नागवासुकी मंदि‍र – यहां दूर होता है कालसर्प योग का दोष

नागवासुकी मंदि‍र – कालसर्प दोष होगा दूर

उत्तर प्रदेश के इलाहाबाद का नागवासुकी मंदिर सर्प देवता को समर्प्रित मंदिर है . इस मंदिर की सबसे बड़ी मान्यता है की यहा पर दर्शन करने से कालसर्प दोष खत्म हो जाते है | यह वही सर्प राज है जिन्हें भगवान शिव अपने गले में नर मुंड माला के साथ लपेटे रखते है |


नाग वासुकी मंदिर प्रयाग

मंदिर में शेषनाग और वासुकीनाग की मूर्तियां

नागवासुकि मंदिर में शेषनाग और वासुकी नाग की मूर्तियां हैं. कुंभ, अर्द्धकुंभ और नागपंचमी के दिन लाखों तीर्थयात्री इस मंदिर में दर्शन-पूजन करने आते हैं.  पुराणों में भी इस मंदिर के बारे में बताया गया है | इस मंदिर के देवता का नागराज होना , इसे दुसरे मंदिरों से अलग करता है | लाखो भक्त और दर्शनार्थी दूर दूर से दर्शन करने आते है |


पढ़े : तीर्थराज प्रयाग संगम की महिमा और दर्शनीय स्थल 

पढ़े : भारत के रहस्यमई और चमत्कारी मंदिर

कालसर्प दोष होता है खत्म

इस मंदि‍र में दर्शन-पूजन के लि‍ए दूर-दूर से लोग आते हैं. ऐसी मान्‍यता है कि यहां नागवासुकी के चौखट पर पूजा करवाने से कालसर्प दोष खत्म होता है. प्रयाग के संगम में पवित्र स्नान करे फिर  इस मंदिर में चना, मटर, फूल, माला और दूध के साथ जाये | शेषनाग जी मूर्ति के दर्शन करे और उन्हें यह चीजे अर्पित कर कालसर्प दोष को दूर करने की विनती करे |

किस जगह है नागवासुकी मंदिर

vasukiयह मंदिर गंगा के किनारे दारागंज मोहल्ले के उत्तरी छोर पर है. इस मंदिर में नागवासुकि देव का पूजन होता है. नागवासुकि को शेषराज, सर्पनाथ, अनंत और सर्वाध्यक्ष कहा गया है.

भोगवती तीर्थ

गंगा जब स्वर्ग से धरती पर आई तो उसकी एक धार पाताल लोक तक भी गयी | पाताल में वो धारा वासुकी के फन पर गिरनी से भोगवती तीर्थ बना | नाग वासुकी और शेष भगवान फिर इसी जगह प्रयाग में आये और अपना आंशिक वास दे गये |

नागवासुकी क्षेत्र में विषधर नागों का निवास

कुछ पुरानी किताबो से पता चलता है की इस क्षेत्र में पहले विषधर नागों  का वास था | यहा एक ऊँचा मिट्टी का टीला था जिसपर बहुत किस्म के नाग रहते थे |

Other Similar Posts

साल में एक ही बार खुलने वाले अनोखा मंदिर  नागचंद्रेश्वर मंदिर उज्जैन

अनोखा नागराज मंदिर पर भक्त नही कर पाते यहा देवता के दर्शन

इस शिव मंदिर में नाग कर रहा है कई सालो से शिवजी की पूजा

नागमण‌ि का सच्च और रहस्य क्या है

कालसर्प दोष दूर करने के ( निवारण ) उपाय

मंगल दोष को दूर करने के लिए मंगलनाथ मंदिर उज्जैन में होती है पूजा

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *