विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह की कहानी

भगवान नरसिंह जी की महिमा Narsingh Avatar Story in Hindi नरसिंह भगवान अपने नाम के अनुसार आधे सिंह और आधे नर थे | शरीर मनुष्य का था पर चेहरा और हाथो के पंजे शेर के थे |  यह विष्णु के अवतार थे और उन्होंने यह रूप इसलिए धारण किया था की सिर्फ इसी रूप से वो हिरण्यकश्यप को मार सकते थे […]

Read more

सावित्री के श्राप से ब्रह्माजी का एकमात्र मंदिर पुष्कर में

बह्र्माजी देव का पुष्कर मंदिर

Brahma Temple, Pushkar एक बार एक असुर (Demon ) की हत्या करते करते ब्रह्माजी  के हाथो से तीन कमल के पुष्प गिर गए जिससे धरती पर तीन झीले बन गयी । यही स्थान पुष्कर कहलाया । ब्रह्माजी  की इच्छा हुई की यहा हवन किया जाये पर उनकी पत्नी सावित्री इस हवन में आ नहीं सकी । हमारी परम्परा के अनुसार […]

Read more

जाने सृष्टि के रचियता ब्रह्माजी के बारे में

कौन है बह्र्माजी

भारतीय सनातन धर्म में त्रिदेव की के रूप में ब्रह्मा विष्णु और महेश को पूजा जाता हैं । इनमे ब्रह्माजी को इस सृष्टी का रचियता का पद प्राप्त है । यह बह्रम लोक में निवास करते है पर कमल इनका सबसे प्रिय पुष्प है । इनके चार मुख है जो चारो दिशाओ का प्रतिनिदित्व करते है । इनकी जीवन संगिनी […]

Read more

ब्रह्म मुहूर्त की महिमा

ब्रह्म मुहर्त का महत्व

ब्रह्म मुहूर्त क्या है ? हम्हारे धर्मग्रंथो में  ब्रह्म मुहूर्त रात्रि के अंतिम पहर को बताया गया है जो सूर्योदय से चार घडी (डेढ़ घंटे ) पहले बताया गया है | यह समय निद्रा त्याग के लिए सबसे उत्तम है | इस समय सोना  शास्त्र के विरुद्ध है | शास्त्र में बताया गया है की “ब्रह्ममुहूर्ते या निद्रा सा पुण्यक्षयकारिणी”। […]

Read more

मंगल भवन अमंगल हारी चौपाई चौपाई

मंगल भवन अमंगलकारी चौपाई रामचरितमानस

श्री तुलसीदास जी महाराज ने रामचरित मानस से बहुत ही प्यारी चौपाई लिखी है जो भक्तो को अति प्रिय और याद भी है | यह मंगल करने वाली और अमंगल का नाश करने वाली मंत्र समान चौपाई है | आइये जाने मंगल भवन अमंगल हारी चौपाई का हिंदी में अर्थ सहित भावार्थ : मंगल भवन अमंगल हारी द्रवहु सुदसरथ अजिर […]

Read more

आठ चिरंजीवी जो अभी तक जीवित है

आठ चिरंजीवी

हिंदू इतिहास और पुराण अनुसार ऐसे सात व्यक्ति हैं, जो चिरंजीवी हैं। यह युगों पहले जन्मे और अभी तक इसी धरती पर वास करते है | इनमे से बहुत आशीष से और कुछ दण्ड रूप में इस धरती पर रह रहे है | यह दिव्य शक्तिओ के मालिक है और अष्ट सिद्धियों के प्राप्ति है : इस श्लोक के माध्यम […]

Read more

कैसे चढ़ाये हनुमान जी के चोला

हनुमान जी के चोला चढाने की विधि

हनुमान जी को  शीघ्र प्रसन्न करने का उपाय है की उन्हें मंगलवार या शनिवार को सिंदूरी चोला चढ़ाया जाये | अपने भगवान श्री राम के दीर्घायु के लिए उन्होंने यह चोला धारण किया था | इस चोले को चढाते समय कुछ बाते जरुर ध्यान रखे | शुद्ध जल और गंगा जल से स्नान : सबसे पहले हनुमानजी की प्रतिमा को […]

Read more

सनातन धर्म में 84 लाख योनियां

84 लाख योनियां | 84 Laakh Yoni ka Sach हिन्दू धर्म में धर्मग्रंथो की मान्यता के अनुसार जीवात्मा 84 लाख योनियों में भटकने के बाद मनुष्य जन्म पाती है। 84 लाख योनियां निम्नानुसार मानी गई हैं। यह मनुष्य जीवन अनमोल है जिसमे भक्ति विवेक से मनुष्य इन योनियों के बंधन से छुटकारा पा कर मोक्ष प्राप्त कर सकता है | […]

Read more

16 संस्कार सनातन हिन्दू धर्म

सनातन धर्म में संस्कार

हम्हारे हिन्दू धर्म में समाजहित के लिए 16 संस्कार बताये गये है | इनका पालन हम्हे करना चाहिए | इसने पीछे भौतिक , आध्यात्मिक , सांसारिक और शारीरिक शक्तियाँ विद्यमान होती है | 1. गर्भाधान संस्कार ( Garbhaadhan Sanskar) – गर्भ में पलने वाला शिशु योग्य , स्वस्थ और गुणशाली हो , इस अभिलाषा से किया जाने वाला संस्कार गर्भधारण […]

Read more

मंदिरों में चरणामृत का महत्व

चरणामृत की महिमा

चरणामृत का क्या महत्व है? चरणामृत दो  शब्दो  चरण +अमृत से मिलकर बना है , इसका सीधा सा अर्थ है ईश्वर के चरणों को स्पर्श करने वाला जल जो अब उनके पैरो के स्पर्श से अमृत बन गया है | हम मंदिरों में यही चरणामृत प्राप्त करते है जो मंदिर में देवी देवताओ के चरणों को धुला कर भक्तो को […]

Read more
1 18 19 20 21 22