हनुमानजी के 12 नाम पाठ

हनुमानजी के 12 नाम

श्री हनुमान जी के 12 चमत्कारी  नाम और उनका प्रभावशाली पाठ

हनुमान जी के 12 नाम


हनुमानजी इस कलियुग में अति जल्द प्रसन्न होने वाले देवता है जो युगों युगों  से चिरंजीवी है | भक्त की पुकार पर जल्दी ही कृपा बरसाते  है | यह स्तुति आनन्दरामायण में दी गई है।   यह बहुत ही चमत्कारी स्तुति है और यदि कोई व्यक्ति नियमित रूप से इस स्तुति का जप करता है,  उसकी सभी परेशानयिां दूर होकर वे सुख सरिता में गोते लगाते है । यह 12 हनुमान जी के नाम किसी महामंत्र  से कम नही है और हर नाम हनुमानजी के गुणों का सागर है  |

जाने हनुमान जी के यह 12 नाम :

हनुमानञ्जनीसूनुर्वायुपुत्रो महाबल:। रामेष्ट: फाल्गुनसख: पिङ्गाक्षोऽमितविक्रम:।।

उदधिक्रमणश्चैव सीताशोकविनाशन:। लक्ष्मणप्राणदाता च दशग्रीवस्य दर्पहा।।

एवं द्वादश नामानि कपीन्द्रस्य महात्मन:। स्वापकाले प्रबोधे च यात्राकाले च य: पठेत्।।

तस्य सर्वभयं नास्ति रणे च विजयी भेवत्। राजद्वारे गह्वरे च भयं नास्ति कदाचन।।

  1. हनुमान ! Hanuman
    2. अंजनी सूत ! Anjni Soot
    3. वायु पुत्र ! Vayu Putra
    4. महाबल ! Mahabal
    5. रामेष्ट ! Ramesht राम के प्रिय
    6. फाल्गुन सख ! Phalgun Sakha अर्जुन के मित्र
    7.पिंगाक्ष ! Pingaksh भूरे नेत्रवाले
    8.अमित विक्रम ! Amit Vikram
    9.उदधि क्रमण ! Udhikrman समुद्र को अतिक्रमण करने वाले
    10.सीता सोक विनासन ! Sita Shock Vinashan
    11.लक्ष्मण प्राण दाता ! Lakshman Pran Data
    12.दस ग्रीव दर्पहा ! Dash Grieve Darpha : रावण के घमंड को दूर करने वाले

किस समय नाम जपने से क्या फल प्राप्त होता है :

* बह्र्म मुहूर्त में इन  बारह नामों को 11 बार जाप करने से  व्यक्ति दीर्घायु होता है !
* नित्य नियम के समय नाम लेने से इष्ट की प्राप्ति होती है!
* दोपहर में नाम लेने से गरीबी दूर होती है और व्यक्ति धनवान बनता  है!
* संध्या के समय 12 नामावली का पाठ करने से  व्यक्ति पारिवारिक सुखो में बढ़ोतरी होती  है!
* रात्रि को सोते समय नाम लेने वाला व्यक्ति की शत्रु पर जीत होती है!
* उपरोक्त समय के अतिरिक्त इन बारह नामों का पाठ करने से दसो दिशाओ से रक्षा होती है |

हनुमानजी से जुड़े हुए यह लेख भी जरुर पढ़े

पूजा में हनुमानजी को क्या क्या प्रिय है

कैसे चढ़ाये हनुमानजी को सिंदूरी चोला

रामचरितमानस की मंगल भवन अमंगलहारी चौपाई

जाने हनुमानजी के साथ ओर कौन कौन है चिरंजीवी

पंचमुखी हनुमान की महिमा

सोने की लंका का हनुमान द्वारा दहन माँ पार्वती की इच्छा थी

12 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.