मकर सक्रांति के लिए पवित्र स्नान के लिए धार्मिक तीर्थ स्थान

मकर संक्रांति का पर्व दान , स्नान और तप का सबसे बड़ा दिन माना गया है | कलियुग में  इस दिन क्या गया धर्म कई यज्ञो के लिए बराबर फल की प्राप्ति करवाता है | इस दिन सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है | मकर संक्राति के दिन सूर्य अपनी दिशा बदलकर उत्तर की तरफ झुक जाता है | अर्थात् उत्तरायण इसी दिन से लग जाता है |

मकर संक्रांति पर सबसे पवित्र तीर्थ स्थान

पढ़े – मकर संक्रांति के समय तिल गुड क्यों खाया जाता है

मकर संक्रांति के लिए सबसे पवित्र तीर्थ स्थल

बहुत से पाठकगणों ने हमसे पूछा है कि भारत के पवित्र तीर्थ स्नान कौनसे है मकर संक्रांति के स्नान के लिए | अत: उन्ही के आग्रह पर हम यह पोस्ट आप सबके समक्ष लाये है |

गंगासागर

ganga sagar

पूर्वी भारत के गंगा और सागर के मिलन के स्थान गंगासागर तीर्थ पर मकर संक्रांति का पवित्र स्थान सबसे पवित्र माना गया है | कहते है इस दिन यहा स्नान करने से हजारो गौ दान का फल प्राप्त होता है | यही कारण है कि इस दिन यहा भव्य मेला भरता है और देश भर से श्रद्दालु पवित्र स्नान करने आते है |

हरिद्वार

haridwar

हरि अर्थात नारायण भगवान् का द्वार हरिद्वार भी मकर संक्रांति के पवित्र स्नान के लिए उत्तम तीर्थ स्थलों में से एक है | यहा भी लाखो संख्या में भक्त स्नान करने आते है | अपने जन्म जन्मान्तर के पापो की मुक्ति के लिए |

ऋषिकेश

हरिद्वार के पास ही ऋषिकेश में भी श्रद्दालुओ का मेला भरता है | यहा भी गंगा में पवित्र स्नान के लिए देश भर से भक्त आते है और पवित्र स्नान और दान पूण्य करके अक्षम पूण्य की प्राप्ति करते है |

काशी बनारस

बनारस विश्वनाथ शिव शंकर की नगरी है | यहा काशी नगरी में  गंगा जी पर कई प्रसिद्ध घाट बने हुए है | मकर संक्रांति पर इस तीर्थ स्थल पर भी हजारो भक्त सूर्य उदय के साथ पवित्र स्नान करते है और भगवान सूर्य को अर्ध्य देते है |

उज्जैन का शिप्रा घट

महाकाल की नगरी अवंतिका का अत्यंत पौराणिक महत्व है | यहा उज्जैन की जीवनदायिनी शिप्रा नदी प्रवाहित होती है | इस पवित्र नदी के घाटो पर मकर संक्राति के दिन किया गया स्नान अत्यंत महत्व रखता है |

सरयू नदी

राम जन्मभूमि अयोध्या में प्रवाहित सरयू नदी के स्नान का भी मकर संक्राति पर अत्यंत महत्व बताया गया है |

पुष्कर तीर्थ

puskar tirth sthal

शास्त्रों में राजस्थान के अजमेर के पास बने पुष्कर तीर्थ का बहुत महत्व बताया गया है जहा ब्रहमाजी ने ब्रहमांड के निर्माण के लिए यज्ञ किया जाता है | यहाँ विश्व प्रसिद्ध ब्रह्मा जी का एकमात्र मंदिर है | हालाकि अब दो तीन जगह और ब्रह्मा जी के मंदिर बना दिए गये है | पुष्कर सरोवर में भी संक्राति के दिन कई भक्त स्नान करके पुण्य कमाने आते है |

लोहार्गल तीर्थ

मकर संक्रांति सूर्य देव से जुड़ा पर्व है और राजस्थान का लोहार्गल तीर्थ वो स्थान है जहा अति प्राचीन सूर्य कुण्ड और सूर्य मंदिर है | अत: संक्राति पर इस जगह भक्तो का स्नान बहुत ही पावन माना जाता है |

गलता जी :

galta ji

राजस्थान के जयपुर में गलता जी के पवित्र कुण्ड और सूर्य मंदिर में दर्शन करने बहुत से भक्त इस दिन आते है |

सुल्तानगंज

बिहार के सुल्तानगंज में भी गंगा नदी के तट पर संक्रांति के दिन भव्य मेला भरता है जिसमे हजारो भक्त गंगा जी में पवित्र डुबकी लगाने आते है |

प्रयाग

त्रिदेवी नदियों का संगम स्थल प्रयाग में स्तिथ  है जिसमे गंगा , यमुना  और गुप्त सरस्वती नदी है | इस दिन यहा भी स्नान अपने आप में महत्व रखता है | प्रयाग के तट पर महा कुम्भ का भी आयोजन होता है |

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.