मलमास ( पुरुषोत्तम मास ) में क्या करे और क्या नही करे

Purshotam Mas Me Kya Kare Or Kya Nahi Kare

हिन्दू पंचांग के अनुसार 2018 में जयेष्ट मास में दिनांक 16 May से अधिकमास शुरू हो रहा है जिसे पुरुषोत्तम मास भी कहा जाता है | धर्म कर्म पूजा के लिए यह बहुत ही अच्छे दिन माने जाते है जिसके फल कई गुणा मिलते है | यह 16 May से 13 जून तक रहेंगे |


purshotam maas me kya kare or kya nhi

पुरुषोत्तम भगवान की भक्ति का समय

मलमास अपने नाम के कारण बहुत दुखी था तब भगवान श्री कृष्ण ने उसे अपने सभी गुण और नाम दिए | उन्होंने इस मास को वरदान दिया की इसमे की गयी पूजा पाठ का फल कई गुणा मिलेगा | हालाकि इस मास में विवाह जैसे मांगलिक कार्य वर्जित है |

अधिकमास में क्या करे क्या नही

पुरुषोत्तम मास में क्या करें

पुरुषोत्तम मास को मलमास या अधिक मास भी कहा जाता है। जिस माह में सूर्य संक्रांति नहीं होती वह मलमास कहलाता है। इन दिनों में कोई भी मांगलिक कार्य करना वर्जित रहता है। परंतु इस दौरान किए गए धर्म-कर्म से जुड़े सभी कार्य विशेष फलदायी रहते हैं। मलमास में केवल ईश्वर के लिए व्रत, दान, हवन, पूजा, ध्यान आदि करने का विधान है। ऐसा करने से पापों से मुक्ति मिलती है और पुण्य प्राप्त होता है। आज हम आपको बता रहे हैं कि इस दौरान आपको क्या करना चाहिए।


धार्मिक ग्रंथो का ज्ञान
पुरुषोत्तम मास में ज्यादातर समय प्रभु भक्ति में लगाना चाहिए | धार्मिक किताबे , शास्त्र और पुराणों को पढना चाहिए | कथाओ के सन्दर्भ में एक दुसरे से बात कर ज्ञान बाँटना शुभ रहता है |

दिनचर्या

सुबह ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्थान करे | भगवान सूर्य को फिर ताम्बे के लौटे से जल अर्पित करे | सुबह शाम मंदिर जाये | धार्मिक क्रियाओ में मन को लगा रखे | हो सके तो एक समय भोजन करे और जमीन पर ही शयन करे |

दान करें
पुराणों में बताया गया है कि यह माह व्रत-उपवास, दान-पूजा, यज्ञ-हवन और ध्यान करने से मनुष्य के सभी पाप कर्मों का क्षय होकर उन्हें कई गुना पुण्य फल प्राप्त होता है। इस माह में आपके द्वारा गरीब को दिया एक रुपया भी सौ गुना फल देता है।

दीप दान
मलमास में दीपदान,  जरुरतमंदो को वस्त्र और गीता के दान का विशेष महत्व है। इस मास में दीपदान करने से धन प्राप्ति के योग बनने के साथ कई पुण्यो की प्राप्ति होती है ।

Other Similar Posts

पुरुषोत्तम मास | मलमास की पौराणिक कथा

12 राशियों के 12 लक्ष्मी प्राप्ति मंत्र

विष्णु सहस्त्रनाम पाठ | Vishnu Sahasranamam In Hindi

भगवान विष्णु के महा मंत्र और जाप विधि

कृष्णा को पसंद है यह पांच चीजे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *