मुख्य रामायण चौपाई अर्थ सहित

हिन्दू धर्म में रामायण जैसे महाग्रंथ को बहुत ही ऊँचा स्थान प्राप्त है | यह हिन्दुओ के लिए सबसे पवित्र ग्रंथो में से एक है | महर्षि वाल्मीकि ने इसमे सम्पूर्ण श्री राम चरित्र को दर्शाया है | फिर अवधी भाषा में गोस्वामी तुलसीदास जी रामचरितमानस महाकाव्य में यही रामायण अपने तरीके से लिखी है |

इन दोनों महाकाव्यों के अधिकतम चौपाई अपने आप में महा मंत्र है और जीवन में इनका रस पान और गान करने से हर तरह के दुःख दूर हो जाते है | रामायण और रामचरितमानस की चौपाईयाँ हिन्दुओ के परम आस्था का पाठ है |
रामायण की चमत्कारी चौपाइयाँ
इस आर्टिकल में हम आपके लिए वो सभी चमत्कारी और दिव्य रामायण और रामचरितमानस की चौपाई लाये है जिनके पढने मात्र से आप सुख का अनुभव करेंगे | विपत्तियों तथा संकट से बचाव करने वाले यह महाकाव्य हर हिन्दू और थोडा थोडा रोज पढ़ना चाहिए |

रामायण और रामचरितमानस की कुछ मुख्य चौपाइयाँ :

 


प्रभु से क्षमा याचना के लिए चौपाई :

अनुचित बहुत कहेउं अग्याता।
छमहु क्षमा मंदिर दोउ भ्राता।।

अच्छी बुद्धि पाने  के लिए चौपाई

ताके जुग पद कमल मनावऊं।
जासु कृपा निरमल मति पावऊं।।

बुरी शक्तियों से बचाव के लिए :

प्रनवउ पवन कुमार खल बन पावक ग्यान धुन।
जासु हृदय आगार बसहि राम सर चाप घर।।

सुख समृधि पाने के लिए  चौपाई :

जे सकाम नर सुनहिं जे गावहिं।
सुख सम्पत्ति नानाविधि पावहिं ।।

वर्षा होने के लिए  चौपाई :

सोइ जल अनल अनिल संघाता।
होइ जलद जग जीवनदाता।।

विद्या प्राप्ति के लिए   चौपाई :

गुरु ग्रह गए पढ़न रघुराई।
अलपकाल विद्या सब आई।।

अकाल मृत्यु से बचाव के लिए   चौपाई :
नाम पाहरू दिवस निसि ध्यान तुम्हार कपाट।
लोचन निज पद जंत्रित प्रान केहि बात।।

शत्रु को मित्र बनाने के लिए चौपाई :
गरल सुधा रिपु करहि मिताई।
गोपद सिंधु अनल सितलाई।।



Read Also Religious Article Based On Hinduism

मंगल भवन अमंगल हारी चौपाई रामचरितमानस की अर्थ सहित

मंदिरों का एक गाँव जहा है हजारो छोटे बड़े मंदिर

Video – हनुमान जी का सबसे चमत्कारी मंदिर मेहंदीपुर बालाजी महिमा

सुबह उठकर करे यह काम – होगा पूरा दिन मंगलमय

शिवजी के स्टेटस और शायरी

भारत के सबसे बड़े और पावन मंदिर – चार धाम यात्रा

वास्तु के अनुसार कैसा होना चाहिए घर का नक्षा जिससे घर में सुख शांति का वास हो

 

7 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.