सावन सोमवार व्रत से प्रसन्न होते है शिव

भगवान शिव की पूजा के लिए विशेष दिनों में क्रम से महाशिवरात्रि , सावन के सोमवार , प्रदोष और साप्ताहिक सोमवार आते है | इन दिनों जो भक्त पूर्ण समर्पण से भोलेनाथ की भक्ति में अपना समय बिताते है उनपर शिवजी अत्यंत प्रसन्न होते है | हमने पहले एक लेख में बताया था की क्यों भगवान शिव की पूजा सावन में विशेषकर की जाती है |aसावन सोमवार शिव पूजा व्रत

सावन सोमवार व्रत कैसे रखे – पूजा विधि


श्रावण सोमवार को अन्य सोमवार की तरह शिवजी का व्रत रखा जाता है | जैसे आप सोमवार को शिव पूजा करते है उसी तरह इस दिन भी शिव समान शिवलिंग की पूजा की जानी चाहिए |

सावन सोमवार व्रत से जुड़े कुछ मुख्य नियम

  • सूर्योदय से पूर्व उठकर व्रत शुरू करे जो दिन के तीसरे पहर तक चलेगा |
  • सुबह शिवलिंग का शिव को प्रिय चीजो के साथ अभिषेक करे |
  • उसके बाद सोमवार की शिव व्रत कथा का पाठ करे |
  • शिव आरती करे और शिव मंत्रो का जाप करे |
  • माँ पार्वती और शिव परिवार की भक्ति करे |
  • संध्या के बाद शिवलिंग के दर्शन करके भोजन ग्रहण करके व्रत को तोड़े |
  • रात को सोने से पहले एक रुद्राक्ष की माला महामृत्युंजय मंत्र की फेरे |

इस तरह सभी सावन के सोमवार को व्रत करके आप भोलेनाथ की कृपा के पात्र बन जाते है | शिव आपके सभी संकटों को दूर करके आपने जीवन में आनदं भर देते है |

Other Posts

कांवड़ यात्रा कैसे शुरू हुई और इससे जुड़े नियम जाने

शिव को अप्रसन्न करती है ये चीजे – शिवलिंग पर कभी नही चढ़ाये

वे उपाय जिससे शिव जी प्रसन्न होते है

शिवलिंग पर दूध क्यों चढ़ाया जाता है 

 

 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *