मंगल भवन अमंगल हारी चौपाई चौपाई

मंगल भवन अमंगलकारी चौपाई रामचरितमानस

श्री तुलसीदास जी महाराज ने रामचरित मानस से बहुत ही प्यारी चौपाई लिखी है जो भक्तो को अति प्रिय और याद भी है | यह मंगल करने वाली और अमंगल का नाश करने वाली मंत्र समान चौपाई है |


मंगल भवन अमंगलहारी चौपाई

आइये जाने मंगल भवन अमंगल हारी चौपाई का हिंदी में अर्थ सहित भावार्थ :

मंगल भवन अमंगल हारी
द्रवहु सुदसरथ अजिर बिहारी
राम सिया राम सिया राम जय जय राम – २
अर्थ : जो मंगल करने वाले है और अमंगल हो दूर करने वाले है , वो दशरथ नंदन श्री राम है वो मुझपर अपनी कृपा करे |

हो, होइहै वही जो राम रचि राखा
को करे तरफ़ बढ़ाए साखा

अर्थ : जो भगवान श्री राम ने पहले से ही रच रखा है ,वही होगा | हम्हारे कुछ करने से वो बदल नही सकता
हो, धीरज धरम मित्र अरु नारी
आपद काल परखिये चारी
अर्थ : बुरे समय में यह चार चीजे हमेशा परखी जाती है , धैर्य , मित्र , पत्नी और धर्म |


हो, जेहिके जेहि पर सत्य सनेहू
सो तेहि मिलय न कछु सन्देहू
अर्थ : सत्य को कोई छिपा नही सकता , सत्य का सूर्य उदय जरुर होता है |

.

हो, जाकी रही भावना जैसी
रघु मूरति देखी तिन तैसी

अर्थ : जिनकी जैसी प्रभु के लिए भावना है उन्हें प्रभु उसकी रूप में दिखाई देते है |
.

रघुकुल रीत सदा चली आई
प्राण जाए पर वचन न जाई
अर्थ : रघुकुल परम्परा में हमेशा वचनों को प्राणों से ज्यादा महत्व दिया गया है |
हरि अनन्त हरि कथा अनन्ता
कहहि सुनहि बहुविधि सब संता

अर्थ : प्रभु श्री राम भी अंनत हो और उनकी कीर्ति भी अपरम्पार है ,इसका कोई अंत नही है | बहुत सारे संतो ने प्रभु की कीर्ति का अलग अलग वर्णन किया है |
हनुमानजी से जुड़े हुए यह लेख भी जरुर पढ़े

रामायण और रामचरितमानस की अन्य मुख्य चौपाइयाँ

पूजा में हनुमानजी को क्या क्या प्रिय है

कैसे चढ़ाये हनुमानजी को सिंदूरी चोला

क्या सीता रावण की पुत्री थी


हर काम सिद्ध करता है हनुमानजी के यह 12 नाम

जाने हनुमानजी के साथ ओर कौन कौन है चिरंजीवी

पंचमुखी हनुमान की महिमा

सोने की लंका का हनुमान द्वारा दहन माँ पार्वती की इच्छा थी

30 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.