शीतलाष्टमी बासोड़ा पर क्यों खाते है ठंडा खाना

शीतलाष्टमी व्रत जिसे बासोड़ा या बासेडा भी कहते है | शीतलाष्टमी चैत्र मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को मनायी जाती है। इसमें शीतला माता का व्रत और पूजन किया जाता है। शीतला अष्टमी व्रत को करने से व्यक्ति के सारे परिवार में दाह ज्वर, पीत ज्वर, दुर्गन्ध से युक्त फोड़े, आंखों के सारे रोग, माता की फुंसियों के निशान […]

Read more

पानी से दीपक जलने वाला देवी माँ का मंदिर

पानी से दीपक जले देवी माँ मंदिर

धर्म और आस्था में कई ऐसे चमत्कार होते है जिनसे भगवान में ओर भी श्रद्दा बढ़ जाती है | ऐसा ही एक चमत्कार एक देवी के मंदिर में दिखाई देता है जिसमे दीपक को जलाने के लिए किसी घी या तेल की जरुरत नही होती | यह क्रम आज से नही बल्कि पिछले पाँच साल से चल रहा है | […]

Read more

होलिका दहन की पूजा कैसे करे

होलिका दहन प्रहलाद की भक्ति की शक्ति और भगवान विष्णु की कीर्ति की याद में मनाई जाती है | इस दिन सभी होलिका की पूजा करते है | होलिका की पूजा में काम आने वाली सामग्री : पवित्र जल का लोटा , कुमकुम , चावल , कच्चा सूत , मूँग , हल्दी गाठ , बताशे , नारियल पुष्प , गंध […]

Read more

विष्णु के अवतार भगवान नरसिंह की कहानी

भगवान नरसिंह जी की महिमा Narsingh Avatar Story in Hindi नरसिंह भगवान अपने नाम के अनुसार आधे सिंह और आधे नर थे | शरीर मनुष्य का था पर चेहरा और हाथो के पंजे शेर के थे |  यह विष्णु के अवतार थे और उन्होंने यह रूप इसलिए धारण किया था की सिर्फ इसी रूप से वो हिरण्यकश्यप को मार सकते थे […]

Read more

होलिका दहन पर लाभकारी टोटके

Holika Dahan par Labhkari or Chamtkari totke इस साल 2019 में होलिका दहन 20 मार्च को है | यह भारत के सबसे बड़े पर्व में से एक है | होलिका दहन भक्त प्रहलाद , उसकी बुआ होलिका और भगवान नरसिंह जी की याद में मनाया जाता है | यह पर्व सन्देश देता है की जिसके साथ भगवान हो उसका कोई […]

Read more

सावित्री के श्राप से ब्रह्माजी का एकमात्र मंदिर पुष्कर में

बह्र्माजी देव का पुष्कर मंदिर

Brahma Temple, Pushkar एक बार एक असुर (Demon ) की हत्या करते करते ब्रह्माजी  के हाथो से तीन कमल के पुष्प गिर गए जिससे धरती पर तीन झीले बन गयी । यही स्थान पुष्कर कहलाया । ब्रह्माजी  की इच्छा हुई की यहा हवन किया जाये पर उनकी पत्नी सावित्री इस हवन में आ नहीं सकी । हमारी परम्परा के अनुसार […]

Read more

जाने सृष्टि के रचियता ब्रह्माजी के बारे में

कौन है बह्र्माजी

भारतीय सनातन धर्म में त्रिदेव की के रूप में ब्रह्मा विष्णु और महेश को पूजा जाता हैं । इनमे ब्रह्माजी को इस सृष्टी का रचियता का पद प्राप्त है । यह बह्रम लोक में निवास करते है पर कमल इनका सबसे प्रिय पुष्प है । इनके चार मुख है जो चारो दिशाओ का प्रतिनिदित्व करते है । इनकी जीवन संगिनी […]

Read more

मंदिर में परिक्रमा क्यों लगाई जाती है

आप मंदिर जाते है , उस मंदिर में देवी देवताओ से आशीष प्राप्त करते है और साथ में ही लगाते है उनके चारो तरफ परिक्रमा | क्या आप जानते है की मंदिर के चारो तरफ परिक्रमा क्यों लगाई जाती है ? मंदिर नित्य पूजा स्थली होने के कारण सकारात्मक और  आध्यात्मक ऊर्जा का केंद्र होता है | जब हम मंदिर […]

Read more

लकवे का इलाज करता एक मंदिर – बुटाटी धाम नागौर राजस्थान

बूटाटी धाम लकवे का ईलाज

Butati Dham For Paralysis Treatment राजस्थान की धरती पर के ऐसा मंदिर भी है जहा देवी देवता आशीष ही नही बल्कि लकवे ( Paralysis ) के रोगी को इस रोग से मुक्त कर देते है | इस मंदिर में दूर दूर से लकवे के मरीज अपनों के सहारे आते है पर जाते है खुद के सहारे | कलियुग में ऐसे […]

Read more

हनुमानजी को प्रसन्न करने वाली पूजा में चीजे

हनुमानजी को पसंद है यह चीजे

हनुमानजी को प्रसन्न करने के लिए पूजा में क्या क्या चढ़ाये | हनुमान जी को प्रसन्न करने के लिए यह चढ़ाये : १) सिंदूर : हनुमान जी को सिंदूर या चोला चढाने से यह अति शीघ्र प्रसन्न होते है | कहते है सीता माता को श्री राम जी के नाम का सिंदूर लगाते हुए हनुमानजी ने देख लिया था | […]

Read more
1 104 105 106 107 108 116