आदि शंकराचार्य का जीवन परिचय और कहानी

आदि गुरु शंकराचार्य पूज्य श्री आदि गुरु शंकराचार्य जी के विषय में कुछ भी लिखना समुन्द्र के सामने एक नन्ही सी बूंद के समान है | उनकी महानता को लिखने के लिए कलम शाई सब तुच्छ पड़ जायेंगे | वे अलौकिक प्रतिभा , चरित्रबल , तत्वज्ञान और लोक कल्याण के लिए छोटी से उम्र में देश के प्रति समर्पण करने […]

Read more

पुराणों में बताया गया कलियुग , आज हो रहा है सच्च

पुराणों में बताया गया है कलियुग , हो रहा है आज सच्च हिन्दू धर्म के बहुत सारे पुराणों में चार युगों में अंतिम युग कलियुग के बारे में पहले से ही भविष्यवाणी की जा चुकी है | आज इन्हे पढने पर यह सत्य साबित होते नजर आ रहे है | चाहे विष्णु पुराण हो ,  या भागवत या कल्कि पुराण […]

Read more

दान के प्रकार – कब और कैसे करे दान

भारतीय संस्कृति मे दान का महत्व  बताया गया है हमारे यहाँ जप तप दान यज्ञ का बड़ा भारी प्रभाव है। दान का अर्थ है देना , और वो भी उसे जिसे उसकी जरुरत हो | भूखे को रोटी , नंगे को कपडे , प्यासे को पानी | यह भी ध्यान रखे की दान करते समय क्या नियम है   | […]

Read more

उपवास और व्रत करने के फायदे

उपवास क्या है और उसका महत्व ?  भोजन के बिना कुछ अवधि तक रहते हुए मानसिक और शारीरिक तप करना उपवास कहलाता है। उपवास कुछ घंटो का या पुरे दिन का हो सकता है | नवरात्रि के दिनों में भक्त पुरे नौ दिन का उपवास भी रखते है | इसका एक भाग है निर्जल उपवास जिसमे ना कुछ खाया और […]

Read more

किसी मंत्र को सिद्ध करके सिद्धि कैसे प्राप्त करे

मंत्र सिद्ध करने की विधि हर मंत्र के साथ उसके जाप के नियम जुड़े हुए होते है | मंत्र कब और कैसे सिद्ध होता यह जानना जपने वाले को आवश्यक है | मंत्र को सिद्ध करने के लिए उसका कितना जाप और किस माला से किस समय पर हो यह जानना अत्यंत जरुरी है | आइये जानते है हम मंत्र […]

Read more

क्यों पहनते हैं जनेऊ और जाने महत्व और होने वाले लाभ

क्यों पहनते हैं जनेऊ और मिलने वाले लाभ हिंदू धर्म में सोलह संस्कार होते है जिनमें से एक यज्ञोपवीत संस्कार भी है. इसका दूसरा नाम जनेऊ संस्कार हैं. जनेऊ को उपवीत, यज्ञसूत्र, व्रतबन्ध, बलबन्ध, मोनीबन्ध और ब्रह्मसूत्र भी कहते हैं. इसे पुरुष द्वारा धारण करने की परम्परा प्राचीन है. वेदों और धार्मिक पुराणों में यज्ञोपवीत के महत्व और महिमा के […]

Read more

भारत के मुख्य पवित्र धार्मिक पर्वत

भारत के मुख्य पवित्र धार्मिक पर्वत हिन्दू धर्म में भगवान को कण कण में बताया गया है | हम प्रकृति में भी देवता को देखते है | हमने पहले आपको बताया था की हिन्दू धर्म में वे 10 पवित्र और धार्मिक पेड़  जिनका पूर्ण सम्मान और वंदना की जानी चाहिए | भारत की पवित्र नदियों के बारे में भी बताया […]

Read more

होलाष्टक क्या है

होलाष्टक पर वर्जित शुभ कार्य होलाष्टक के समय शुभ कार्य वर्जित होते है | यह फाल्गुन शुक्ल पक्ष की अष्टमी को लगता है | होलाष्टक फिर आठ दिनों तक रहता है और सभी शुभ मांगलिक कार्य रोक दिए जाते है | यह दुलहंडी पर रंग खेलकर खत्म होता है | होलाष्टक पर होते है 2 लकड़ी की स्थापना फाल्गुन शुक्ल […]

Read more

वास्तु शास्त्र के हिसाब से शुभ वास्तु चिन्ह और प्रतीक

वास्तु शास्त्र में कई ऐसी शुभ और धार्मिक वस्तुओं के बारे में बताया गया है, जो घर के वातावरण में सकारात्मक उर्जा (positive energy ) को बढाती है | इससे घर में सभी के स्वास्थ्य अच्छे रहते है | घर में सुख आनंद और समृधि का वास हो जाता है | यदि घर में कोई वास्तु दोष भी है तो […]

Read more

हिन्दू धर्म में 10 सबसे पवित्र और पूजनीय वृक्ष

पवित्र और धार्मिक वृक्ष (पेड़ ) जिनकी होती है पूजा हिंदू धर्म का वृक्ष से गहरा नाता है। वृक्ष की रक्षा के लिए कई लोगो ने अपनी जान तक दी है | ये पेड़ प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप में सदियों से मनुष्यों को अन्न फल फुल लकड़ी और शरण देते आये है  | शास्त्रों के अनुसार जो व्यक्ति एक पीपल, […]

Read more
1 2 3 16