क्यों भक्तो में खाटू श्याम जी है इतने प्रसिद्ध

Why Khatu Shyam Ji So Famous in his Bhakts . Know Story of Him and his temple .

खाटू श्याम जी कलियुग के ऐसे भगवान है जिनकी आस्था दिन पर दिन बढती जा रही है | स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने कुरुक्षेत्र की युद्ध भूमि से इनका शीश नव देवियों से संचित करके कलियुग में घर घर में पूजे जाने का वरदान दिया था | आज इन्हे हारे का सहारा , लखदातार आदि नामो से जाना जाता है | राजस्थान की राजधानी जयपुर से 80km की दुरी पर खाटू गाँव में  यह दरबार किसी को निराश नही करता और उसके जीवन के दुःख हर लेता है | जो एक बार खाटू धाम आकर इनके दर्शन कर लेता है वो हमेशा के लिए इनका हो जाता है |

कौन है खाटू श्याम जी – श्याम बाबा

महाभारत काल में भीम के पुत्र घटोत्कच और पुत्रवधू कामकंकता (मोर्वी ) के सुपुत्र वीर बर्बरीक हुए | इन्होने महीसागर संगम (गुजरात ) में देवी कात्यायनी  की घोर तपस्या की | माँ ने प्रसन्न होकर उन्हें ऐसी भभूत दी जिसे वो यदि बाण में लगाकर छोड़ दे तो बड़ी से बड़ी सेना जल भस्म हो जाये | माँ की कृपा से वे त्रिलोकी में सबसे बड़े धनुर्धर बन चुके थे | इन्हे तीन बाण धारी भी पुकारा जाने लगा |

माँ को दिया था वचन , दूंगा हारे का साथ

कुरुक्षेत्र के मैदान में पांडव और कौरव सेना आमने सामने अपनी जीत के लिए खड़ी थी | और जिस तरफ श्री कृष्ण हो फिर वो पक्ष कैसे हार सकता था | अत: वीर बर्बरीक ने कौरवो की तरफ से युद्ध में भाग लेने का निर्णय लिया | श्री कृष्ण जानते थे कि यदि बर्बरीक कौरवो की तरफ से युद्ध लडेगा तो पांडवो को हार का सामना करना पड़ सकता है |

धर्म की जीत के लिये  लिया शीश का दान

sheesh daan barbreek shyam

धर्म की जीत हो और अधर्म की हार हो अत: श्री कृष्ण ने अपने सुदर्शन चक्र से वीर बर्बरीक का शीश विच्छेद कर दिया | इस महादान के बाद उनके आग्रह पर नव शक्तियों ने इस शीश को अमृत से सींचा | कृष्ण ने उन्हें अपना नाम श्याम दिया और कलियुग में सच्चे दरबार और घर घर पूजे जाने का वरदान दिया | तुम्हारे  स्मरण मात्र से ही भक्तों का कल्याण होगा और धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष कि प्राप्ति होगी. हारे हुए को सहारा तेरे द्वार पर मिलेगा |

खाटू भूमि से शीश का प्रकट होना

आज से 300 साल पहले खाटू नगरी में एक गौ माँ का दूध स्वत ही जमीन में रसने लगा | यह बात उस गौ मालिक  गोपाल को चकित कर गयी | उस नगरी के राजा को भी सपने में एक शीश के दर्शन हुए और राजा से उसी जगह जमीन खोद कर मंदिर में  शीश स्थापना की बात कही | अगले दिन राजा उसी जगह अपने साथियों के साथ गया और जमीन खोदने लगा | थोड़ी खुदाई के बाद उन्हें शीश के दर्शन हुए | और उन्होंने गाजे बाजे के साथ शीश की स्थापना कर मंदिर का निर्माण करवाया |

भक्तो की होने लगी मन्नते पूर्ण

खाटू के इस मंदिर में फिर आस पास से भक्तो की भीड़ बाबा के दर्शन करने आने लगी | उन्हें बाबा के दर्शन करके असीम शांति की प्राप्ति होती | उनके जीवन में दुखो के बादल छठ जाते | धीरे धीरे पूजा राजस्थान और फिर भारत के कोने कोने से भक्त आकर श्याम दर्शन पाने लगे | आज बाबा की नगरी में उनके भक्तो की संख्या 50 लाख से ऊपर हो गयी है | बाबा श्याम का सबसे प्रिय दिन एकादशी का बताया जाता है | इस दिन लाखो भक्त बाबा श्याम के दर्शन पाने खाटू धाम आते है |

बाबा के बारे में और अधिक जानकारी के लिए इनकी वेबसाइट पर जाए :

http://www.khatushyam.in

Other Similar Posts

जयपुर के मुख्य दर्शनीय और धार्मिक स्थल जो है आस्था के केंद्र

वृन्दावन धाम में दर्शनीय स्थल और मंदिर

करणी माता मंदिर जो है अनोखा और चमत्कारी -देशनोक बीकानेर

तिरुपति बालाजी के मंदिर के इस रहस्यों को जानकर आपके उड़ जाएंगे होश

कैसे जन्मे पांडव जबकि पांडु का अंश नही था उनके शरीर में

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.