देवताओ के गुरु देवगुरु बृहस्पति के दिव्य मंत्र

देवताओ के गुरु बृहस्पति देव को बताया गया है | यह देवताओ को ज्ञान की शिक्षा देते है | भगवान शिव की घोर तपस्या से इन्हे यह देवगुरु का पद प्राप्त हुआ है |

देवगुरु बृहस्पति की पूजा से मिलने वाला फल

इनके बिना कोई हवन पूर्ण नही होता | यह ज्ञान नीति धर्म और वास्तु के महा गुरु है | यदि कोई व्यक्ति इनकी पूजा करता है तो ये अपना ज्ञान उसे प्रदान करते है | ज्ञान प्राप्ति पर मनुष्य आध्यातिम्क सुख की प्राप्ति करता है |
देवगुरु मंत्र


यह देवताओ को मनुष्यों के बीच मध्यस्था रखते है और मनुष्यों की प्रार्थना देवताओ तक जल्द पहुंचाते है | यह नवग्रह में भी एक महत्वपूर्ण स्थान रखते है अत: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार इनकी पूजा करने से दुसरे ग्रह भी अपनी कृपा पूजा करने वाले पर रखते है |

पढ़े : बीज मन्त्र की शक्ति और महिमा

पढ़े : पूजा आराधना से जुड़े मुख्य लेख

देवताओ के गुरु बृहस्पति के पाँच मुख्य मंत्र

आइये जानते है वे दिव्य और शक्तिशाली गुरु मंत्र जिनसे प्रसन्न होते है गुरुवर बृहस्पति देव | हर गुरूवार के दिन इन मंत्रो का रुद्राक्ष की माला एक साथ जप करे और गुरु की कृपा के पात्र बने |

मंत्र उच्चारण से पूर्व पीले वस्त्र धारण करे और मंत्र उच्चारण के बाद पीली चीजो जैसे दाल आदि का दान करे |

  1. ।। ॐ ग्रां ग्रीं ग्रौं स: गुरवे नम: ।।
  2. ।। ॐ बृं बृहस्पतये नम: ।।
  3. ।। ॐ क्लीं बृहस्पतये नम: ।।
  4. ।। ॐ गुं गुरवे नम: ।।
  5.  ।। ॐ ऐं श्रीं बृहस्पतये नम:।।

Other Similar Posts

कौन है भगवान सत्यनारायण – जाने महिमा

क्यों भगवान शिव को पसंद है प्रदोष

पुराणों में बताये गये वे काम , जो कर देते है आपकी उम्र कम

नारायण कवच पाठ से मिलने वाले शक्तिशाली लाभ

एकादशी पर कभी भी ये काम तो भूल कर भी ना करे – नाराज होते है विष्णु और लक्ष्मी

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.