसी तरह किया जाता है जैसे किसी कन्या का विवाह संपन्न होता है | तुलसी जी को बेटी के समान मानकर उसे भगवान शालिग्राम जी के साथ विवाह के बंधन में बांध दिया जाता है | हमारे धर्म ग्रंथो में बताया गया है की जिनके घर में कन्या नही होती उन्हें अपने जीवन में एक तुलसी […]

Read more

क्यों करवाया जाता है तुलसी जी का विवाह

गणेश का श्राप वृंदा  को प्राचीनकाल में भगवान विष्णु की की एक महान भक्त लड़की ने जन्म लिया जिसका नाम वृंदा था | यह लड़की भगवान विष्णु की भक्ति में ही लगी रहती है और अटूट विश्वास और निष्ठा से उनकी पूजा अर्चना करती थी | एक बार यह जंगल से गुजर रही थी तो इन्हे तपस्या में लीन गणेश […]

Read more

देव शयनी एकादशी

देव शयनी एकादशी कब आती है (Dev Shayani Ekadashi) पद्मा एकादशी या देव शयनी एकादशी आषाढ़ महीने के शुक्ल पक्ष की एकादशी को आती है जो इस साल 2017 में 4 जुलाई को आने वाली है | देव शयनी एकादशी का महत्व : इस एकादशी का महत्त्व और महिमा भगवान विष्णु के भक्तो के लिए अपार है | इस दिन […]

Read more

एकादशी पर क्या नही करना चाहिए

हमारे हिन्दू धर्म में वैष्णव सम्प्रदाय के लिए एकादशी का बहुत ज्यादा महत्व है | हर माह दो एकादशी आती है एक कृष्ण पक्ष की और दूसरी शुक्ल पक्ष की | इन दोनों में शुक्ल पक्ष में आने वाली एकादशी की महिमा ज्यादा है | एकादशी को हम ग्यारस के नाम से भी जानते है | धार्मिक ग्रंथो से वे […]

Read more

एकादशी पर चावल क्यों नही खाने चाहिए

एकादशी पर क्यों नही खाए चावल

हमारे धर्मग्रन्थ बताते है की एकादशी पर चावल खाना वर्जित है | यदि किसी ने व्रत किया है और उसने चावल का सेवन किया तो उसका व्रत का उसे कोई फल प्राप्त नही होता | आइये जाने पौराणिक कारण की  एकादशी पर चावल खाना क्यों वर्जित है  : एक कथा के अनुसार माँ पार्वती एकादशी के दिन  किसी बात से […]

Read more

देव उठनी एकादशी

देव उठनी एकादशी व्रत

यह मुख्य एकादशी देव उठनी और देवो उत्थान ग्यारस के नाम से भी जाती है |  साल में आने वाली 24 एकादशियो में इसका विशेष महत्व है | यह दिवाली के बाद ११वे आती है | इसे पापमुक्ति एकादशी के नाम से जाना जाता है | इसमे व्रत करने वाले भक्त को राजसूर्य यघ के समान फल की प्राप्ति होती […]

Read more

जलझूलनी एकादशी

जल झुलनी एकादशी व्रत

जलझूलनी एकादशी  भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की ग्यारस को आती है | इसे पद्मा एकादशी डोल ग्यारस  और परिवर्तनीय एकादशी के नाम से भी जाना जाता है | कहते है इस दिन भगवान विष्णु जी अपने शयन पर करवट बदलते है |  इसी दिन माता यशोदा ने  भगवान श्री कृष्ण के कपडे  धोये थे |  इस दिन जो भक्त […]

Read more