देवी लक्ष्मी पूजन की सरल विधि

लक्ष्मी जी की पूजा विधि

Worship Method Of Goddess Lakshmi In Hindi


सामग्री Samgri
लक्ष्मी जी की मूर्ति या फोटो फ्रेम  के स्नान के लिए , लकड़ी की चौकी , लाल कपडा , एक  तांबे का लोटा, पंचामृत , शुद्ध जल का कलश, माँ की चुनरी वस्त्र , आभूषण |  चावल, शुद्ध घी दीपक ,हल्दी , कुमकुम, धूप , इत्र  धूपबत्ती, अष्टगंध ,सप्तधान । गुलाब या कमल पुष्प । प्रसाद के लिए फल, खीर , मिठाई, नारियल, पञ्चमेवे ,  पान, दक्षिणा में से जो भी हो।

माँ लक्ष्मी की पूजन विधि

साथ में रखे लक्ष्मी जो प्रिय चीजे जैसे श्रीयंत्र , दक्षिणावर्ती शंख , कौड़ी , चांदी के सिक्के आदि |

आचमन Aachman :

आचमन में शरीर के साथ मन की शुद्धि की जाती है | आचमन पूजा में अपना महत्व रखता है पर हम में से बहुत सारे इस विधि का प्रयोग नही करते है | आचमन के समय जो थोडा सा जल हम ग्रहण करते है वो ह्रदय के पास आज्ञा चक्र तक ही जाता है और उसे शुद्ध करता है जिससे की हमारे विचार ,चित्त और सोच शुद्ध हो जाते है | पवित्र लोटे से मोली बंधी हुई दूर्वा या चम्मच से तीन बार जल हथेली पर लिया जाता है फिर उसे मुंह से ग्रहण करके हाथ धो लिए जाते है |


सकंल्प विधि Sankalp Vidhi
किसी विशेष मनोकामना के पूरी होने की इच्छा से किए जाने वाले पूजन में संकल्प की जरूरत होती है। निष्काम भक्ति बिना संकल्प के भी की जा सकती है।
संकल्प करने से पहले हाथों में जल, फूल व चावल लें। सकंल्प में जिस दिन पूजन कर रहे हैं उस वर्ष, उस वार, तिथि उस जगह और अपने नाम को लेकर अपनी इच्छा बोलें। अब हाथों में लिए गए जल को जमीन पर छोड़ दें।

संकल्प का उदाहरण Example Of Sankalp
संकल्प विधि में आप उस समय की तिथि , समय , जगह का नाम , अपना नाम , गोत्र और अपनी मनोकामना के बारे में कहे | जैसे मैं निर्मल शर्मा , भारद्वाज कूल का पुत्र जयपुर राजस्थान से माघ मास की अमावस्या में रोहिणी नक्षत्र में सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड के कल्याण के लिए लक्ष्मी पूजा का संकल्प ले रहा हूँ  | यह उदाहरण है आप इसमे अपना नाम और बाकि डिटेल काम में ले |

पढ़े : भारत में माँ लक्ष्मी के प्रसिद्ध और मुख्य मंदिर

पूजन विधि Worship Method

lakshmi poojanसबसे पहले श्री गणेश जी को याद करे क्योकि वे प्रथम पूज्य देवता है और विध्नो को दूर करने वाले है | उनकी पूजा में उन्हें स्नान कराये और वस्त्र , पुष्प , इत्र अक्षत आदि अर्पित करे | फिर अपने गुरु जनों को याद करे और फिर माँ लक्ष्मी का पूजन नारायण भगवान् का नाम लेकर शुरू करे |

यदि माँ लक्ष्मी की मूर्ति का रूप वर मुद्राधारी और कमल के आसन पर विराजित है जो हाथ में धन कलश रखी हुई है तो अति उत्तम होगा |

माँ लक्ष्मी की प्रतिमा को चौकी के ऊपर  लाल कपडे पर विराजित कर माँ का आवाहन करे | उन्हें आसन दे , जल और पंचामृत से स्नान कराये और फिर वस्त्र आभूषण भेट करे | माँ लक्ष्मी को गुलाब की माला पहनाये और इत्र धूप से सुगंधित करे |

एक शुद्ध घी का दीपक प्रज्वलित करे और पूजन सामग्री में बची हुई चीजे माँ को अर्पित करे | भोग चढ़ाये |

अब माँ लक्ष्मी के 108 नामो का पाठ करे , फिर आरती करे | कमलगट्टे की माला से माँ लक्ष्मी के मंत्र का जप करे | आप चाहे तो लक्ष्मी बीज मंत्र का जप कर सकते है |

Other Similar Posts

पीली कौड़ी के साथ हल्दी का यह टोटका , लक्ष्मी को खीच लायेगा घर में

लक्ष्मी को प्रिय कौड़ी के सिद्ध 6 उपाय

देवी लक्ष्मी को प्रिय है यह 5 चीजे , घर में रखे , कभी पैसो की कमी नही आएगी

12 राशियों के 12 लक्ष्मी प्राप्ति मंत्र

महालक्ष्मी के 12 नाम पाठ दिलाएगा सुख और समृधि

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.