उज्जैन के खेडापति हनुमान के चमत्कारी कुण्ड में स्नान से दूर होते असाध्य रोग

उज्जैन के खेडापति हनुमान का  चमत्कारी कुण्ड

अवंतिका नगर उज्जैन के सर्वाधिक प्राचीन मंदिरों में से एक श्री खेड़ापति हनुमान मंदिर आगर रोड उज्जैन पर स्थित है| यह उज्जैन से 105 किमी की दुरी पर स्थित है | यह ४०० साल पुराना बताया जाता है | यहा हनुमान जी की प्रतिमा को श्री श्री स्वामी कृपानिवास रसिका-चार्य महाराज ने अपने हाथो से स्थापित किया था | इनके ही वंशजो द्वारा मंदिर की पूजा-अर्चना व मंदिर के सभी उत्सवों की देखरेख व कार्य आज तक किया जा रहा है |


khedapati hanuman temple

पढ़े : मंगल दोष को दूर करने वाला उज्जैन का मंगलनाथ मंदिर

चमत्कारी कुण्ड जो दूर करता है असाध्य रोगों को

यहां स्थित खेड़ापति हनुमान मंदिर के सामने बने कुंड में स्नान करने पर असाध्य रोग भी ठीक हो रहे हैं। हर मंगलवार और शनिवार को यहां हजारों लोग अपने दुख-दर्द लेकर आते हैं और आस्था के साथ कुंड में स्नान कर भगवान के दरबार में मत्था टेक खुशी-खुशी वापस जाते हैं। लोग बताते हैं कि यहां कैंसर और जटिल चर्मरोगी भी ठीक हुए हैं |


पढ़े चिंतामण गणेश मंदिर उज्जैन

मंदिर के महेश पुजारी के अनुसार पास के गांव की एक महिला चर्म रोग से पीडि़त थी। कई जगह इलाज करवाने के बाद भी उन्हें लाभ नहीं हो रहा था। एक बार उन्हें खेड़ापति हनुमान ने स्वप्न में दर्शन दिए और कहा कि मेरे दरबार में आओ और सामने तालाब में बने कुंड में स्नान करो। तुम्हारे सारे रोग ठीक हो जाएंगे।वहां स्नान करने के बाद ठीक हो गई।

एक और चमत्कार झालावाड़ के एक व्यक्ति को भी भगवान ने स्वप्न में दर्शन इस पवित्र कुण्ड में स्नान करने की बात कही | यह स्वप्न देखकर व्यक्ति ने उस कुण्ड में स्नान कर अपनी लाइलाज बीमारी का ईलाज माँगा और कुछ दिनों में ठीक हो गया |  इसके बाद जैसे ही यह खबर फैली लोग यहां आना शुरू हुए।  महेश पुजारी बताते हैं कि यहां लगातार पांच मंगलवार या शनिवार को स्नान करने  से शुजालपुर के पास स्थित गांव में रहने वाली दो कैंसर पीडि़त महिलाएं भी ठीक हुई हैं। यहां दूसरे प्रदेशों के लोग भी आ रहे हैं।

गर्मी में लबालब हुआ तालाब

गांव के निवासियों के अनुसार पहले यह छोटा सा तालाब था पर जब उस व्यक्ति ने इसमे स्नान किया तब से लगातार इस तालाब का आकार बढ़ने लगा और आज यह लबालब भरा दिखाई देता है |

साभार : पत्रिका.कॉम

Other Similar Posts

हनुमान के पुत्र मकरध्वज की कथा

रामायण के प्रमाण जो बताते है इसकी सच्चाई

सांवेर के उलटे हनुमान मंदिर से जुड़ी कथा

हनुमान चालीसा में बताया गया है सूर्य और पृथ्वी की दूरी

संकट मोचन हनुमान स्त्रोत

रामचरितमानस की चमत्कारी चौपाई 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *