करणी माता मंदिर जो है अनोखा और चमत्कारी -देशनोक बीकानेर

Karni Mata Temple , Deshnok , Bikaner करणी माता का मंदिर देशनोक बीकानेर

दोस्तों , हिन्दू धर्म जिसे हम सनातन धर्म के नाम से भी जानते है , कई युगों से चला आ रहा है | भारत और विदेशो में हिन्दू देवी देवताओ के कई चमत्कारी मंदिर है | आज हम जिस मंदिर की बात करेंगे वो है बीकानेर के पास देशनोक में स्थित करणी माता का मंदिर | यह चूहों वाली माता का मंदिर और मूषक मंदिर भी कहलाता है |


करणी माता का मंदिर देशनोक

करणी माता का मंदिर देशनोक बीकानेर

इस मंदिर में कदम कदम पर चूहे मिलेंगे | यह कोई सामान्य चूहे नही ,बल्कि माँ के आशीष से मूषक जन्म पाने वाले चूहे है | सबसे हैरान करने वाली बात यह है की , यहा जो प्रसाद भक्तो को बांटा जाता है वो भी इन चूहों का झूठा होता है | इस प्रसाद को खाने के बाद भी कोई बीमारी भक्तो को नही लगती | भक्त इसको माँ करणी का चमत्कार ही बताते है |


पढ़े : देवी देवताओ से जुडी मुख्य पौराणिक कथाये

पढ़े : देवी देवताओ की पूजा से जुड़े मुख्य लेख 

कौन है करणी माता

करणी माता को माँ शक्ति का अवतार माना जाता है | यह अपने जन्म से कई चमत्कार दिखाने लगी थी | 1444 में चारण कुल में इनका अवतरण हुआ | इनका रिघुबाई भी नाम था |

करणी माता फोटो

करणी माता की देशनोक में फोटो



इनका विवाह किपोजी चारण से हुई पर फिर यह भक्ति भाव में लग गयी | इन्होने सांसारिक चीजो का त्याग कर दिया | इन्होने फिर लोगो को कई चमत्कार दिखाए और इनकी महिमा चारो तरफ फैलने लगी | इन्हे करणी माता के नाम से पुकारा जाने लगा | इन्होने जनकल्याण , पशु पक्षी और पेड़ो के लिए कई कार्यक्रम भी चलाये |

माँ करणी का रूप :  फोटो में माता की सवारी शेर है |उनके हाथ में त्रिशूल और एक हाथ में दैत्य का कटा सर है | इनके चरणों में बहुत सारे चूहे बैठे हुए है |

कहाँ है यह मंदिर ?

करणी माता मंदिर राजस्थान के बीकानेर जिले से 30 किमी की दुरी पर देशनोक नामक जगह पर स्थित है | बीकानेर से आपको लोकल गाड़ियां इस करणी माता के मंदिर तक आसानी से पहुंचा देगी | मान्यता है की इस करणी माता के मंदिर में एक गुफा है जहा यह अपने आराध्य माता की पूजा करती थी | यह मंदिर संगमरमर द्वारा बना हुआ है | यहा चांदी के कलामय दरवाजे है | नवरात्रि में भव्य मेला यहा भरता है |

करणी माँ के मंदिर में चूहों का रहस्य

पुरे मंदिर परिसर में लगभग 25,000 चूहे है | इन सभी को बड़ी आस्था से देखा जाता है | ये सभी चूहे माँ करणी के वंशज माने जाते है | इसके पीछे दो कथाये बताई जाती है | पहली कथा के अनुसार एक बार माँ करणी के पुत्र की अकाल मृत्यु हो गयी थी | करणी ने अपनी तपस्या से यम देवता को प्रकट होने के लिए विवश किया और अपने पुत्र को पुनः जीवन दान देने की मांग करी | यम ने उनके पुत्र को चूहे के रूप में जीवन दान दिया | तब से चूहों को उनकी संतान माना जाता है |

चूहों वाली माता का मंदिर

करणी माता के मंदिर में चूहे प्रसाद लेते हुए

दूसरी कथा लोक कथा है जिसके अनुसार एक बार करणी माता के राज्य पर अन्य राज्य के हजारो सैनिको ने हमला कर दिया | माँ करणी ने उन सभी को चूहों का रूप दे दिया और अपनी सेवा में यहा रख लिया |

सफेद चूहे के दर्शन करते है मनोकामना पूर्ण

मंदिर में हजारो चूहों के दर्शन तो सभी भक्तो को होते है |  कुछ भक्त भाग्यशाली माने जाते है जिन्हें सफेद रंग के चूहे के दर्शन हो जाये | माना जाता है उन भक्तो पर माँ करणी की कृपा होती है | उनकी विनती माँ जल्दी ही पूर्ण करती है |

अन्य चमत्कारी और रहस्यमयी हिन्दू मंदिर

  1. उज्जैन का चमत्कारी काल भैरव मंदिर – हर भक्त की मदिरा पीते है काल भैरव आँखों के सामने
  2. जगत का सबसे चमत्कारी शनि मंदिर शिंगणापुर
  3. सांवलिया सेठ मंदिर के चमत्कार
  4. संतान होने की गारंटी देने वाला यह मंदिर 
  5. बुलेट बाबा ओम बन्ना का चमत्कारी मंदिर- यहा होती है बाइक की पूजा

 

 

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.