किस तिथि को किस देवी देवता की पूजा की जानी चाहिए

Hindu God Goddess Worship Day accourding to Hindu Panchang : हिन्दू धर्म सबसे प्राचीन और महान धर्म है और हमारे ऋषि मुनियों ने इसमे कई नियम और ज्ञान भरी बाते बताई है | हिन्दू धर्म में 33 कोटि देवी देवता बताये गये है जिनकी विशेष पूजा के लिए विशेष तिथि और वार निर्धारित किया गया है | आइये जानते है की किस तिथि को किस देवता की पूजा की जानी चाहिए |



पढ़े : देवी देवताओ की पूजा के मुख्य नियम और ध्यान रखने योग्य बाते

किस तिथि को किस देवता की पूजा करे

हिन्दू केलिन्डर के हिसाब से शुक्ल पक्ष के १५ दिन और वैसे ही कृष्ण पक्ष के १५ दिन बताये गये है | शुक्ल पक्ष के 15वे दिन पूर्णिमा तो कृष्ण पक्ष के 15वे  दिन पर अमावस्या आती है |

पढ़े : पूर्णिमा और अमावस्या का चन्द्रमा से जुड़ा रहस्य

–प्रतिपदा यानी पहली तिथि पर अग्नि देव की पूजा करें।

– द्वितिया तिथि पर ब्रह्माजी की पूजा करनी चाहिए।

– तृतीया तिथि पर धन के स्वामी कुबेर देव की पूजा करनी चाहिए।

– चतुर्थी तिथि पर भगवान गणेशजी की पूजा करें।

– पंचमी पर नाग देवता की पूजा करनी चाहिए।

– षष्ठी तिथि पर भगवान कार्तिकेय की पूजा करें।

– सप्तमी पर भगवान सूर्यदेव की विशेष पूजा करनी चाहिए।

– अष्टमी पर शिवजी की पूजा करें।

– नवमी तिथि पर मां दुर्गा की पूजा करनी चाहिए।

– दशमी पर धर्मराज भगवान यमराज की पूजा करें।

– एकादशी पर विश्वेदेवों की पूजा करनी चाहिए।

– द्वादशी तिथि भगवान विष्णु को समर्पित है।

– त्रयोदशी पर कामदेव की पूजा करनी चाहिए।

– चतुर्दशी तिथि पर भगवान आशुतोष शिवजी की पूजा करें।

– पूर्णिमा तिथि पर सोमदेव चंद्र देवता  की पूजा करनी चाहिए।

– अमावस्या तिथि पर पितर देवता के निमित्त पूजा करें।

कैसे करे पूजन

रोज सुबह जल्दी उठें और ब्रहम मुहूर्त में स्नान के बाद घर के मंदिर में ही तिथि के स्वामी की पूजा का प्रबंध करें। अगर मंदिर में तिथि स्वामी की मूर्ति या फोटो न हो तो उनके नाम का ध्यान करते हुए मंदिर में स्थापित देवी-देवताओं की पूजा करें। पूजा में कुमकुम, दीपक, तेल, रुई, धूपबत्ती, फूल, अक्षत – चावल, प्रसाद के लिए फल, मिठाई, नारियल, पंचामृत, सूखे मेवे, शक्कर, पान, दक्षिणा आदि अवश्य रखें। पूजा में धूप-दीप जलाएं और परेशानियों को दूर करने की प्रार्थना करें।

Other Similar Posts

कैसे करे भगवान की पूजा – जाने सही पूजा विधि

घर में रखे शिवलिंग की पूजा से जुड़े नियम

देवी देवताओ के बीज मंत्र की महिमा

मंदिर की परिक्रमा में गिले कपडे क्यों पहनना चाहिए

अर्जुन को क्यों बनना पड़ा किन्नर ?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.