पञ्च प्रयाग जहा होता है पवित्र नदियों का संगम

उत्तराखंड के पञ्च प्रयाग Five Confluence of Uttarakhand देव भूमि उत्तराखंड के गढ़वाल क्षेत्र में हैं पांच प्रयाग है | यहा पवित्र नदियाँ आपस में मिलती है और आगे बढती है | यह पांच प्रयाग देवप्रयाग, रूद्रप्रयाग, कर्णप्रयाग, नंदप्रयाग और विष्णु प्रयाग के नाम से जाने जाते है | अब आइये जानते है इन सभी पांच प्रयागों की कहानी : […]

Read more

चार धाम यात्रा 2018 – कब खुलेंगे कपाट

कब खुलेंगे चार धाम मंदिरों के कपाट 2018 आइये जानते है की भारत के उत्तराखंड के चार धाम की यात्रा 2018 में कब से शुरू हो रही है | यह चारो धाम दुर्गम जगह पर है अत: हर साल ये यात्राये सिर्फ छ माह के लिए ही चालू की जाती है | उत्तराखंड के गढ़वाल मंडल में बसे ये चारो […]

Read more

व्यास पोथी – इस स्थान पर वेद व्यास जी ने गणेश जी से महाभारत लिखवाई थी

व्यास पोथी जहा लिखी गयी महाभारत उत्तराखंड की पवित्र देव भूमि कई प्रसिद्ध तीर्थ स्थल बने हुए है जो भक्तो की आस्था के रंग से हिन्दू पवित्र स्थानों में सुसज्जित है | उत्तर के चार धाम जैसे बद्रीनाथ , केदारनाथ , गंगोत्री और यमुनोत्री इसी राज्य में है | इसी स्थान पर  पांडवो द्वारा स्थापित चमत्कारी लाखामंडल शिवलिंग , मरे […]

Read more

आदि शंकराचार्य का जीवन परिचय और कहानी

आदि गुरु शंकराचार्य पूज्य श्री आदि गुरु शंकराचार्य जी के विषय में कुछ भी लिखना समुन्द्र के सामने एक नन्ही सी बूंद के समान है | उनकी महानता को लिखने के लिए कलम शाई सब तुच्छ पड़ जायेंगे | वे अलौकिक प्रतिभा , चरित्रबल , तत्वज्ञान और लोक कल्याण के लिए छोटी से उम्र में देश के प्रति समर्पण करने […]

Read more

लाखामंडल शिवलिंग का चमत्कार

लाखामंडल शिवलिंग- कर देता है मरे हुए व्यक्ति को जीवित लाखामंडल  का शिव मंदिर, एक ऐसी प्राचीन ऐतिहासिक धरोहर है जो हमें सौभाग्य से मिली है | यदि इस जगह का शुरू से ध्यान रखा जाता तो उत्तराखंड के चार धाम के साथ यह भी अत्यंत प्रसिद्ध होता | यह जगह कई सदियों तक जमीन में समाई रही और कुछ […]

Read more

जगन्नाथपूरी रथयात्रा से जुडी रोचक बाते

भगवान जगन्नाथ, भाई बलभद्र और बहन सुभद्रा की प्रतिमाओं को तीन अलग-अलग दिव्य रथों में नगर भ्रमण करवाया जाता है | यह रथ यात्रा दो किमी की दुरी पर गुंडिचा मंदिर पर समाप्त होती है | लाखो भक्त इस धार्मिक रथ यात्रा का हिस्सा बन कर पूण्य के भागी बनते है | गुंडिचा मंदिर में करते है 7 दिन आराम […]

Read more

उत्तराखण्ड के चार प्रसिद्ध धाम

भारत के छोटे चार धाम उत्तराखंड

भारत में हिन्दू धर्म के इतिहास से सबसे पवित्र राज्य उत्तराखंड को माना गया है जो  हिमालय श्रृंखला की दक्षिणी ढलान पर स्थित है |  प्राचीन काल में इसे कुमाऊ उत्तरांचल के नाम से जाना जाता था | यह राज्य भारत के उत्तर में सीमांत नेपाल से जुड़ा हुआ है | यहा ऊँचे ऊँचे पहाड़ और भारत की सबसे पवित्रतम […]

Read more

लोहार्गल धाम और सूर्य मंदिर झुन्झुनू

लोहार्गल तीर्थ यात्रा

राजस्थान के झुन्झुनू जिले से 70 कि॰मी॰ दूर आड़ावल पर्वत की घाटी में बसे उदयपुरवाटी कस्बे से करीब दस किमी की दूरी पर स्थित है लोहार्गल जिसका नामकरण का सम्बन्ध पांडवो से जुड़ा हुआ है |यह नवलगढ़ तहसील में आता है और राजस्थान में पुष्कर तीर्थ के साथ मुख्य तीर्थ स्थल है | क्यों पड़ा नाम लोहार्गल तीर्थ : जैसा […]

Read more

जगन्नाथ मंदिर के 10 मुख्य चमत्कार

जगन्नाथ मंदिर चमत्कार

जगन्नाथ मंदिर से जुड़े चमत्कार जिनके सामने विज्ञान भी है फैल : भारत के चार मुख्य धाम में से एक है पूर्वी भारत के उड़ीसा में बना भगवान जगन्नाथ का मंदिर | इस मंदिर के साथ अनेको चमत्कार जुड़े हुए है | बताया जाता है द्वापर के बाद भगवान श्री कृष्ण जगन्नाथ बनकर पूरी में ही रहने लग गये है […]

Read more

जगन्नाथ पुरी मंदिर

जगतनाथ मंदिर उड़ीसा पुरी

भारत के चार धामों में पूर्व दिशा में श्री जगन्नाथ पुरी मंदिर का मंदिर उड़ीसा राज्य में स्थित है |  जगन्नाथ संस्कृत शब्द है जिसका अर्थ है जगत् + नाथ अर्थात जो समस्त  जगत के स्वामी है |  यह मंदिर भगवान श्री कृष्ण के परम आलोकित मंदिरों में से एक है | 11वी सदी में बना यह मंदिर बहुत ही […]

Read more
1 2