तुलसी नामाष्टक मंत्र से प्रसन्न होती है वृंदा देवी

तुलसी नामाष्टक मंत्र

लक्ष्मी देवी तुलसी तुलसी जी सदैव पूजनीय है | जिस घर के आँगन में तुलसी जी का पौधा हरा भरा रहता है वो घर वास्तुशास्त्र के दोष से दूर रहता है | उस घर में इनकी कृपा से कभी अन्न धन की कमी नही आती है | आज हम यहा आपके लिए लाये है तुलसी नामाष्टक मंत्र जिसमे विष्णु के रूप शालिग्राम शिला की प्रिया और पत्नी तुलसी जी के आठ नामो की महिमा बताई गयी है |


पढ़े : भगवान कार्तिकेय से जुडी मुख्य रोचक बातेtulsi ke aath nam

यदि आप हर दिन तुलजी जी की पूजा के बाद तुलसी जी की आरती के बाद यह मंत्र बोलेंगे तो नारायण और लक्ष्मी जी की अपार कृपा की प्राप्ति करेंगे |


वृंदा,वृन्दावनी,विश्वपुजिता,विश्वपावनी |
पुष्पसारा,नंदिनी च तुलसी,कृष्णजीवनी ||
एत नाम अष्टकं चैव स्त्रोत्र नामार्थ संयुतम |
य:पठेत तां सम्पूज्य सोभवमेघ फलं लभेत ||

अर्थात भावार्थ यह है की ……

वृंदा,वृदावनी,विश्वपुजिता,विश्वपावनी,पुष्पसारा,नंदिनी,तुलसी और
कृष्णजीवनी ये सभी आठ माँ तुलसी के प्रिय नाम हैं|

जो भी भक्त  तुलसी की पूजा इस  नामाष्टक का पाठ मन से करता हैं वह अश्वमेघ यज्ञ के फल के बराबर फल  प्राप्त करता हैं|

Other Similar Posts

तुलसी पूजन दिवस का महत्व

तुलसी के पौधे के पत्ते के कारगर उपाय जो दुर्भाग्य को दूर करे

तुलसी के पत्ते तोड़ते समय ध्यान रखे ये नियम

रविवार के दिन तुलसी ना तोड़े , ना पानी दे ?

क्यों करवाया जाता है तुलसी जी का विवाह

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *