कैसे करे पितृ दोष दूर , पितृ शांति के उपाय

क्या होता है पितृ दोष और इसके लक्षण :

Pitra Dosh Ke lakshan Or Niwaran Upay

हमारे कूल के किसी पितृ देवी देवता  की जब हम अनदेखी करते है या उन्हें सम्मान नही देते , किसी शुभ कार्यो पर उन्हें याद नही करते तो वे हमसे नाराज हो जाते है और हमें पितृ दोष का सामना करना पड़ता है |


पितृ दोष निवारण उपाय

इस दोष से परिवार की सुख शांति खत्म हो जाती है | मानसिक आर्थिक समस्याए उत्पन्न होने लगती है | हमारे पूर्वज जो पितृ बन चुके है , बस घर के बड़ो की तरह सिर्फ मान सम्मान के भूखे होते है | हमें कभी यह नही भूलना चाहिए की उनसे ही हम है इसलिए उन्हें पूर्ण श्रद्दा से सम्मान देना चाहिए |

पढ़े : पितृ दोष दूर करने का यन्त्र और मंत्र

पढ़े : श्राद्ध पक्ष से जुड़े नियम और ध्यान रखने योग्य बाते

कैसे करे पितृ दोष को दूर  और पितृ शांति :

पितृ दोष को दूर करने का सबसे सीधा तरीका तो यही है की आप अपने पितरो को अच्छे से मनाये , उनकी नाराजगी को दूर करे और उन्हें उनका सम्मान दे | श्राद्ध पक्ष में पूजा विधि से पितरो का तर्पण किया जाना चाहिए |  इसके लिए यह जरुर करे पितृ शांति के उपाय |
पितृ दोष निवारण


– पितर आदर सम्मान चाहते है | किसी भी शुभ कार्य , मांगलिक कार्य , पूजा पाठ में हमें उनको जरुर याद करना चाहिए । उन्हें पूर्ण सम्मान और श्रद्दा भाव से पूजना चाहिए |
– जब भी आप पूजा करे तब पूजा के बाद ईश्वर से अपने ज्ञात और अज्ञात पितरो के हित के लिए भगवान से कामना करे | अपने पितरो से भूलवश कोई भी अपराध हुआ हो तो उसकी क्षमा मांगे |
– अमावस्या के दिन हलवा और खीर का भोग अपने ज्ञात पितरो को लगाये |
– अमावस्या के दिन स्टील के लोटे में कच्चा दूध , दो लौंग , दो बतासे , डाब , काले तिल  लेकर संध्या के समय पीपल के पेड़ पर चढ़ा दे फिर एक जनेऊ चढ़ाये | इससे पितृ देव खुश होते है |
– प्रत्येक अमावस्या को गाय को पांच फल भी खिलाने चाहिए |

इसके अलावा कुछ अन्य असरदार और उपयोगी उपाय

* अमावस्या के दिन किसी बबूल के पेड़ के निचे संध्या को पितरो को समर्पित करते हुए भोजन रखे |
* प्रत्येक अमावस्या को एक ब्राह्मण को भोजन कराने व दक्षिणा वस्त्र भेंट करने से पितृ दोष कम होता है ।
* पितृ दोष से पीड़ित व्यक्ति को प्रतिदिन शिवलिंग पर जल चढ़ाकर महामृत्यूंजय का जाप करना चाहिए ।
* माँ काली की नियमित उपासना से भी पितृ दोष में लाभ मिलता है।
* खाना बनने के बाद पितरो के नाम से भी भोजन निकाले और गौ माँ को खिलाये |
* हो सके तो हर दिन रविवार को छोड़कर हर संध्या पीपल के पेड़ के निचे एक दीपक सरसों के तेल का पितरो के नाम पर जला कर आये और उन्हें आशीष मांगे |
* सर्व पितृ अमावस्या पर इनकी विदाई पूर्ण सम्मान और आदर के साथ दीपक जलाकर करे |

पितरो से जुड़े यह लेख भी जरुर पढ़े

  1. पितृ देवी देवता कौन होते है – क्यों इन्हे देव तुल्य बताया गया है
  2. पितृ पक्ष में पालन करे यह नियम
  3. अमावस्या पर करे यह उपाय , आपका सोया हुआ भाग्य जाग जायेगा
  4. पितरो को क्या क्या करे दान
  5. कैसे करे पितरो की विदाई

7 comments

  • Pirton ke bisay main jankari batayain

  • pl see

  • मेने जब से होस सभाला है तब से पित्रो का करता आरा हु पर जब की किसी पडंत से पुछा तो कहता हे कि पित्र दौष है मे क्या करू बहुत परेशान हू

    • मनोहर सिह

      मेरी तिन पिडीयो से पित्र दोस ह कोई उपाय बताऐ

  • Gopal Krishna Gamoth

    कृपया किसी पुराने घर में स्थापित पितृदेव को नये घर में स्थापित करने कि विधि एवं उपाय बतावें।

  • Hamare gar per jamin jyadad dukan dhande sab kuch hote hua bhi na to barkat he na hi shukh shanti he hamesha samsya charo aur se ghere rakti he
    Krapiya uchit samadhan dijiye

  • Mere Ghar me Kisi ki shaadhi ni ho Rahi hai, or Na Kisi ki job ni lag Rahi h,sukh Santi,family me Kisi Na Kisi ko koi ROG Hota ja rha toh plz bataye Kya mere Ghar me pitra Dosh hai..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.