अधिकमास की पूर्णिमा के उपाय

अधिकमास की पूर्णिमा के उपाय

Adhikmaas Purnima Ke Upay in Hindi

29 मई 2018 , मंगलवार को अधिकमास की पूर्णिमा है। अधिकमास की  पूर्णिमा ज्येष्ठ मास में 3 साल में एक बार आती है | यह 28 मई को सायं 8 बजकर 40 मिनट से शुरू होकर 29 मई को सायं 7 बजकर 49 मिनट तक रहेगी | पुरषोतम मास  का महत्व धार्मिक कर्मो को देखते हुए अत्यंत है क्योकि इस मास  को स्वयं कृष्णा ने अपना नाम देकर वरदान दिया था | 


पुरषोतम मास में आने वाली पूर्णिमा और एकादशी  पर पूजा पाठ और उपायों का फल अत्यंत बढ़ जाता है अत: आइये जानते है इस दिन किये जाने वाले वो उपाय जो धन के योग बना दे और बुरे समय को दूर करे…

अधिकमास पूर्णिमा के उपाय

1. अपार धन की लालसा रखने वाले इस दिन माँ लक्ष्मी को प्रसन्न करने के लिए कमलगट्टे की माला से उक्त लक्ष्मी धन प्राप्ति मंत्र का जप करे |


मंत्र है : ॐ ह्रीं ऐं क्लीं श्री: | Om Hreem Aim Kleem Shreem
2. अधिक मास खास तौर पर कृष्ण और विष्णु की पूजा का समय माना गया है अत: इस पूनम को भगवान विष्णु की प्रतिमा को एक  दक्षिणावर्ती शंख में  दूध में केसर डाल कर स्नान कराये और पीले वस्त्र पहनाये | यकीन माने जगत के पालनहार आपको भविष्य में  शुभ फल देंगे |

3. सुबह नहा कर तुलसी के पौधे को शुद्ध जल से सींचे | एक गाय के शुद्ध घी का दीपक जलाये और माँ तुलसी के आठ नाम का पाठ करे | इसके बाद ग्यारह परिक्रमा करे और सुख शांति की विनती तुलसी और शालिग्राम जी करे |

चन्द्र देवता को अर्ध्य

4. पूर्णिमा की रात्रि चन्द्र देवता को केसर खीर का भोग लगाये और दूध से अर्ध्य दे |

5. जरूरतमंद और गरीब बच्चो को वस्त्र , अन्न का दान करे | उनके चेहरे पर मुस्कान लाने से भगवान अत्यंत प्रसन्न होंगे |

6. तंत्र विज्ञान में मान्यता है की मलमास की इस पूर्णिमा को घर में यदि सहदेवी का पौधा लाया जाये और हर दिन उसकी पूजा की जाये तो घर में सुख समृधि में बढ़ोतरी होती है |

Other Similar Posts

मलमास ( पुरुषोत्तम मास ) में क्या करे और क्या नही करे

पुरुषोत्तम मास पौराणिक कथा , क्यों है पूजा पाठ का अत्यंत महत्व

विष्णु को प्रिय है ये 6 चीजे , पूजा में काम में लेने से जल्दी प्रसन्न होते है नारायण

देवी लक्ष्मी पूजन की सरल विधि

पूर्णिमा के दिन टोटके और उपाय जो सुख ही सुख लाये

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.