गंगा में अस्थि बिसर्जन के बाद कहाँ जाती हैं विसर्जित अस्थियां, जानकर हैरान रह जाएंगे

गंगा में विसर्जित अस्थियो का क्या होता है

Ganga Me Asthi Visarjan Ceremony हमारे हिन्दू धर्म में शव का अंतिम संस्कार अग्नि के द्वारा किया जाता है और फिर बाद में मरने वाले की अस्थियाँ पतित पावनी गंगा में प्रवाहित की जाती है जिससे की मरने वाले को मोक्ष की प्राप्ति हो | यह परम्परा कई युगों से चली आ रही है |


शास्त्रों में बताया गया है की मरने वाले को मोक्ष की प्राप्ति दिलवाने के लिए ही इस नदी का अवतण स्वर्ग से धरती पर हुआ है था जिसमे भागीरथ की महा तपस्या का सबसे ज्यादा योगदान था |

ganga me visarjit asthiyan

लेकिन क्या आपने कभी सोचा है कि गंगा में अस्थियां विसर्जित करने के बाद इनका क्या होता है ?  नहीं, तो चलिए हम आपको बताते हैं…..

पढ़े : गंगा जल की चमत्कारी शक्तियाँ

वैज्ञानिको ने माना कि चमत्कारी है गंगा


वैज्ञानिको ने गंगा के जल पर कई तरह के शोध किये है और जो परिणाम सामने आये है उसके आधार पर उनके लिए यह नदी किसी चमत्कार से कम नही | गंगा का जल हर कंडीशन में पवित्र रहता है और इससे कीटाणु नही पड़ते ना ही कभी बदबू आती है |

पढ़े : भारत की पवित्र धार्मिक नदियाँ

विसर्जित अस्थियां और गंगा जल

ganga me visarjan

वैज्ञानिकों के अनुसार, गंगा जल में कुछ ऐसे चमत्कारी तत्व है जो अशुद्धि और जीवाणुओ के संहारक है | विसर्जित की जाने वाली हड्डियां कैल्शियम और फ़ास्फ़रोस की बनी होती है जो की गंगा जल में घुल जाती है | घुलने के बाद यह  पानी जीव-जंतुओं के लिए बहुत पौष्टिक रहता है |

दोस्तों, उम्मीद करते हैं कि आपको हमारा ये आर्टिकल पसंद आया होगा. पसंद आने पर लाइक और शेयर करना ना भूलें.

गंगा सप्तमी का महत्व और कथा

यमुना नदी से जुड़ी पौराणिक बाते

गंगासागर तीर्थ स्थल की यात्रा

गंगा दशहरा की कथा और महत्व

अपवित्र होने के बाद भी ये 5 चीजें हैं पवित्र, विष्ण्रु स्मृति में बताया गया है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.