हिन्दू धार्मिक पुराणों से जाने चार युग

पुराणों से जाने चार युग सतयुग से कलियुग

हमारे सनातन धर्म के धर्मग्रंथो में  सृष्टि के संपूर्ण काल को चार भागों में बाँटा गया है | सतयुग सबसे पहला तो कलियुग को अंतिम युग बताया गया है | अभी कलियुग समय शुरू हो चूका है |


एक तिथि वह समय होता है, जिसमें सूर्य और चंद्र के बीच का देशांतरीय कोण बारह अंश बढ़ जाता है। तिथियाँ दिन में किसी भी समय आरम्भ हो सकती हैं और इनकी अवधि उन्नीस से छब्बीस घंटे तक हो सकती है।पुराणों से चार युग

समय का चक्र और नामावली


पंद्रह तिथियों का एक पक्ष या पखवाड़ा माना गया है। शुक्ल और कृष्ण पक्ष मिलाकर दो पक्ष का एक मास। फिर दो मास की एक ऋतु और इस तरह तीन ऋतुएँ मिलकर एक अयन बनता है और दो अयन यानी उत्तरायन और दक्षिणायन। इस तरह दो अयनों का एक वर्ष पूरा होता है।

15 मानव दिवस एक पितृ दिवस कहलाता है यही एक पक्ष है। 30 पितृ दिवस का एक पितृ मास कहलाता है। 12 पितृ मास का एक पितृ वर्ष। यानी पितरों का जीवनकाल 100 का माना गया है तो इस मान से 1500 मानव वर्ष हुए।

और इसी तरह पितरों के एक मास से कुछ दिन कम यानी मानव के एक वर्ष का देवताओं का एक दिव्य दिवस होता है, जिसमें दो अयन होते हैं पहला उत्तरायण और दूसरा दक्षिणायन। तीस दिव्य दिवसों का एक दिव्य मास। बारह दिव्य मासों का एक दिव्य वर्ष कहलाता है।

पढ़े : मकर संक्रांति का महत्व

पढ़े : एकादशी के 8 चमत्कारी उपाय, जो करेंगे आपकी इच्छा पूरी

(1) 4,800 दिव्य वर्ष अर्थात एक कृत युग (सतयुग)। मानव वर्ष के मान से 1728000 वर्ष।
(2) 3,600 दिव्य वर्ष अर्थात एक त्रेता युग। मानव वर्ष के मान से 1296000 वर्ष।
(3) 2,400 दिव्य वर्ष अर्थात एक द्वापर युग। मानव वर्ष के मान से 864000 वर्ष।
(4) 1,200 दिव्य वर्ष अर्थात एक कलियुग । मानव वर्ष के 432000 वर्ष।

12000 दिव्य वर्ष अर्थात 4 युग अर्थात एक महायुग जिसे दिव्य युग भी कहते हैं।

सतयुग : यह पहला युग माना जाता है और इसका दूसरा नाम कृतयुग भी है | इस युग की शुरुआत अक्षय तृतीया पर्व से हुई है | यह युग सबसे पावन और पाप रहित था | इसमे भगवान विष्णु के अवतार जो हुए वे थे ,  मत्स्य अवतार , कूर्म अवतार, वराह अवतार और नृसिंह अवतार | लोग अति दीर्घ आयु वाले होते थे। ज्ञान-ध्यान और तप का प्राधान्य था |  इसे 4800 दिव्य वर्षो का माना गया है |

त्रेतायुग : त्रेतायुग को 3600 दिव्य वर्ष का माना गया है। इस युग का आरम्भ कार्तिक शुक्ल नवमी से शुरू हुआ था |  यह काल भगवान राम के विष्णुधाम जाने से समाप्त होता है।

द्वापर : द्वापर मानवकाल के तृतीय युग को कहते हैं। यह काल कृष्ण के देहान्त से समाप्त होता है। इसमे मुख्यत महाभारत हुई थी |

कलियुग : कलियुग चौथा और अंतिम युग है। आर्यभट्ट के अनुसार महाभारत युद्ध 3137 ई.पू. में हुआ था। कृष्ण का इस युद्ध के 35 वर्ष पश्चात देहान्त हुआ, तभी से कलियुग का आरम्भ माना जाता है। कलियुग में विष्णु का कल्कि अवतार और गणेश जी का धूम्रवर्ण अवतार होना है |

Other Similar Posts

पुराणों में बताया गया कलियुग , आज हो रहा है सच्च

गाय का हिन्दू धर्म में अत्यंत महत्व है , कैसे आइये जाने

पूजा पाठ में चालीसा का महत्व और विधि

हिंदी कैलेंडर और पंचाग में कुछ मुख्य शब्द और अर्थ

दान की कितने प्रकार है और जाने कब और कैसे करे दान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.