नवरात्रि पर सबसे बड़ी तपस्या कर रहे है बिहार के नागेश्वर बाबा

सीने पर नौ दिन 21 कलश स्थापित कर करते है नवरात्रि पर तपस्या

Navratri 2018 patna man keeps 21 kalash on his chest with the blessings of Goddess Durga

नवरात्रि के 9 दिन शक्ति प्राप्ति के बहुत जाग्रत दिन माने जाते है | माँ के भक्त इन दिनों तरह तरह के तप से माँ कात्यायनी को रिझाते है | वे ऐसी ऐसी तपस्या या साधना करते है कि जो किसी मनुष्य के अन्य दिनों पर कर पाना अत्यंत कठिन है | इन साधनाओ को सम्पन्न करने की शक्ति उन्हें स्वयं माँ जगदम्बे से ही प्राप्त होती है |

बिहार के नागेश्वर बाबा की नवरात्रि पर तपस्या

पढ़े : बिना खाए पिए 75 सालो से जी रहे है स्वस्थ प्रहलाद जानी माताजी

आज हम आपके सामने ऐसी ही दुर्गम तपस्या करने वाले नागेश्वर बाबा के बारे में बताने जा रहे है जो संभवत नवरात्रि के सबसे बड़े साधको में से एक है | इनकी इस तपस्या को देखकर बड़े बड़े भक्तो के होश उड़ जाते है |

बिहार की राजधानी पटना के निवास नागेश्वर बाबा 22 साल से नवरात्रि के दौरान देवी की पूजा अपने सीने पर कलश स्थापित करके करते है |

माँ दुर्गा के नवरात्रि पर परम भक्त

इस दौरान 9 दिनों तक वे ना ही करवट बदलते है ना ही खाते पीते है | इस साल 2018 में उन्होंने अपने सीने पर 21 कलशो को एक दुसरे से पर स्थापित करके यह तप शुरू किया है |

वे नौलखा मंदिर में स्थापित दुर्गा माँ की मूर्ति के सामने लेट कर अपने सीने पर कलश को स्थापित करते है और फिर बिना हिले दुले पुरे 9 दिन इसी अवस्था में रहते है | इन कलशो में गंगा का पवित्र जल भरा रहता है |

दूर दूर से भक्त आते है दर्शन को

सीने पर 21 कलश नवरात्रि पर इस नौलखा मंदिर में देवी और उनके ऐसे परम भक्त की तपस्या को देखने दूर दूर से भक्त आते है | वे इन दोनों के सामने नतमस्तक होकर माँ की कृपा का गुणगान करते है |

कैसे शुरू हुई यह तपस्या

ऐसे तप के बारे में पूछने पर नागेश्वर बाबा बताते है कि ऐसा करने के लिए उन्हें माँ ने सपने में आदेश दिया था |

नागेश्वर बाबा यह अत्यंत कठिन तप है पर माँ की शक्ति से यह बहुत ही सरल हो जाता है | 22 सालो से वे यह तपस्या कर रहे है और हर साल कलश की संख्या एक अधिक बढाया जाता है |

नवरात्रि के 15 दिन पहले से ही नागेश्वर बाबा खाना पीना बंद कर देते है |

Other Similar Posts

बंगाल में सबसे महंगा माँ दुर्गा का पंडाल , 15 करोड़ का पांडाल , 8 किलो पहना माँ ने सोना

भैरव मंत्र साधना और चमत्कार

भादवा माता का चमत्कारी मंदिर

माँ कात्यायनी का जन्म ब्रह्मा, विष्‍णु और महेश तीनों के तेज से

करणी माता मंदिर जो है अनोखा और चमत्कारी -देशनोक बीकानेर

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.