शत्रु बाधा से मुक्ति के लिए ऐसे करे माँ बगलामुखी की पूजा और जाने मंत्र

Maa Baglamukhi Pooja Vidhi , Mantra For Defeat Our Enemy .

तंत्र शास्त्र में दस महाविद्याओं में से एक है माँ बगलामुखी | इन्हे पीताम्बरा देवी और स्तंबन की देवी भी कहा जाता है | इनकी पूजा से साधक को शत्रु भय नाश , वाक् शक्ति निपूर्णता , वाद विवाद में विजय प्राप्त होती है | पीले रंग को अत्यंत पसंद करने वाली माँ बगलामुखी की पूजा विधि के बारे में जानते है |

माँ बगलामुखी पूजा विधि और मंत्र

पढ़े वैशाख मास का महत्व और महिमा

पढ़े माँ गायत्री कौन है , हिन्दू धर्म में देवी का महत्व और परिचय

वैशाख मास की शुक्ल अष्टमी को बगलामुखी जयंती देश भर में धूम धाम से मनाई जाती है | इस दिन माँ का श्रंगार पीले पुष्पों और वस्त्रो से किया जाता है और उन्हें पीले रंग के व्यंजन का भोग लगाया  जाता है | इस दिन माता के भक्त पीले रंग के वस्त्र पहनते है और माथे पर पीला तिलक लगाते है |

बगलामुखी माँ की पूजा विधि

सूर्योदय से पूर्व उठकर नहा ले और स्वत्छ पीले वस्त्र धारण कर ले | अपने माथे पर पीले रंग का तिलक लगा ले |

पूजा स्थान को शुद्ध जल से साफ़ करे और फिर लकड़ी की चौकी पर पीला वस्त्र बिछाये |

इस चौकी पर माँ बगलामुखी की फोटो को रखे और उन्हें पीले पुष्पों की माला पहनाये |

अब माँ की पूजा और व्रत का संकल्प ले , इसके लिए अपने हाथ में पीले रंग में रंगे हुए अक्षत , पीले पुष्प और हल्दी ले |

माँ बगलामुखी की आरती धुप , दीप और कपूर से उतारे | इसके बाद माँ बगलामुखी के मंत्रो का जप करे | मंत्र निचे दिए जा रहे है |

माँ बगलामुखी के लिए पुरे दिन उपवास रखे | पुरे दिन में एक बार फलाहार करे जिसमे पीले फलो का ही प्रयोग करे |

माँ बगलामुखी सिद्ध मंत्र

ऊँ ह्रीं बगलामुखी सर्वदुष्टानां वाचं मुखं पदं स्तंभय जिह्ववां कीलय बुद्धि विनाशय ह्रीं ओम स्वाहा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.