विष्णु को प्रिय है ये 6 चीजे , पूजा में काम में लेने से जल्दी प्रसन्न होते है नारायण

विष्णु को प्रिय है ये 6 चीजे

Bhagwaan Vishnu Ko Priy 6 Cheeje हिन्दू धर्म में तीन सबसे बड़े देव में विष्णु भगवान को जगत का पालनहार माना गया है | इनकी पूजा से सांसारिक चीजो की कभी कमी नही आती | इनकी प्रिया माँ लक्ष्मी है जो धन अन्न की देवी मानी जाती है | धर्म की विजय के लिए भगवान विष्णु ने कई अवतार समय समय पर लिए है |


आज हम इस पोस्ट के माध्यम से जानेंगे की भगवान विष्णु को पूजा में कौनसी चीजे अत्यंत प्रिय है | ये चीजे इन्हे बहुत प्रसन्न करती है ….

विष्णु को प्रिय यह 6 चीजे

तुलसी के पत्ते : भगवान विष्णु के भोग में तुलसी जी का पत्ता अत्यंत जरुरी है | इसके बिना श्री हरि विष्णु भोग स्वीकार नही करते है | उनके ही रूप शालिग्राम जी के साथ तुलसी जी का विवाह  देव उठनी एकादशी पर किया जाता है |

पीला रंग : पीला रंग संपन्‍नता का प्रतीक है और यह पीताम्बर विष्णु को अत्यंत प्रिय है | आपने देखा होगा इनकी फोटो में  यह पीले रंग के  वस्त्र पहने रहते है | अत: भगवान विष्णु की पूजा में या उनके किसी मंदिर में पीली धोती जरुर भेट करनी चाहिए |


प्रिय फल : विष्णु भगवान का सबसे प्रिय फल पीले रंग का केला माना गया है | गुरुवार को भी भगवान सत्यनारायण की व्रत कथा का पाठ केले के पौधे के सामने बैठकर ही किया जाता है |

शंख : विष्णु जी के एक हाथ में हमेशा शंख रहता है | माँ लक्ष्मी की प्रिय चीजो में से एक है दक्षिणावर्ती शंख |  विष्णु जी के पूजन में इस शंख से इनका स्नान करवाना चाहिए |

कमल : लक्ष्मी जी का एक नाम कमला है | विष्णु भगवान को भी लक्ष्मी जी की तरह कमल का पुष्प अत्यंत प्रिय है | उनके चार हाथो में एक हाथ में कमल शोभायमान है | इनके कमल अर्पित करने से ये बहुत प्रसन्न होते है |

मोरपंख : इनके  मुकुट पर मोरपंख सज्जा हुआ है जैसे  भगवान कृष्ण के मुकुट पर रहता है | विष्णु के अवतार ही कृष्ण है और कृष्ण ही विष्णु है | भक्तो को विष्णु मंदिरों में मोरपंख भी जरुर चढाने चाहिए |

पढ़े : देवी लक्ष्मी को प्रिय है यह 5 चीजे , घर में रखे , कभी पैसो की कमी नही आएगी

अन्य प्रिय चीजे

विष्णु रूप सत्यनारायण

प्रिय दिन : इन्हे सप्ताह में गुरूवार का दिन सबसे प्रिय है | भगवान सत्यनारायण के रूप में इनकी पूजा होती है | इस दिन भक्त सत्यनारायण व्रत रखते है |

प्रिय तिथि : वैष्णव भक्तो के लिए एकादशी का महत्व अत्यंत है | साल में 24 एकदशी आती है और जिस साल अधिक मास (पुरुषोत्तम मास) आता है तब यह एकादशिया 26 हो जाती है | हर एकादशी का विष्णु जी पूजा के लिए महत्वपूर्ण माना गया है | एकादशी के नियमो से व्रत करने वाला हर पूण्य की प्राप्ति करता है |

Other Similar Posts

विष्णु के सुदर्शन चक्र की कहानी , किसने दिया इन्हे यह

भगवान विष्णु के महा मंत्र और जाप विधि

कलियुग में होगा भगवान विष्णु का कल्कि अवतार

भगवान दत्तात्रेय के मंत्र और जप विधि

भारत में प्रसिद्ध और मुख्य  विष्णु मंदिर

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.