साल में एक ही बार खुलने वाले अनोखा मंदिर – नागचंद्रेश्वर मंदिर

हिंदी धर्म में सांपो या नागो को पूजनीय माना जाता है | ये नाग देवता के रूप में माने जाते है | भगवान शिव ने इन्हे अपने आभूषण बना रखे है तो भगवान विष्णु इनकी शय्या पर सोते है |
naag chandreshwar temple ujjain

महाकाल की नगरी उज्जैन में ऐसा ही एक मंदिर है जो नाग देवता को समर्प्रित है | यह मंदिर पुरे साल में बस एक बार खुलता है | वह दिन नागो की पूजा का दिन नागपंचमी का होता है | इस मंदिर का नाम नागचंद्रेश्वर है | देश विदेश से दर्शन करने आते है भक्त | यह मंदिर रात 12 बजे खुलता है और पूरी विधि विधान से पूजा अर्चना की जाती है |

कहाँ है यह नागचंद्रेश्वर मंदिर

यह अनोखा मंदिर उज्जैन में स्थित महाकाल मंदिर के तीसरी मंजिल पर स्थित है | प्रबल मान्यता है की नाग पंचमी के दिन इस मंदिर में स्वयं नाग राज तक्षक मौजूद रहते है | मंदिर एक दिन के लिए 24 घंटे खुला रहता है |naag chandreshwar idol

मंदिर का इतिहास


इस मंदिर में भगवान शिव और माँ पार्वती की प्रतिमा के फन फैलाये नाग पर विराजमान है | यह पहला मंदिर है जहा शिव और पार्वती नाग पर बैठे हुए है | यह प्रतिमा ग्यारवी शताब्दी की है जो नेपाल देश से लायी हुई बताई जाती है | इस मूर्ति के दाए बाए गणेश जी और कार्तिकेय भी बैठे हुए है | सभी प्रतिमाये एक ही स्लेटी रंग के पत्थर पर बनाई हुई है |

Other Similar Posts

कैसे करे नाग पंचमी पर पूजा

सावन सोमवार व्रत करने की विधि – भगवान शिव होंगे प्रसन्न

क्यों हिन्दू देवी देवताओ के मंदिर में घंटी बजाई जाती है

पुराणों के अनुसार यह काम करने से होती है उम्र कम

क्यों शिव पूजा का दिन माना गया है प्रदोष – जाने महिमा

शिव मंदिर में नाग देवता की विशेष पूजा

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *