16 संस्कार सनातन हिन्दू धर्म

सनातन धर्म में संस्कार

हम्हारे हिन्दू धर्म में समाजहित के लिए 16 संस्कार बताये गये है | इनका पालन हम्हे करना चाहिए | इसने पीछे भौतिक , आध्यात्मिक , सांसारिक और शारीरिक शक्तियाँ विद्यमान होती है |
1. गर्भाधान संस्कार ( Garbhaadhan Sanskar) – गर्भ में पलने वाला शिशु योग्य , स्वस्थ और गुणशाली हो , इस अभिलाषा से किया जाने वाला संस्कार गर्भधारण संस्कार कहलाता है | इसी से वंश आगे बढ़ता है |
2. पुंसवन संस्कार (Punsavana Sanskar) – गर्भस्थ शिशु के चहुमुखी विकास के लिए यह संस्कार किया जाता है | शिशु के अच्छे मानसिक और शारीरिक शक्ति के लिए यह किया जाता है |
3. सीमन्तोन्नयन संस्कार ( Simanta Sanskar) – गर्भ के चौथे, छठवें और आठवें महीने में यह संस्कार दिया जाता है । इस अवस्था तक बच्चा हल्का सिखने योग्य हो जाता है | इस संस्कार से उसके अच्छे व्यवहार , नैतिक मूल्य ,धर्म हेतू यह किया जाता है |
4. जातकर्म संस्कार (Jaat-Karm Sansakar) – बालक का जन्म होते वैदिक मंत्रों के उच्चारण के साथ शिशु को शहद और घी चटाया जाता है ताकि बच्चा स्वस्थ और दीर्घायु हो।

5. नामकरण संस्कार (Naamkaran Sanskar)- शिशु के जन्म के बाद 11वें दिन ब्राहमण द्वारा उसके जन्म समय तारीख और जन्म स्थान से कुंडली देखकर शिशु को नाम दिया जाता है |
6. निष्क्रमण संस्कार (Nishkraman Sanskar) – निष्क्रमण का अर्थ है बाहर निकालना। जन्म के चौथे महीने में यह संस्कार किया जाता है। यह पञ्च जगत शक्तियों (पृथ्वी, जल, अग्नि, वायु और आकाश ) से विनती की जाती है की नवजात बच्चे को शक्ति और सुरक्षा प्रदान करे जिससे बच्चा स्वस्थ ,निरोगी और लम्बी उम्र का हो ।
7. अन्नप्राशन संस्कार ( Annaprashana) – जब बच्चा 6 या 7 माह का हो जाता है और उसके दाँत निकलना प्रारंभ हो जाते है तो फिर यह संस्कार दिया जाता है और उसके बाद उसे अन्न खिलाना शुरू कर देते है |
8. मुंडन संस्कार ( Mundan Sanskar)- जब शिशु की आयु एक वर्ष हो जाती है तब या तीन वर्ष की आयु में या पांचवे या सातवे वर्ष की आयु में बच्चे के बाल उतारे जाते हैं जिसे मुंडन संस्कार कहा जाता है। इस संस्कार से बच्चे का सिर मजबूत होता है तथा बुद्धि तेज होती है। साथ ही शिशु के बालों में चिपके कीटाणु नष्ट होते हैं जिससे शिशु को स्वास्थ्य लाभ प्राप्त होता है।
9. विद्या आरंभ संस्कार ( Vidhya Arambha Sanskar )- यह संस्कार विद्या प्राप्ति से पूर्व शिशु को दिया जाता है |

10. कर्णवेध संस्कार ( Karnavedh Sanskar) – इस संस्कार में कान छेदे जाते है । इसके दो कारण हैं, एक- आभूषण पहनने के लिए। कान छेड़ने से सिर तक जाने वाली नसों में रक्त प्रवाह अच्छी तरह होता है जिससे सुनने की शक्ति और अच्छी हो जाती है |

11. उपनयन या यज्ञोपवित संस्कार (Yagyopaveet Sanskar) – उप यानी पास और नयन यानी ले जाना। यह जनेऊ धारण करने का संस्कार है जो गुरु द्वारा पहनाई जाती है | जनेऊ में तीन सूत्र तीन देवता- ब्रह्मा, विष्णु, महेश के प्रतीक माने जाते हैं। इससे पहने से इन त्रिदेवो की विशेष कृपा प्राप्त होती है |

12. वेदारंभ संस्कार (Vedaramba Sanskar) – इसमे वेदों का ज्ञान करवाया जाता है |
13. केशांत संस्कार (Keshant Sanskar) – केशांत संस्कार अर्थ है केश यानी बालों का अंत करना| यह संस्कार विद्या प्राप्ति से पहले किया जाता है जो विद्या अर्जित करने में सहयोगी है | सिर पर एक शिखा रखकर बाकि सिर का मुंडन कर दिया जाता है |
14. समावर्तन संस्कार (Samavartan Sanskar)- समावर्तन संस्कार अर्थ है पुनः लौटना।
पहले शिक्षार्थी गुरुकुल में जाकर शिक्षा लेते थे और उसी जगह रहा करते थे | जब शिक्षा पूर्ण हो जाती थी तब पुनः अपने घर लौटकर उस शिक्षा को जीवन और समाज के हित में काम लेते थे यही घर लौटने का संस्कार ही समावर्तन संस्कार कहलाता है |

15. विवाह संस्कार ( Vivah Sanskar) – विवाह संस्कार में वर वधू अग्नि को साक्षी मानकर धर्म की राह में एक दुसरे का साथ देते हुए जीवन व्यतीत करने की राह अपनानाते है | बहुत सारे संस्कार इस संस्कार के बाद ही किया जा सकते है | यह पितृऋण से मुक्त कराने वाला संस्कार है |
16. अंत्येष्टि संस्कार (Antyesti Sanskar)- अंत्येष्टि संस्कार जीवन का अंतिम संस्कार है । अपनी मृत्यु के बाद अपने शरीर को पवित्र अग्नि में समर्प्रित कर दिया जाता है |

सनातन धर्म से जुड़े लेख यह भी जरुर पढ़े

शनि को प्रसन्न कैसे करे ?

संतान धर्म से जुडी कथाये

सबसे बाद पति धर्म पालन करने वाली महिला

मंदिरों में चरणामृत का महत्व

कैसे करे सुबह सूर्य की उपासना

बद्रीनाथ धाम की विष्णु लक्ष्मी कथा

जाने देवी देवताओ के वाहन

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.