सुबह उठकर सबसे पहले यह मन्त्र (कर वंदना ) करे

कर दर्शनम प्रात काल

कर दर्शन से करे अपने दिन की शुरुआत

शास्त्र बताते है की मनुष्य के जीवन में कर दर्शन का कितना अधिक सकारात्मक प्रभाव पड़ता है |

कर दर्शन का मतलब अपने हाथो के दर्शन करना |निम्न तरीके से रोज ईश्वर की वंदना करने से आपका पूरा दिन मंगलकारी हो जायेगा | बुद्धि धन और पालन पोषण में आप सफलता पाएंगे |

कैसे करे सुबह उठते ही मंत्र जाप और  कर दर्शन :

सुबह उठते ही पालकती बांधकर बैठ जाये और दोनों हथेलियों को आपस में मिलकर पुस्तक की मुद्रा में अपने मुख के पास ले आये जिससे की आप अपने दोनों हाथो की हथेलियों  को देख सके |

अब उक्त मंत्र का मन में जाप करे :

कराग्रे वसते लक्ष्मी , करमध्ये सरस्वती

कर मुले स्थितो गोविन्द प्रभाते करदर्शनम ||

भावार्थ :

मेरे हाथ के अग्र भाग में धन की देवी लक्ष्मी जी का वास है , हाथ के मध्य में विद्या की देवी सरस्वती विराजित है |

हाथ के मूल भाग में भगवान विष्णु पालनहार का वास है | इन सभी के दर्शन मैं अपने हाथो में करके अपने दिन की शुरुआत करने जा रहा हूँ |

हाथ के  दर्शन ही क्यों :

जीवन में कर्म का अति महत्व बताया गया है | गीता के उपदेश में भगवान श्री कृष्ण ने अर्जुन को इसी कर्म  की महिमा बताई है | मनुष्य के शरीर में हाथ ही सबसे ज्यादा कर्मशील अंग है अत: हाथ में ही देवी देवताओ का वास बताया गया है |
यह भी जरुर पढ़े

काल भैरव स्त्रोत – यम यम यक्ष रूपं

आपकी राशी और उनसे जुड़े मंत्र पढ़े

घर के मंदिर में ये बाते जरुर रखे ध्यान नही तो होगी मुसीबत

पांडवो ने बसाया था दिल्ली में किलकारी भैरव को

जाने क्या होती है सोमवती अमावस्या और इसकी महिमा

भगवान शिव के महा मंत्र और जाप विधि पढ़े

एशिया की सबसे बड़ी गणेश प्रतिमा के बारे में जाने

क्यों भगवान शिव की भक्ति के लिए सावन का महिना अति उत्तम है

3 comments

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.