माँ कवलका मंदिर

माँ कवलका मंदिर में देवी करती मदिरापान

मदिरा पान करने वाले काल भैरव का मंदिर तो विश्व प्रसिद्द है , इन्ही के साथ साथ एक देवी मंदिर ओर भी ऐसा है जहा देवी माँ भक्तो द्वारा चढ़ाई मदिरा का पान करती है | यह  मंदिर  रतलाम शहर से लगभग 32 किमी की दूरी पर  सातरूंडा गाँव में  स्थित है । यहा माँ माता कवलका नाम से भक्तो […]

Read more

आठ चिरंजीवी जो अभी तक जीवित है

आठ चिरंजीवी

हिंदू इतिहास और पुराण अनुसार ऐसे सात व्यक्ति हैं, जो चिरंजीवी हैं। यह युगों पहले जन्मे और अभी तक इसी धरती पर वास करते है | इनमे से बहुत आशीष से और कुछ दण्ड रूप में इस धरती पर रह रहे है | यह दिव्य शक्तिओ के मालिक है और अष्ट सिद्धियों के प्राप्ति है : इस श्लोक के माध्यम […]

Read more

भूल से भी ना लगाये यह तस्वीरे घर में

तस्वीरो में वास्तुशास्त्र दोष

घर में लगी तस्वीरे भी वास्तुदोष का कारण बन सकती है जिससे घर में सुख शांति में विध्न आ सकता है | अत: सोच समझकर ही अपने घर में तस्वीरे लगाये | कभी कभी गलत तस्वीर लगाने से आप अनजाने में ही नकारात्मक शक्तियों को आमंत्रित कर लेते है और फिर उसकी हानि पुरे परिवार को भोगनी पड़ती है | […]

Read more

लाइलाज बीमारी का इलाज

लाईलाज बीमारी का ईलाज

बहुत सी बीमारिया ऐसी होती है की विज्ञान और डॉक्टर भी उन्हें टीक नही कर पाते पर चमत्कार भी होते है और कभी कभी यह चमत्कार आपको बीमारी से निजात दिला देते है | जरुरी नही की निचे दिए जाने वाले इलाज सभी के लिए कारगर हो पर इन्हे करके यदि बीमारी को ठीक किया जा सके तो इसे करना […]

Read more

कैसे चढ़ाये हनुमान जी के चोला

हनुमान जी के चोला चढाने की विधि

हनुमान जी को  शीघ्र प्रसन्न करने का उपाय है की उन्हें मंगलवार या शनिवार को सिंदूरी चोला चढ़ाया जाये | अपने भगवान श्री राम के दीर्घायु के लिए उन्होंने यह चोला धारण किया था | इस चोले को चढाते समय कुछ बाते जरुर ध्यान रखे | शुद्ध जल और गंगा जल से स्नान : सबसे पहले हनुमानजी की प्रतिमा को […]

Read more

भैरव जी के सभी रूप

भैरवजी के रूप

भैरव के कई रूप है कुछ इसे कुछ 12 तो कोई आठ और कुछ 9 रूप बताते है | यह जो नौवा रूप है वो भविष्य भैरव का बताया गया है जिससे गुप्त भैरव के नाम से भी जाना जाता है | यह भैरव भविष्य में आने वाली मुसीबतों को ख़त्म करने वाले है | जो भैरव के 12 स्वरुप […]

Read more

भैरव जी के सिद्ध मंत्र

भैरव के मंत्र

भैरव रूद्र शिव के त्रिनेत्र की ज्वाला से जन्मे है | इनका जन्म अहंकार और असत्य के नाश के लिए हुआ है | ज्यादातर मनुष्य इन्हे रूद्र उग्र देवता के रूप में मानते है और पूजते है | पर इनका एक बहूत ही प्यारा और सोम्य रूप बटुक भैरव का भी है | भैरव के वैसे तो आठ रूप है […]

Read more

कैसे करे भैरव जयंती पर पूजा पाठ

भैरव की पूजा विधि – कालाष्टमी विशेष Worship Method of Kaal Bhairava On Bhairav Jayanti 2018 मार्गशीर्ष मास की कृष्णपक्ष अष्टमी  (आठे) (  नवंबर / दिसम्बर  ) को भगवान शिव ने अपने त्रिनेत्र से इन्हे ब्रह्मा  का झूठा अहंकार खत्म  करने के लिए अवतरित किया था | इस साल 2018 में भैरव जयंती 29 November गुरूवार को आ रही है […]

Read more

श्री भैरव चालीसा

भैरव चालीसा

जाने भैरव चालीसा के पाठ के बारे में जो भैरव के गुणों और महिमा का अति सुन्दरतम व्याख्या करता है  | यह चालीस पंक्तिया भैरवनाथजी की छवि महिमा और सिद्धियों को बताती है | ॥ दोहा ॥ श्री गणपति, गुरु गौरि पद, प्रेम सहित धरि माथ । चालीसा वन्दन करों, श्री शिव भैरवनाथ ॥ श्री भैरव संकट हरण, मंगल करण […]

Read more

भैरव की भैरवीया

भैरव की भैरविया

भैरव के साथ भैरवी पूजन का भी विधान है | हर शक्तिपीठ पर माँ के हर रूप के साथ कोई ना कोई भैरव विद्यमान है | आप जितने भी शक्तिपीठो में जायेंगे आपको हर शक्ति (भैरवी ) के साथ भैरव भी उस पीठ में दिखाई देंगे | ये दोनों एक दुसरे के बिना अपूर्ण है | महाकाल के बिना महाकाली […]

Read more
1 107 108 109 110 111 118