माँ सरस्वती से जुडी कुछ रोचक बाते जो शायद आप नही जानते होंगे

माँ सरस्वती से जुडी कुछ रोचक बाते

Know some important facts about goddess saraswati.

सरस्वती देवी है कला (Art) , ज्ञान (Wisdom)  ,संगीत (Music) , ध्वनि (Sound) और बुद्धि  की | भारत के साथ यह विदेशो में भी अलग अलग नामो से पूजी जाती है | जापान में देवी सरस्वती बेंजाइटन के रूप में पूजी जाती है | इसने अवतरण दिवस बसंत पंचमी पर सरस्वती की पूजा देश के सभी विद्यालयों में की जाती है |

बसंत का मौसम प्यारा सा  खुशनुमा माहौल लेकर आता है जब ठण्ड के साथ प्रकृति की अनुपम सुन्दरता के दर्शन होते है |

maa saraswati se judi rochak baate

1)माँ सरस्वती का जन्म ब्रह्मा जी  के कमण्डल से जल की बुँदे छिड़कने से हुई | जन्म के बाद इस जगत में कम्पन हुआ और पहली बार ध्वनी सुनी गयी |



2) माँ सरस्वती के हाथो में वेद है जो ज्ञान के असीम भंडार है , दुसरे हाथ में वीणा संगीत और स्वर के प्रतिक है | माँ सफेद वस्त्र धारण किये हुआ है जो शांति के प्रतिक है |

3) ऐसी भी मान्यता है की दिन में एक बार सरस्वती माँ मनुष्य की जिव्हा पर आ जाती है और उसकी वो बात जरुर सच्च हो जाती है |

saraswti goddess

यहा हम कुछ ऐसी रोचक बाते माँ सरस्वती के सन्दर्भ में जानेंगे |

4 ) त्रेता युग में देवताओ की विनती पर माँ सरस्वती ने श्री राम को वनवास दिलाने के लिए मंथरा और कैकई की बुद्धि फिर दी थी | क्योकि राम को वनवास झेलकर रावण का वध कर सत्य का साम्राज्य फिर से लाना था |

5) पुराणों में आये एक प्रसंग के अनुसार  देवी लक्ष्मी सरस्वती और गंगा का आपस में लड़कर एक दुसरे को श्राप दे दिया गया और तीनो ही नदी रूप धारण करके धरती पर बहने लगी |

6) सरस्वती पुराण और ‘मत्स्य पुराण’ में बताया गया है सृष्टि के रचयिता ब्रह्मा का अपनी ही बेटी सरस्वती से विवाह करने का प्रसंग है जिसके फलस्वरूप इस धरती के प्रथम मानव ‘मनु’ का जन्म हुआ।

7) बसंत पंचमी पर कामदेव और रति की पूजा करने का भी विधान है क्योकि वसंत को कामदेव का सखा बताया गया है | प्रकृति प्रेम और श्रंगार का सन्देश प्रेषित करती है |

Other Similar Posts

एकादशी पर का महत्व हिन्दू धर्म में

अमावस्या पर इन 5 चीजों को दान करने से पूरी होती है हर इच्छा

कैसे और क्यों लुप्त हुई पवित्र सरस्वती नदी

भगवान गणेश से जुडी 8 कहानियाँ और कथाये

धर्म की परिभाषा ,अर्थ और महत्व क्या है

2 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.