भूल से भी ना लगाये यह तस्वीरे घर में

तस्वीरो में वास्तुशास्त्र दोष

घर में लगी तस्वीरे भी वास्तुदोष का कारण बन सकती है जिससे घर में सुख शांति में विध्न आ सकता है | अत: सोच समझकर ही अपने घर में तस्वीरे लगाये | कभी कभी गलत तस्वीर लगाने से आप अनजाने में ही नकारात्मक शक्तियों को आमंत्रित कर लेते है और फिर उसकी हानि पुरे परिवार को भोगनी पड़ती है | […]

Read more

लाइलाज बीमारी का इलाज

लाईलाज बीमारी का ईलाज

बहुत सी बीमारिया ऐसी होती है की विज्ञान और डॉक्टर भी उन्हें टीक नही कर पाते पर चमत्कार भी होते है और कभी कभी यह चमत्कार आपको बीमारी से निजात दिला देते है | जरुरी नही की निचे दिए जाने वाले इलाज सभी के लिए कारगर हो पर इन्हे करके यदि बीमारी को ठीक किया जा सके तो इसे करना […]

Read more

कैसे चढ़ाये हनुमान जी के चोला

हनुमान जी के चोला चढाने की विधि

हनुमान जी को  शीघ्र प्रसन्न करने का उपाय है की उन्हें मंगलवार या शनिवार को सिंदूरी चोला चढ़ाया जाये | अपने भगवान श्री राम के दीर्घायु के लिए उन्होंने यह चोला धारण किया था | इस चोले को चढाते समय कुछ बाते जरुर ध्यान रखे | शुद्ध जल और गंगा जल से स्नान : सबसे पहले हनुमानजी की प्रतिमा को […]

Read more

भैरव जी के सभी रूप

भैरवजी के रूप

भैरव के कई रूप है कुछ इसे कुछ 12 तो कोई आठ और कुछ 9 रूप बताते है | यह जो नौवा रूप है वो भविष्य भैरव का बताया गया है जिससे गुप्त भैरव के नाम से भी जाना जाता है | यह भैरव भविष्य में आने वाली मुसीबतों को ख़त्म करने वाले है | जो भैरव के 12 स्वरुप […]

Read more

भैरव जी के सिद्ध मंत्र

भैरव के मंत्र

भैरव रूद्र शिव के त्रिनेत्र की ज्वाला से जन्मे है | इनका जन्म अहंकार और असत्य के नाश के लिए हुआ है | ज्यादातर मनुष्य इन्हे रूद्र उग्र देवता के रूप में मानते है और पूजते है | पर इनका एक बहूत ही प्यारा और सोम्य रूप बटुक भैरव का भी है | भैरव के वैसे तो आठ रूप है […]

Read more

कैसे करे भैरव जयंती कालाष्टमी पर पूजा पाठ

भैरव की पूजा विधि – कालाष्टमी विशेष मार्गशीर्ष मास की कृष्णपक्ष अष्टमी  (आठे) (  नवंबर / दिसम्बर  ) को भगवान शिव ने अपने त्रिनेत्र से इन्हे ब्रह्मा  का झूठा अहंकार खत्म  करने के लिए अवतरित किया था | इस साल 2019 में भैरव जयंती मंगलवार, 19 नवंबर को आ रही है | यह शिव के पांचवे अवतार ही है | […]

Read more

श्री भैरव चालीसा

भैरव चालीसा

जाने भैरव चालीसा के पाठ के बारे में जो भैरव के गुणों और महिमा का अति सुन्दरतम व्याख्या करता है  | यह चालीस पंक्तिया भैरवनाथजी की छवि महिमा और सिद्धियों को बताती है | ॥ दोहा ॥ श्री गणपति, गुरु गौरि पद, प्रेम सहित धरि माथ । चालीसा वन्दन करों, श्री शिव भैरवनाथ ॥ श्री भैरव संकट हरण, मंगल करण […]

Read more

भैरव की भैरवीया

भैरव की भैरविया

भैरव के साथ भैरवी पूजन का भी विधान है | हर शक्तिपीठ पर माँ के हर रूप के साथ कोई ना कोई भैरव विद्यमान है | आप जितने भी शक्तिपीठो में जायेंगे आपको हर शक्ति (भैरवी ) के साथ भैरव भी उस पीठ में दिखाई देंगे | ये दोनों एक दुसरे के बिना अपूर्ण है | महाकाल के बिना महाकाली […]

Read more

भैरव रक्षा कवच

भैरव रक्षा कवच

क्या महत्व है रक्षा कवच का : Bhairav Raksha Stroth नाम से ही ज्ञान होता है की ऐसा कवच जो आपकी रक्षा (protection )करेगा | भैरव का यह कवच अति शक्तिशाली ( Powerful ) है नकारात्मक ऊर्जा से बचाव से | किसी भी साधना को जब साधक द्वारा किया जाता है तो गलत और नकारात्मक शक्तियाँ (Negative Energy ) उसमे […]

Read more

श्री बटुक भैरव आरती हिंदी

भैरव चालीसा

जय भैरव देवा, प्रभु जय भैंरव देवा । जय काली और गौरा देवी कृत सेवा ।। तुम्हीं पाप उद्धारक दु:ख सिंधु तारक । भक्तों के सुख कारक भीषण वपु धारक ।। वाहन शवन विराजत कर त्रिशूल धारी । महिमा  अमित तुम्हारी जय जय भयकारी ।। तुम बिन देवा सेवा सफल नहीं होंवे । चौमुख दीपक दर्शन दु:ख सगरे खोंवे ।। […]

Read more
1 114 115 116 117 118 124