विष्णु लक्ष्मी की तपोस्थली – बद्रीनाथ धाम कथा

बद्रीनाथ धाम कथा

बद्रीनारायण धाम का महत्व और  विशेषता : बद्रीनाथ धाम को बद्रीनारायण बद्री विशाल आदि नामो से पहचाना जाता है | यह हिन्दुओ के मुख्यत चार  धामों में से एक है जो भगवान विष्णु और माता लक्ष्मी को समर्प्रित है | विष्णु भगवान के परम धामों में से एक बद्रीनाथ तीर्थ के दर्शन करना हर धार्मिक व्यक्ति का स्वपन होता है […]

Read more

बसंत पंचमी 2019 पर माँ सरस्वती की पूजन विधि

बसंत पंचमी का महत्व और सरस्वती पूजा विधि : Basant Panchami  2019 Importance In Hindu Religion यह त्यौहार ज्ञान संगीत की देवी माँ सरस्वती की याद में मनाया जाता है | हिन्दू धर्म में माँ सरस्वती को ज्ञान की गंगा , संगीत और कला की देवी का परम स्थान प्राप्त है | इसी दिन माघ मास के शुक्ल पक्ष की […]

Read more

कथा – शिव ने क्यों किया कामदेव को भस्म

कामदेव का शिव द्वारा भस्म होना

कामदेव को काम वासना प्रेम का देवता माना गया है | इस जगत में काम इच्छा के यही जनक है | पर एक बार ऐसा क्या हुआ की खुद कामदेव को भगवान रूद्र ने भस्म कर दिया | दक्ष प्रजापति के हवन में माँ सती अपने और अपने पतिदेव शिव का जब अपमान ना सह सकी तो उन्होंने उसी पवित्र […]

Read more

पूजन के सन्दर्भ में काम आने वाले मुख्य शब्द अर्थ सहित

पूजन में काम आने वाले शब्द

पूजन एवं साधना के सन्दर्भ में प्रयुक्त होने वाले कुछ शब्दों का अर्थ आप सभी के ज्ञानवर्धन के लिए 1. पंचोपचार – गन्ध , पुष्प , धूप , दीप तथा नैवैध्य द्वारा पूजन करने को ‘पंचोपचार’ कहते हैं। जाने पंचोपचार पूजन विधि 2. पंचामृत – दूध , दही , घृत , शहद तथा शक्कर इनके मिश्रण को ‘पंचामृत’ कहते हैं। […]

Read more

पूजा में अक्षत (चावल ) का प्रयोग

पूजन में चावल को काम में लेना

हम भली तरह जानते है की हिन्दुत्व में जब भी पूजा का कोई कार्यक्रम या हवन होता है तो पूजन थाल में श्वेत चावल जरुर प्रयोग में लाये जाते है | इन चावलों का पूजा में होना अनिवार्य माना जाता है | बिना इनके पूजा संपन्न नही मानी जाती है | चावल को अक्षत कहा जाता है जिसका अर्थ है […]

Read more

शनि जयंती का महत्व और पूजा विधि

शनि देव के जन्मोत्सव की महिमा और पूजा विधि Shani Jayanti Pooja Vidhi Or Mahatv सूर्य पुत्र शनि देव का जन्मोत्सव ज्येष्ठ मास की कृष्ण पक्ष की अमावस्या को बड़ी धूम धाम से शनि मंदिरों में मनाया जाता है | शनि नवग्रह में से एक है और इनके चारो तरफ एक रिन्गनुमा आकृति है | इनके प्रसन्न रहने पर व्यक्ति […]

Read more

शनिवार के दिन शनिदेव पूजा और व्रत

शनिवार शनिदेव पूजा

आप किसी भी शनिवार से यह शनि व्रत शुरू कर सकते है , आपका यह दिन शनि सेवा आराधना में जाना चाहिए | इस दिन सुबह सूर्योदय से पूर्व उठ कर नित्य कर्म करके स्नान कर लेना चाहिए | उसके बाद शनिदेव के मंदिर में जाकर विधि पूर्वक पूजन करना चाहिए |शनिवार के दिन शनि भक्तो की बहूत भारी संख्या […]

Read more

शनि काले और सूर्य के शत्रु क्यों है

कौन है शनिदेव जाने

कौन है शनिदेव और क्यों पिता के शत्रु है हिन्दू धर्म में शनिदेव को सभी जानते है , शनिदेव एक अच्छे न्यायाधीश के रूप में जाना जाता है जो मनुष्य के अच्छे और बुरे कर्मो का फल उसकी क्रम में देते है | इनके डर से इनके भक्त कभी बुरा कर्म नही कर सकते | ज्यादातर लोगो की मानसिकता में […]

Read more

शनि को प्रसन्न करने के सरल और कारगर उपाय

कैसे करे शनि को प्रसन्न

शनि को प्रसन्न करने के उपाय कौनसे है यदि किसी व्यक्ति की कुंडली में शनि गलत जगह पर विराजमान है और इसी वजह से उस व्यक्ति को अनेको दुःख उठाने पड़ रहे हो तो शास्त्रों में बताये गये शनि को प्रसन्न करने के उपाय से आप इनकी कृपा के पात्र बन सकते है | शनि को खुश करने के लिए […]

Read more

शनि चालीसा

शनि चालिसा हिंदी में

शनि चालीसा हिंदी पाठ ।। दोहा ।। जय गणेश गिरिजा सुवन, मंगल करण कृपाल । दीनन के दुख दूर करि, कीजै नाथ निहाल ।। जय जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महाराज । करहु कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज ।। जयति जयति शनिदेव दयाला । करत सदा भक्तन प्रतिपाला ।। चारि भुजा, तनु श्याम विराजै । माथे […]

Read more
1 110 111 112 113 114 118