महालक्ष्मी के 12 नाम पाठ दिलाएगा सुख और समृधि

महालक्ष्मी के 12 नाम स्त्रोत

देवी महालक्ष्मी भगवान लक्ष्मीनारायण की शक्ति व संसार की समस्त सम्पत्तियों की स्वामिनी हैं। महालक्ष्मी के दो रूप हैं श्री रूप और लक्ष्मीरूप। एक रूप में वो उनके चरणों की सेवा में रहती है तो दुसरे रूप में भौतिक सम्पत्ति की देवी कहलाती है लक्ष्मी। भक्त इन्हे  भूदेवी या श्रीदेवी भी कहते हैं। जिस व्यक्ति पर इनकी कृपा हो जाये वो धन धान से पूर्ण हो जाती है |


mahalakshmi stroth

पढ़े : भारत में माँ लक्ष्मी के प्रसिद्ध मंदिर

पढ़े :महालक्ष्मी व्रत कथा | पूजा विधि और उद्यापन


अलग अलग नामकरण

महालक्ष्मी अपने भक्तो में अलग अलग नामो से पुकारी जाती है । तीन लोक में एक स्वर्ग के राजा देवराज इन्द्र के यहां यह ‘स्वर्गलक्ष्मी’ के नाम से, पाताल या नागलोक में  ‘नागलक्ष्मी’, महराजा इन्हे  ‘राज्यलक्ष्मी’, गृहस्थ व्यक्ति  के यहां ‘गृहलक्ष्मी’, व्यापारियों के यहां ‘वाणिज्यलक्ष्मी’ व युद्ध में विजेताओं के यहां ‘विजयलक्ष्मी’ रूप में रहती हैं।

 

लक्ष्मी जी बारह नाम वाला महालक्ष्मी स्तोत्र

दीपावली के दिन गणेश लक्ष्मी पूजा में इस  महालक्ष्मी के द्वादशनाम स्तोत्र के 11 बार पाठ करने चाहिए। यदि आप हर दिन यह  महालक्ष्मी  के 12 नामो का पाठ करेंगे तो लक्ष्मी स्थाई रूप से आपके घर में निवास करेगी |

महालक्ष्मी स्तोत्र

ईश्वर उवाच

त्रैलोक्य पूजिते देवि कमले विष्णुवल्लभे।
यथा त्वं सुस्थिरा कृष्णे तथा भव मयि स्थिरा।।
ईश्वरी कमला लक्ष्मीश्चला भूतिर्हरिप्रिया।
पद्मा पद्मालया सम्पद् रमा श्री: पद्मधारिणी।।
द्वादशैतानि नामानि लक्ष्मीं सम्पूज्य य: पठेत्।
स्थिरा लक्ष्मीर्भवेत् तस्य पुत्रदारादिभि: सह।।

महालक्ष्मी के बारह नाम

  1. ईश्वरी,
  2. कमला,
  3. लक्ष्मी,
  4. चला,
  5. भूति,
  6. हरिप्रिया,
  7. पद्मा,
  8. पद्मालया,
  9. सम्पत्ति,
  10. रमा,
  11. श्री,
  12. पद्मधारिणी।।

कैसे करे इसका पाठ

लक्ष्मी की मूर्ति या फोटो पर पंचोपचार पूजन विधि से पूजा करके यह महालक्ष्मी के बारह नाम पाठ ग्यारह बार करे |

Other Similar Posts

श्री गणेश द्वादश नाम स्तोत्र

हनुमानजी के 12 नाम पाठ

दीपावली पर लक्ष्मी को प्रसन्न करने के 51 उपाय

धन ( लक्ष्मी ) प्राप्ति के मंत्र और जप विधि

धन हानि से बचने के 5 उपाय

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.