गोरखनाथ के शाबर मंत्र की शक्ति

यदि कभी शाबर मंत्र की बात की जाये तो उसमे गुरु गोरखनाथ जी का नाम सबसे पहले आता है | यह मंत्र उनकी ही देन है | मंत्र वो है जो ईश्वर से अपना कार्य सम्पन्न कराए | गुरु गोरखनाथ के शाबर मंत्र चमत्कारी और असरदार है |

गुरु गोरखनाथ जी के शाबर मंत्र

यह मंत्र सम्मोहन वशीकरण में बहुत काम आते है | मंत्र को सिद्ध करने के बाद ही ये अपनी शक्ति दिखाते है | आज हम गुरु गोरखनाथ के 5 मुख्य शाबर मंत्रो के बारे में जानेंगे |

पढ़े : गुरु गोरखनाथ मंदिर , गोरखपुर , उत्तर प्रदेश

गोरखनाथ के शाबर मंत्र

1) वशीकरण दूर करने के लिए :

यदि किसी व्यक्ति को किसी ने अपने वश में कर रखा है , तो आप निचे दिए जा रहे मंत्र से उसे मुक्त करवा सकते है |

शाबर मंत्र : ॐ वज्र में कोठा, वज्र में ताला, वज्र में बंध्या दस्ते द्वारा, तहां वज्र का लग्या किवाड़ा, वज्र में चौखट, वज्र में कील, जहां से आय, तहां ही जावे, जाने भेजा, जांकू खाए, हमको फेर न सूरत दिखाए, हाथ कूँ, नाक कूँ, सिर कूँ, पीठ कूँ, कमर कूँ, छाती कूँ जो जोखो पहुंचाए, तो गुरु गोरखनाथ की आज्ञा फुरे, मेरी भक्ति गुरु की शक्ति, फुरो मंत्र इश्वरोवाचा.

मंत्र से ईलाज : सात कुओ या सात पवित्र नदियों का जल लाकर रोगी को इससे नहलाये और मंत्र जप सही विधि से करे | कैसा भी वशीकरण हो दूर हो जायेगा |

2) सर्व कार्य सिद्धि मंत्र


गोरख जती मछेन्द्र का चेला ,

शिव के रूप में दिखे अलबेला ,

कानों  कुण्डल गले में नादी ,

हाथ त्रिशूल नाथ है आदि ,

अलख पुरुष को करूँ आदेश  !!

जनम -जनम के काटो कलेष ,

भगवा वेश हाथ में खप्पर ,

भैरव -शिव का चेला।

जहाँ-जहाँ जाऊं

नगर -डगर लगे

फिर वहां  मेला

शिव का धुना गोरख तापे
काल-कंटक थर-थर कांपें

मेरी रक्षा करें नवनाथ ,

राम-दूत हनुमंत ऋद्धि -सिद्धि आँगन विराजे

माई अन्नपूर्णा सुखवंत शब्द साँचा , पिंड कंचा चलो मंत्र

इस शाबर मंत्र ११ बार माला सही विधि से फेरे और सर्व कार्य में सिद्धि पाए |

Other Similar Posts

देवताओ के गुरु देवगुरु बृहस्पति के दिव्य मंत्र

शिष्य के लिए गुरु की महिमा है महान

दैत्यों के गुरु शुक्राचार्य से जुडी मुख्य 10 बाते

पञ्चमुखी हनुमान मंत्र की शक्ति

माला से मंत्र जप के 10 मुख्य नियम और विधि

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *