गणेश लक्ष्मी की पूजा एक साथ क्यों

गणेश लक्ष्मी पूजा एक साथ क्यों

क्यों गणेश लक्ष्मी की पूजा एक साथ की जाती है ?

आपने दिवाली पर लक्ष्मी जी के साथ गणेश का पूजन किया होगा | पर आपने कभी सोचा है की विष्णु जी की जगह पर गणेश जी का लक्ष्मी के साथ पूजा क्यों की जाती है ?
जब मंदिरों में राधे कृष्णा , शिव पार्वती , सीता राम की साथ साथ पूजा होती है तो फिर दिवाली के दिन गणेश लक्ष्मी की पूजा का विधान क्यों है |

कैसे करे गणेश जी को प्रसन्न – उपाय

पढ़े : हिन्दू देवी देवताओ की पौराणिक कथाये

हम सभी जानते है की गणेश जी को सभी धार्मिक कार्यो में सबसे पहले पूजे जाने का वरदान प्राप्त है | इसके अलावा यह बुद्धि के देवता और वे विघ्न विनाशक  है | यदि दूर्वा से गणेश पूजा करे तो यह जल्द प्रसन्न होते है |   किसी व्यक्ति को लक्ष्मी जी की पूजा से धन तो प्राप्त हो जाये पर उसमे बुद्धि ना रहे तो यह धन उसके लिए किसी काम  का नहीं है अत: धन के साथ बुद्धि भी जरुरी है जो लक्ष्मी और गणेश पूजन से ही संभव है |

लक्ष्मी गणेश पूजन के पीछे एक  किवदंती है :

एक बार एक वैरागी साधु  को धन सम्पदा से परिपूर्ण जीवन जीने की इच्छा हुई | अपनी इसी कामना को पूर्ण करने के लिए उसने लक्ष्मी जी की नित्य दिन आराधना करना शुरू कर दिया | लक्ष्मी जी उसकी पूजा से प्रसन्न होकर उसे उच्च पद और धन सम्पदा से पूर्ण कर दिया | यह सम्मान पाकर साधु में अहम आ गया है | एक दिन वो अपने राज्य के राजा  के दरबार में जाकर उनके मुकुट को उनके सिर से निचे गिरा दिया |

यह कुकर्म और राजा के ऐसा अपमान देख कर सैनिको ने उन्हें पकड़ लिया | तभी उस गिरे हुए मुकुट में से एक नाग निकलकर भागने लगा | सारे दरबार को साधू का यह कृत्य राजा को उस नाग से बचाने के लिए लगा | वे सभी साधु को और अधिक सम्मान देने लगे | राजा ने उसे अपने राज्य का मंत्री बनाकर राजमहल में रहने दिया | साधु की जय जयकार होने लगी |


एक दिन राजा दरबार में बैठे हुए थे | तभी साधु ने उनका हाथ पकड़ा और दरबार से ले गये | सभी दरबारी पीछे पीछे भागने लगे | थोड़ी देर बाद दरबार की छत गिर गयी | फिर सभी को यही लगा की साधु ने फिर चमत्कारी ढंग से उन सभी की  जान बचाई है |

अब तो सब उन्हें ईश्वर तुल्य मानने लगे | साधु  का अहंकार अब चरम पर आ पंहुचा था |

एक दिन इस अन्धकार में अंधे होकर उन्होंने महल में एक गणेश जी की मूर्ति को हटवा दिया | उन्होंने बुद्दी के विहीन होकर यह कह दिया की इस मूर्ति के कारण महल की रौनक ख़राब हो रही है |

बस उनका ऐसा करना गणेश जी को नाराज कर गया | गणेशजी ने उस साधु की बुद्दी फेर दी | अब साधु जो भी करता गलत ही करता | साधु के कर्मो को देखकर  राजा ने उने कैद करवा दिया |

साधु अब जेल में फिर से लक्ष्मी जी की पूजा करने लगा | तब लक्ष्मी ने प्रसन्न होकर बताया की तुमने गणेश जी को नाराज किया है | इसलिए तुम अच्छी बुद्दी के लिए गणेश जी की पूजा करो | साधु ने बताये अनुसार अब गणेश जी की पूजा की और और बुद्दी के देवता ने उनकी भूल को माफ़ कर दिया |

उसी  रात राजा को सपने में गणेश जी ने दर्शन दिए और उन्हें आदेश दिया की साधु को जेल से मुक्त कर दे | अगले दिन साधु को फिर से वही सम्मान प्राप्त हुआ | अब वो जान गया की धन की साथ बुद्दी भी बहुत जरुरी है |

इस प्रकार दीपावली की रात्रि में लक्ष्मीजी के साथ गणेशजी की भी आराधना की जाती है।

सनातन धर्म से जुड़े लेख यह भी जरुर पढ़े

क्यों गणेश जी की पीठ के दर्शन करना मना है

पीपल की महिमा और पूजन विधि

कैसे करे गणेश चतुर्थी पर पूजा – जाने विधि 

गणेश जी के चमत्कारी मंत्र करेंगे संकट दूर

गणेश जी के लिए गये सभी अवतार कौनसे है

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *